har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

9/17/2021

संवेगों के कार्य, प्रकार

By:   Last Updated: in: ,

संवेगों के कार्य (samveg ke karya)

संवेगों के निम्नलिखित कार्य हैं--

1. अन्तर्वैयक्तिक कार्य 

संवेग के अंर्तवैयक्तिक कार्य बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। यह कार्य व्यक्तिगत रूप से सभी व्यक्तियों के पारस्परिक संबंधों को प्रभावित करते हैं। इन कार्यों पर दूसरों के साथ हमारे संबंधों एवं भावनाओं का प्रभाव पड़ता है। यह कार्य दूसरों के साथ हमारे संबंधों एवं संवेगों के अर्थ का वर्णन करते हैं। संवेगों का हमारे जीवन में विशेष महत्व होता हैं। हम एक-दूसरे के साथ अन्तःक्रिया करते हैं तथा आपसी संबंध सुदृढ़ बनाते हैं। हमारी भावनाओं पर इन कार्यों का प्रभाव पड़ता है इसलिए संवेग के अन्तर्वैयक्तिक कार्य पारस्परिक संबंधों पर प्रभाव डालते हैं।

2. सामाजिक कार्य 

संवेगों के सामाजिक कार्य समाज की भूमिका से जुड़े होते हैं। हम सभी सामाजिक प्राणी हैं। विभिन्न समोरोहों में जाते हैं तथा हमारे आपसी संबंध सुदृढ़ बनते हैं एवं एक-दूसरे से भावनात्मक रूप से हम जुड़ जाते हैं। विभिन्न समारोहों में लोगों को निमंत्रण देना एवं उनकी आवभगत करना और आपसी संबंधों का रखरखाव करना इन कार्यों में आता है। यह कार्य तभी संभव है जब हम एक-दूसरे से भावनात्मक रूप से जुड़ जाते हैं। इसलिए संवेगों के सामाजिक कार्य समाज की संरचना बनाये रखने के लिए तथा आपसी भाईचारा, राष्ट्रीय एकता एवं सुदृढ़ संबंधों की स्थापना हेतु बहुत जरूरी माने जाते हैं। हम अपने देश, समाज एवं प्रान्त के प्रति एक विशेष लगाव अनुभव करते हैं एवं भावनात्मक रूप से उससे जुड़े होते हैं। यह भावना हमें संवेग के सामाजिक कार्य ही प्रदान करते हैं। संवेग के सामाजिक कार्यों के कारण ही हम बड़े पैमाने पर अपने देश, समाज से जुड़ावा अनुभव करते हैं। समाज की व्यवस्था रखने हेतु संवेग के सामाजिक कार्य महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह करते हैं। 

3. सांस्कृतिक कार्य 

संवेगों के सांस्कृतिक कार्य भी हमारे जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हर संस्कृति के रीति-रिवाज, मान्यताएँ, परम्पराएँ दूसरी संस्कृति से भिन्न होती हैं। हर व्यक्ति अपनी संस्कृति, रीति-रिवाज, मान्यताओं एवं परम्पराओं से जुड़ाव अनुभव करता हैं। संवेगों के सांस्कृतिक कार्यों के कारण हर व्यक्ति अपनी संस्कृति से भावनात्मक रूप से जुड़ा होता हैं। सांस्कृतिक कार्यों पर व्यक्ति की व्यक्तिगत भावनाओं का प्रभाव पड़ता है। यह भावनाएँ बड़े पैमाने पर संस्कृति के पोषण, रखरखाव तथा प्रभावी कार्यक्रम हेतु व्यक्ति को पोषित करती हैं। हम सभी व्यक्तियों में हम-भावना समूह पाये जाते हैं जिसके कारण हम अपनी संस्कृति, अपने समुदाय एवं अपने रीति-रिवाज और अपनी मान्यताओं का पोषण करते हैं। संवेगों के सांस्कृतिक कार्य यह कार्य करते हैं। संवेगों के सांस्कृतिक कार्य हमारे संवेगों को हमारी संस्कृति एवं हमारे समूहों की हम-भावना से हमें जोड़ते हैं। प्रत्येक समूह में हम की भावना पायी जाती है जो किसी समूह को दूसरे समूह अथवा व्यक्ति के साथ जोड़े रखती है। हम की भावना सिर्फ व्यक्ति को अपने समूह से ही नही जोड़त हैं बल्कि समाज, समुदाय, राष्ट्र से भी जोड़ती हैं। यह हम की भावना एक तरह का भावनात्मक लगाव है जिसके कारण उस समूह, समुदाय अथवा राष्ट्र के प्रति व्यक्ति में एक अपनेपन का भाव आ जाता हैं जो उसे जोड़े रखता हैं। यह संवेग का भाव जहाँ एक तरफ व्यक्ति को व्यक्ति से जोड़ता हैं वहीं दूसरी तरफ जब यह भाव बहुत सुदृढ़ हो जाता है तो राष्ट्रीय एकता हेतु खतरा भी बन जाता हैं। संवेगों के सांस्कृतिक कार्य किसी भी समूह को एक विशिष्ट पहचान देते हैं जो उस समूह की एक पहचान बन जाती हैं। यह पहचान उसकी रीति-रिवाज, पहनावे, जीवन-स्तर, जीवन-आदर्श, उनकी भाषा, बोली आदि के आधार पर बनती हैं। संवेगों के सांस्कृतिक कार्य इस तरह समूह के लिए काफी महत्वपूर्ण होते हैं।

