Har din kuch naya sikhe

Learn Something New Every Day.

11/25/2020

history of india in hindi notes, भारत का इतिहास नोट्स

By:   Last Updated: in: ,

history of india in hindi, भारत का इतिहास;नमस्कार मित्रों स्वागत है आप सभी का हमारे blog पर, इतिहास सूचनाओं का विशाल भण्डार होता है। हमारे समाने अनेक उलझी समस्याओं का हल हमे इतिहास मे ढूँढने पर मिल जाता है। इतिहास का ज्ञान प्राप्त किये बिना मनुष्य अपने जीवन की पहलियों को नही समझ सकता। इतिहास भूतकाल के अनुभव, भूलो और कठिनाइयों का हमे दर्शन करता है, साथ ही साथ इतिहास आत्मज्ञान का भी साधन है। स्वयं को जानना मनुष्य के व्यक्तित्व के लिये आवश्यक है, अर्थात् स्वयं को जानने के लिए आवश्यक है कि मनुष्य यह जाने कि वह क्या-क्या कर सकता है?

इतिहास मे हमे भाषा-साहित्य, दर्शन,नैतिक मूल्य, ज्ञान-विज्ञान कला, आर्थिक सामाजिक राजनीतिक विकास इत्यादि मनुष्य जीवन के सभी अंगो से संबंधित सूचनाओं का भंडार मिल जाता है।  इसलिए इतिहास का अध्ययन करना हमारे लिए जरूरी है। 

यदि आप history of India in hindi search कर Google से इस पेज पर आये है तो अवश्य ही आप किसी परिक्षा की तैयारी कर रहे होगे, विशेष कर सिविल सेवा (IAS) लेकिन ऐसा जरूरी नही है की केवल परिक्षा हेतु ही इतिहास का अध्ययन किया जाएं। चाहे भारत का हो या फिर किसी भी देश का नागरिक उसे अपने देश का इतिहास का अध्ययन अवश्य ही करना चाहिए।

यदि आप Google पर search कर रहे थे, history of india in hindi, indian history notes in hindi, indian history in hindi pdf, भारत का इतिहास, History of ancient india in hindi तो आप बिल्कुल सही जगह पर है। लेकिन अभी के लिए इस साइट पर सम्पूर्ण भारत का इतिहास उपलब्ध नही है, इसके लिए हम आपसे माफ़ी मांगते है, लेकिन चिंता न करे हम इस पर काम कर रहे है और जल्दी ही सम्पूर्ण भारत का इतिहास इस पेज पर उपलब्ध होगा। इस पेज पर अभी प्राचीन भारत का इतिहास और भारत का इतिहास 1740 से 1857 ई. तक का उपल्ब्ध है। मध्यकालीन भारत का इतिहास और भारत का इतिहास सन् 1858 से 1950 ई. तक के इतिहास पर काम चल रहा है जो कि जल्द ही उपलब्ध होगा। 

India History in hindi के इन नोट्स मे सम्पूर्ण जानकारी नही है, लेकिन अन्य साइटों की तुलना मे यहाँ पर विस्तृत जानकारी है, इंटरनेट पर इस साइट से ज्यादा विस्तृत जानकारी आपको और कही नही मिलेंगे। यहाँ पर भारत के इतिहास के Important नोट्स दिए गये है। 

यह नोट्स मध्यप्रदेश हिन्दी अकादमी,  कैलाश पुस्तक सदन, बी एन बी पब्लिकेशन और विश्वविद्यालय प्रकाशन के सहयोग से बनाये गये है। 

मध्यप्रदेश हिन्दी अकादमी प्रादेशिक भाषाओं मे विश्वविद्यालय स्तरीय ग्रंथों और साहित्य के निर्माण के लिए भारत सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय (शिक्षा विभाग) की केन्द्र प्रवर्तित योजना के अन्तर्गत संचालित है। मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रंथ अकादमी ना लाभ और ना हानि के सिद्धांत पर कार्य करती है। मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रंथ अकादमी की पुस्तके अन्य पुस्तकों की तुलना है काफी सस्ती है, आप इन से अध्ययन कर सकते है।

कैलाश पुस्तक सदन भोपाल द्वारा प्रकाशित होती है, इस सदन की पुस्तकों की भाषा काफी सरल और सहज है। आप अध्ययन के लिए कैलाश पुस्तक सदन की पुस्तकों को भी खरीद सकते है। 

