Har din kuch naya sikhe

Learn Something New Every Day.

10/02/2020

बक्सर युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम

By:   Last Updated: in: ,

बक्सर का युद्ध (baksar ka yuddh)

baksar yuddh karan, ghatnaye, parinaam;बंगाल मे प्लासी युद्ध के परिणामस्वरूप मीरजाफर नवाब बन चुका था लेकिन वह शांति से नही रह सका। भारी मात्रा मे धन और भूमि अंग्रेजों को देने के कारण मीर जाफर के सम्मुख अनेक राजनैतिक और आर्थिक समस्याएं उपस्थित हो गयी। मीरजाफर नाममात्र का नवाब बन कर रह गया। सत्ता या शक्ति क्लाइव के हाथो मे थी। धन के अभाव मे सैनिक विद्रोह कर रहे थे। किश्तों को देने के लिए अंग्रेज दबाव डाल रहे थे। डचों का भी भय था किन्तु उन्हें क्लाइव ने पारजित कर दिया था। मीर जाफर ने दुर्लभराय और रामनारयण को दबाया जिससे राज्य मे असंतोष व्याप्त हो गया। सन् 1760 मे मुगल सम्राट आलमगीर का पुत्र अलीगौहर, अवध का मुहम्मद कुली खान कलाईव से पराजित हो चुके थे और इसके बदले मे मीर जाफर ने अंग्रेजों को कलकत्ता की दक्षिण भूमि दे दी थी। इतना सब कुछ करने के बाद भी मीर जाफर को हटाकर मीर कासिम को बंगाल का नबाब बना दिया गया।

बक्सर युद्ध के कारण (baksar ke yuddh ke karan)

1. मीर कासिम की योग्यता से अंग्रेजों को खतरा

अंग्रेजों ने मीर कासिम को नवाब बना दिया था। अंग्रेज चाहते थे कि अयोग्य व्यक्ति यदि नवाब बनेगा तो उनके नियंत्रण मे और उन पर निर्भर रहेगा। लेकिन ऐसा नही हुआ मीर कासिम योग्य निकला। अतः अंग्रेजों ने मीर कासिम को भी हटाने का निश्चय किया।

2. अंग्रेजो का अवैध व्यापार

1757 की भांति कंपनी के भ्रष्ट कर्मचारी अवैध व्यापार मे लगे थे। अपने नाम से वह देशी व्यापारियों का माल बिना चुंगी के भेजने लगे थे। प्रत्येक चौकी पर अंग्रेज भारतीयों की नौका को रोककर विलम्ब करते थे और उनसे रिश्वत मांगते थे। बिना अनुमति कारखाने, सैनिकों तथा किलों की संख्या बढ़ा दी गई। मीर कासिम ने यह सब रोकने के लिये कहा लेकिन अंग्रेजों ने उस की बात नही मानी। अतः आवश्यक हो गया है।

3. मीर कासिम के द्वारा व्यापार नियंत्रण

पहले मीर कासिम ने अवैध व्यापार को रोकने के लिये कंपनी से वार्ता की परन्तु न मानने पर विभिन्न चौकियों पर माल की जाँच-पड़ताल आरंभ की। इस पर भी जब अंग्रेज न माने तो देशी व्यापारियों की वस्तु पर से भी उसने चुंगी समाप्त कर दी। इससे कंपनी की भ्रष्ट आय रूक गई। अब कंपनी के कर्मचारी मीर कासिम को हटाने की मांग करने लगे।

4. समझौते के प्रयत्न असफल 

कंपनी ने मीर कासिम के पास वान्सेटार्ट को समझौते के लिये भेजा। वान्सेटार्ट ने अवैध व्यापार की बात तो स्वीकार की तथा अवैध व्यापार न करने की बात मान ली परन्तु कलकत्ता कौंसिल ने समझौते को अस्वीकार कर अप्रत्यक्ष रूप से अवैध व्यापार का समर्थन किया। वास्तव मे कौसिल ने मीर कासिम को हटाने का निश्चय कर लिया था। इससे संघर्ष अनिवार्य हो गया।

5. मीर कासिम को हटाकर मीर जाफर को पुनः नवाब बनाना

1763 मे अंग्रेजों ने मीर कासिम पर आक्रमण कर उसे पराजित किया तथा उसे हटाकर मीर जाफर को पुनः नवाब बना दिया गया। अंग्रेजों को पुनः वही भ्रष्ट व्यापार की छुट मिली गई। इससे भ्रष्टाचार अधिक बढ़ा। मीर जाफर निर्बल सिद्ध हुआ। लेकिन मीर कासिम ने अपने इस अपमान का बदला लेने का निश्चय कर लिया।

6. सम्राट, मीर कासिम और शुजाउद्दौला के संयुक्त प्रयास 

बंगाल से भागकर मीर कासिम बिहार और फिर अवध के नवाब शुजाउद्दौला के पास गया। इसी समय मुगल सम्राट शाह आलम भी अवध मे उपस्थित था। तीनों ने मिलकर अपनी प्रतिष्ठा स्थापित करने के लिये अंग्रेजों से संघर्ष करने का निश्चय किया। मीर कासिम ने इस युद्ध के लिये 11 लाख रूपये प्रतिमास अवध को देने का वचन दिया। अंग्रेज इस संयुक्त प्रयत्न को देखकर युद्ध के लिये तैयार हो गये।

