10/14/2020

शुंग कौन थे? शुंग वंश की उत्पत्ति

By:   Last Updated: in: ,

शुंग कौन थे? 

अंतिम मौर्य सम्राट ब्रहद्रथ की हत्या करके पुष्यमित्र शुंग ने मौर्य साम्राज्य को समाप्त किया और एक नए वंश की नीवं रखी। यह नया वंश शुंग वंश के नाम से जाना जाता है। यह कहा जाता है कि जब ब्रहद्रथ अपनी सेना का निरीक्षण कर रहा था तब उसके सेनापति पुष्यमित्र ने उसकि वध कर शासन की बागडोर अपने हाथ मे ले ली थी। शुंग की इस कार्यवाही को " ब्राह्मण-पुनः स्थापन-काल" के नाम से जाना जाता है। तात्कालिक स्थिति मे विदेशी आक्रमणकाणों से सुरक्षा के लिए एक शक्तिशाली शासक की आवश्यकता थी, जिसे पुष्यमित्र ने पूरा किया।

शूंग वंश की उत्पत्ति

पुष्यमित्र के खानदान के बारे मे विद्वानों मे मतभेद है। कालिदास " मालविकाग्निमित्रम् " से पता चलता है कि शुंग बैम्बिक वंश के थे। पुराणों मे और " हर्षचरित " मे पुष्यमित्र को शुंगवंशी बतलाया गया है। पाणिनि मे शुंगों तथा ब्राह्मण कुल के भरहूत के एक अभिलेख से यह पता चलता है कि दो तोरणद्वार शुंगो के शासनकाल मे बने थे। 

तारानाथ ने पुष्यमित्र को स्पष्ट रूप से ब्राह्मण राजा कहा है। अधिकतर विद्वानों ने पुष्यमित्र को शुंग उद्गम का माना है। " बृहद् आरण्यक उपनिषद " मे भी शुंगों को अध्यापक कहा गया है परन्तु उन्होंने कदंबों की तरह लेखनी छोड़कर तलवार क्यों हाथ मे ली, इसके बारे मे कोई सुनिश्चित मत नही है।

सम्बंधित पोस्ट 

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;अशोक का धम्म (धर्म) किसे कहते है? अशोक के धम्म के सिद्धांत, विशेषताएं, मान्याएँ, आर्दश

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सम्राट अशोक को महान क्यों कहा जाता है? अशोक की उपलब्धियां

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मौर्यकालीन कला या स्थापत्य कला

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; गांधार शैली क्या है? गांधार शैली की विशेषताएं

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;मथुरा शैली की विशेषताएं

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;शुंग कौन थे? शुंग वंश की उत्पत्ति

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; पुष्यमित्र शुंग की उपलब्धियां

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मौर्य साम्राज्य के पतन के कारण

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;कुषाण कौन थे?

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;गुप्त काल को भारतीय इतिहास का स्वर्ण काल क्यों कहा जाता है

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;गुप्त काल का सामाजिक जीवन

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।