संवेगों के प्रकार (samveg ke prakar)

लगभग तीन माह की अवस्था से ही बालक में विभिन्न संवेग विकसित होने शुरू हो जाते हैं जिनका विकास आयु बढ़ने के साथ-साथ होता रहता है। इन संवेगों से संबंधित बालक में कुछ सामान्य प्रतिमान या संवेगात्मक प्रतिमान पाये जाते हैं। 

बालकों के कुछ प्रमुख संवेगों के प्रकार निम्न तरह हैं-- 

1. भय 

भय वह आन्तरिक अनुभूति है जिसमें प्राणी किसी खतरनाक परिस्थिति से दूर भागने का प्रयत्‍न करता हैं। भय की अवस्था में बालकों में रोने, चिल्लाने, काँपने, रोंगटे खड़े होने, साँस तथा ह्रदय की धड़कन मंद होने तथा रक्तचाप बढ़ जाने जैसे लक्षण पैदा हो जाते हैं। अध्ययनों में देखा गया है कि बालक की बौद्धिक योगयताओं के विकास के साथ-साथ उसमें भय की तीव्रता ही नही बढ़ती है बल्कि वह अपेक्षाकृत अधिक चीजों से भय खाने लगता हैं। 

बचपन में ज्यादातर बालक जानवरों, अंधेरे स्थान, ऊंचे स्थान, अकेलेपन, पीड़ा, अनजान व्यक्तियों तथा वस्तुओं, तेज अवाज एवं अचानक उन्हें गलत तरीके से उठा लेने पर डरते हैं। 

बाल्यवस्था मे बालकों के भय उद्दीपकों की संख्या बढ़ जाती हैं, साथ ही साथ भय की तीव्रता भी बढ़ जाती हैं। कारमाइकेल (1944) का विचार हैं कि दो वर्ष की अवस्था से छः वर्ष की अवस्था तक भय संवेगों का विकास सामान्यः चरम सीमा तक पहुंच जाता हैं। ज्यादा बड़े बच्चों में काल्पनिक भय, मृत्यु का भय, चोट लग जाने का भय आदि भी विकसित होने लगते हैं। वयः सन्धि अवस्था तक बालक को अपने स्वयं की प्रतिष्ठा तथा स्तर का भय लगने लगता है। बालकों में भय अचानक पैदा होता हैं।