बक्सर युद्ध की घटनाएं 

1763 मे मीर कासिम ने पटना से भागते समय लगभग 200 अंग्रेज बंदियों की हत्या करवा दी थी और सम्राट तथा अवध के साथ संयुक्त मोर्चा भी स्थापित कर लिया था अतः दोनों मे 1764 मे बक्सर के मैदान मे युद्ध हुआ। अंग्रेज सेनापति मनरो ने अवध के नवाब वजीर को पराजित कर दिया। मई 1765 मे शुजाउद्दौला अंतिम बार पराजित हुआ। दूसरी ओर मुगल सम्राट शाहआलम ने अंग्रेजों से समझौता कर लिया। मीर कासिम को निराश होकर युद्ध भूमि से भाग ना पड़ा।

इलाहाबाद की संधि

मई 1765 मे संयुक्त मोर्चे की पूर्णरूपेण पराजय हो गई और शुजाउद्दौला तथा सम्राट शाहआलम को विवश होकर इलाहाबाद की संधि करनी पड़ी। क्लाइव ने राजनैतिक समस्याओं का हल निकालने मे अपनी कूटनीतिज्ञता का परिचय दिया। इलाहाबाद की संधि की निम्न शर्तें थी--

1. शुजाउद्दौला से कड़ा और इलाहाबाद छीनकर अवध प्रदेश उसे लौटा दिया गया।

2. अंग्रेजों को शुजाउद्दौला ने 50 लाख रूपये युद्ध क्षति के देना स्वीकार किया।

3. अंग्रेजों ने अवध को उसके व्यय पर सैनिक सहायता देना स्वीकार किया।

4. अंग्रेजों को नवाब ने बिना कर दिए अवध मे व्यापार करने की छूट दी। 

5. मुगल सम्राट को कड़ा और इलाहाबाद दे दिए गए।

6. मुगल सम्राट को अंग्रेजों ने 26 लाख रूपये वार्षिक पेंशन देना स्वीकार किया।

7. मुगल सम्राट ने बंगाल, बिहार और उड़ीसा की दीवानी अंग्रेजों को सौंप दी अर्थात् इनसे वे लगान वसूल कर सकते थे।

बक्सर के युद्ध के परिणाम एवं महत्व (baksar ke yuddh parinaam)

बक्सर का युद्ध सरकार और दत्त के अनुसार, प्लासी से कहीं अधिक निर्णायक था और सरजेम्स स्टीफन के अनुसार प्लासी से अधिक महत्व का था। बक्सर युद्ध के परिणाम या महत्व इस प्रकार है--

1. राजनीतिक परिणाम

राजनीतिक रूप मे बक्सर ने प्लासी के अधूरे कार्य को पूर्ण किया। इसमे कंपनी को एक प्रभुत्व संपन्न शक्ति बना दिया। प्लासी का युद्ध एक साधारण झड़प थी, जबकि बक्सर मे सैनिक कुशलता तथा वीरता का प्रदर्शन हुआ। अतः अंग्रेजों की शक्ति की धाक स्थापित हो गई इसफे कंपनी को उत्तर प्रदेश और पश्चिम सीमा प्रांत पर अधिकार मिला।

2. आर्थिक परिणाम 

अंग्रेजों ने सदैव भ्रष्टाचार किया था। इस युद्ध की क्षतिपूर्ति मे बंगाल से 50 लाख रूपया वसूल किया गया तथा बिना कर व्यापार का अधिकार मिलने से संपन्न बंगाल निर्धन बन गया। अंग्रेजों का भ्रष्टाचार भी अब पहले से बहुत बढ़ गया जिसके कारण अकाल की स्थिति उत्पन्न हो गई।

3. भारत की सर्वोच्च शक्ति पराजित हुई

बक्सर युद्ध का सबसे महत्वपूर्ण परिणाम भारत की सर्वोच्च शक्ति सम्राट शाहआलम, उसका नवाब वजीर, बंगाल का नवाब संयुक्त रूप से पराजित हुए। युद्ध मे सम्राट के हारने का प्रभाव यह हुआ कि कंपनी की शक्ति और प्रभुत्व को नवाब और जनता को स्वीकार करना ही पड़ा। इससे भारतीय शक्तियों की प्रतिष्ठा गिरी और क्रमशः पतनशील हो गई। इस प्रकार कंपनी को सम्राट की स्वीकृति मिलते ही वह वैधानिक प्रधान और निर्णायक शक्ति बन गई।

4. द्वैध शासन से भारत की दुर्दशा 

इस युद्ध के बाद क्लाईव ने बंगाल मे दोहरा शासन स्थापित किया जो इतना अधिक भ्रष्ट अन्यायी, शोषक और दायित्वहीन था कि "जनता भिखारी और लुटेरी बनी।" एक अंग्रेज बेचर ने लिखा कि," नवाबों के शासन मे यह देश सुखी-सम्पन्न था जो अब अंग्रेजों प्रभुत्व मे बर्बादी की ओर जाने लगा।" नन्दलाल चटर्जी ने कहा है कि ' छल कपट का ही दूसरा नाम दीवानी था। अंग्रेजों ने वस्त्र उद्योगों के कुशल कारीगरों के अंगूठे इसलिए कटवा दिये कि उन्होंने अपनी कुशलता का राज अंग्रेजों को नही बताया। अंग्रेज रेशम बुनने और ढाका की प्रसिद्ध मलमल अपने कारखानों मे बनवाना चाहते थे।

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;यूरोप शक्तियों का भारत मे आगमन

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;आंग्ल फ्रांसीसी संघर्ष मे अंग्रेजों की सफलता के कारण

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;पानीपत का तृतीय युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;प्लासी युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम व महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;बक्सर युद्ध कारण, घटनाएं, परिणाम

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;हेस्टिंग्ज के प्रशासनिक, न्यायिक सुधार

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;रेग्यूलेटिंग एक्ट धाराएं, कमियां, कारण, महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;पिट्स इंडिया एक्ट, धाराएं, कारण, महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;कार्नवालिस के प्रशासनिक सुधार


कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।