बी एन बी पब्लिकेशन और विश्वविद्यालय प्रकाशन 20 प्रश्न है इन पुस्तकों मे संक्षिप्त जानकारी होती है, लेकिन उपयोग होती है। 

हमारे अध्ययन का विषय भी इतिहास ही रहा है, इसलिए हमे इतिहास का काफी अनुभव हो गया है। इतिहास के इन नोट्स को काफी सरल, स्पष्ट और सहज भाषा मे लिखा गया है, ताकि आपको इन्हें समझने मे किसी भी प्रकार की परेशानी न हो, इन नोट्स को तैयार करते समय किताबी भाषा मे लिखने से बचा गया है, ताकि आपको शीघ्र समझ आ सके।

indian history notes in hindi (भारत का इतिहास)

प्रचीन भारत का इतिहास (History of ancient india in hindi)

हड़प्पा या सिंधु सभ्यता क्या है? खोज, विस्तार क्षेत्र

सिंधु या हड़प्पा सभ्यता के पतन के कारण

जैन धर्म के सिद्धांत/आदर्श, शिक्षाएं या विशेषताएं

बौद्ध धर्म के सिद्धांत/आदर्श, शिक्षाएं या विशेषताएं

सिकंदर का भारत पर आक्रमण, प्रभाव/परिणाम

 ●चन्द्रगुप्त मौर्य का परिचय, चन्द्रगुप्त मौर्य का इतिहास

चन्द्रगुप्त मौर्य की उपलब्धियां या विजय

अशोक का धम्म (धर्म) किसे कहते है? अशोक के धम्म के सिद्धांत, विशेषताएं, मान्याएँ, आर्दश

सम्राट अशोक को महान क्यों कहा जाता है? अशोक की उपलब्धियां

मौर्यकालीन कला या स्थापत्य कला

गांधार शैली क्या है? गांधार शैली की विशेषताएं

मथुरा शैली की विशेषताएं

शुंग कौन थे? शुंग वंश की उत्पत्ति

पुष्यमित्र शुंग की उपलब्धियां

मौर्य साम्राज्य के पतन के कारण

कुषाण कौन थे?

गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण काल क्यों कहा जाता है

गुप्त काल का सामाजिक जीवन

गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण काल क्यों कहा जाता है

समुद्रगुप्त की उपलब्धियां

चन्द्रगुप्त द्वितीय/विक्रमादित्य की उपलब्धियां

गुप्त काल का सामाजिक जीवन

हर्षवर्धन की उपलब्धियां

चालुक्य कौन थे? चालुक्य वंश की उत्पत्ति

● पुलकेशिन द्वितीय की उपलब्धियां

● भारत (सिंध) पर अरबों का आक्रमण, कारण और प्रभाव या परिणाम

● महमूद गजनवी का इतिहास/ भारत पर आक्रमण, कारण, प्रभाव या परिणाम

मोहम्मद गौरी के भारत पर आक्रमण, कारण, उद्देश्य, प्रभाव

history of india from 1740 to 1857 in hindi (भारत का इतिहास 1740 से 1857 ई. तक) 

यूरोप शक्तियों का भारत मे आगमन

आंग्ल फ्रांसीसी संघर्ष मे अंग्रेजों की सफलता के कारण

पानीपत का तृतीय युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम

प्लासी युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम व महत्व

बक्सर युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम

हेस्टिंग्ज के प्रशासनिक, न्यायिक सुधार

रेग्यूलेटिंग एक्ट धाराएं, कमियां, कारण, महत्व

पिट्स इंडिया एक्ट, धाराएं, कारण, महत्व

कार्नवालिस के प्रशासनिक सुधार

मराठों के पतन के कारण

डलहौजी के प्रशासनिक सुधार

1857 की क्रांति के कारण और स्वरूप

ब्रह्म समाज के सिद्धांत एवं उपलब्धियां

राजा राममोहन राय का मूल्यांकन

लार्ड विलियम बैंटिक के सुधार

स्थायी बन्दोबस्त के लाभ या गुण दोष

महालवाड़ी व्यवस्था के लाभ या गुण एवं दोष

रैयतवाड़ी व्यवस्था के गुण एवं दोष

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।