लगभग तीन वर्ष के बालकों में देखा गया है कि भय की परिस्थिति में वे अपने को असहाय समझते हैं, सहायता माँग करते हैं, अपना मुँह छुपाकर वह समझ सकते है कि भय उत्तेजना से बच गए, वह भाग कर परिचित व्यक्ति या माँ के पास छुप जाते हैं। बच्चे जैसे-जैसे बड़े होते हैं, उनके भय की उत्तेजना से भागने की ये अनुक्रियाएं कम होती जाती हैं। लेकिन उनकी मुखात्मक अभिव्यक्तियों में भय की अवस्था में कोई विशेष परिवर्तन नही आते हैं। कुछ और बड़े होने पर बच्चे भय उत्पन्न करने वाली परिस्थितियों से दूर रहते हैं। बालकों मे भय कई कारणों से पैदा होता है। उदाहरण के लिए, अध्ययनों मे देखा गया है कि बुद्धि की मात्रा के बढ़ने के साथ-साथ बालकों में भय बढ़ने लग जाता हैं। कम बुद्धि वाले बच्चे कम डरते हैं। लड़कियाँ लड़को की बजाय अधिक डरती हैं। निम्न सामाजिक-आर्थिक स्तर के बालकों को उच्च एवं मध्यम आर्थिक-सामाजिक स्तर वाले बालकों की बजाय हिंसा का भय ज्यादा होता हैं। भूख, थकान, दुर्बल स्वास्थ्य की अवस्था में भय बच्चों को ज्यादा लगता है। बालकों के जैसे-जैसे सामाजिक संबंध बढ़ते जाते हैं उनकी मित्र-मण्डली की संख्या बढ़ती जाती है, उनका भय कम होता जाता हैं। जन्मक्रम भी बालकों के भय को प्रभावित करता हैं। पहले जन्मे बच्चे को अन्य बच्चों की बजाय ज्यादा डर लगता है। जिन बालकों में असुरक्षा की भावना जितनी ही ज्यादा होती है, उन्हें उतना ही ज्यादा डर लगता हैं। 

2. शर्मिलापन 

शर्म एक तरह का भय ही हैं जिसमें व्यक्ति दूसरों के संपर्क में आने तथा परिचय प्राप्त करने में झिझकता अथवा कतराता है। शर्म व्यक्तियों से ही होती हैं, वस्तुओं तथा परिस्थितियों में नही होती हैं। बहुधा बच्चे उन बच्चों अथवा व्यक्तियों से शर्म करते हैं जो उनके लिए अपरिचित होते हैं अथवा शर्म करने वाले से ज्यादा शक्ति अथवा विशेषताओं वाले होते है। यह जरूरी नही हैं कि बालक एक समय में एक व्यक्ति से शर्म करे, वह एक समय में एक व्यक्ति या अधिक व्यक्तियों से शर्म कर सकता है। अध्ययनों से यह स्पष्ट हुआ हैं कि बालकों में शर्म की अभिव्यक्ति वैसे-वैसे कम होती जाती है जैसे-जैसे वे अधिक और अधिक व्यक्तियों के संपर्क मे आते-जाते हैं। उनकी शर्म की आवृत्ति तथा तीव्रता, दोनों ही कम होती जाती हैं। यह संवेग बालकों के सामाजिक संबंधों को भी दुर्बल बनाता है। बहुधा बच्चे अपने घर आने वाले मेहमानों, अध्यापकों से शर्म करते हैं अथवा किसी समूह या किसी के सामने बोलने, बातचीत करने तथा गाना आदि सुनाने से शर्माते हैं। छोटा बच्चा शर्म के मारे अनजान व्यक्ति से दूर करने तथा गाना आदि सुनाने से शर्माते हैं। छोटा बच्चा शर्म के मारे अनजान व्यक्ति से दूर भागकर परिचित के पास छुप सकता हैं। ज्यादा बड़ा बच्चा शर्म के मारे तुतला या हकला सकता है, कम बात कर सकता हैं अथवा शर्म के मारे उसका चेहरा लाल हो सकता है। 

संवेग का यह प्रकार बालकों हेतु कई तरह से हानिकारक है। यह देखा गया है कि शर्म के मारे जब एक बालक दूसरे बालक से बातचीत नही करता हैं तो दूसरा भी बातचीत नहीं करता है। फलस्वरूप बालक अकेला रह जाता हैं।

3. परेशानी 

परेशानी एक तरह का वह काल्पनिक भय है जो बालक के स्वंय के मन की उपज अथवा उत्पादन होता है। यह वह ज्यादा बढ़ा-चढ़ा हुआ भय है, जो गलत तर्क पर आधारित होता है। परेशानी महसूस करना बालक उस समय से शुरू कर सकते हैं जब उनमें कल्पना तथा बौद्धिक योग्यताओं का विकास पर्याप्त मात्रा मे हो जाता है। यही कारण है कि उसका विकास लगभग तीन वर्ष की अवस्था से शुरू होता है। संपूर्ण बाल्यावस्था मे इसका विकास होता है तथा वयःसन्धि अवस्था तक यह संवेग चरम सीमा तक पहुंच जाता हैं। इस अवस्था के बाद बौद्धिक क्षमताओं का एवं तर्क का विकास अपनी चरम सीमा की तरफ बढ़ने से उनके इस संवेग की तीव्रता एवं आवृत्ति दोनों ही कम हो जाती हैं। बहुधा बच्चे जब भय पैदा करने वाली परिस्थितियों का वर्णन सुनते हैं अथवा टेलीविजन तथा फिल्मों आदि से देखते है तब उनमें उस संवेग का पैदा होना कल्पना के आधार पर स्वाभाविक हो जाता है। 

अध्ययनों मे देखा गया है कि बालक उन वस्तुओं अथवा चीजों के बारे मे ज्यादा परेशान होते हैं, जो उनके उस समय के जीवन को सबसे महत्वपूर्ण चीजे होती है।

बच्चों की ज्यादातर परेशानियां परिवार, मित्र-मंडली और स्कूल आदि से संबंधित होती है। एक अध्ययन में यह देखा गया है कि वह संधि अवस्था में शारीरिक परिवर्तन के शुरू होते ही बालकों की परेशानियां शरीर तथा यौन के उपयुक्त विकास के संबंध में होती है। भिन्न-भिन्न व्यक्तित्व प्रतिमान वाले व्यक्तियों की परेशानियां भिन्न-भिन्न होती हैं। बहुधा देखा गया है कि जिन बालकों का समायोजन सामान्य सा अच्छा होता है वे अक्सर उन व्यक्तियों या बच्चों के संबंध में परेशान होते हैं जो उनके प्रति सहानुभूति रखते हैं। इसी तरह जो बच्चे अपने आप को हीन समझते हैं बहुधा अपने ही संबंध में परेशान रहते हैं। यह संवेग बालक में अगर ज्यादा दिनों तक रहता है तो यह उसके Homeocostatis को गड़बड़ कर देता है। फलस्वरुप उसमें स्वास्थ्य संबंधी जैसे विकार उत्पन्न हो जाते हैं। इससे बालक की मानसिक दक्षता तथा बालक का समायोजन प्रभावित होता है। इतना होते हुए भी यह हर बालक के लिए उस समय लाभदायक हो जाता है जब वह अपने स्कूल के काम के संबंध में चिंतित रहता है। इस अवस्था में यह संवेग प्रेरक का कार्य करता है।

4. चिन्ता

चिंता व्यक्ति की वह कष्टप्रद मानसिक स्थिति है जिसमें वे भविष्य की विपत्तियों की आशंकाओं से व्याकुल रहता हैं। यद्यपि चिंता भय तथा परेशानी से ही विकसित होती है। लेकिन यह चिंता अलग इसलिए है कि यह वर्तमान परिस्थिति तथा उद्दीपक के संबंध में ना होकर पूर्वानुमानति उद्दीपक के संबंध मे होती हैं। इसका विकास भय संवेग के विकास के बाद शुरू होता है क्योंकि यह बालक में उस समय उत्पन्न होती है जब उसमें कल्पना का विकास शुरू हो जाता है। यह बालकों में उस आयु से प्रारंभ होती है जब वह स्कूल जाना शुरू करते हैं। इसका विकास बाल्यावस्था में होता रहता है यह वयःसंधि अवस्था में अति तीव्र आती है। 

अनेक अध्ययनों से यह स्पष्ट हुआ है कि तीर्थ चिंता की उपस्थिति में लड़कियों की प्रतिक्रिया दिवास्वप्न तथा अनुपयुक्तता की भावना के द्वारा व्यक्त होती है। लड़के यह समझते हैं कि चिंता करना लड़कों का काम नहीं है इसलिए वह चिंता को छुपाने का साधन ढूंढते हैं। इन साधनों में वह विद्रोही तंग करने वाले अथवा कोलाहली व्यवहार प्रतिमानो को अपना लेते हैं। बच्चे अपनी चीज की चिंता को छुपाने में कुछ और व्यवहार प्रतिमान भी अपनाते हैं ज्यादा मानसिक मनोरचनाओं का उपयोग कर सकते हैं, अपने चरित्र के विपरीत व्यवहार कर सकते हैं, जैसे मित्रवत व्यवहार करने वाला बालक निर्दयी हो जाए और बोरडम का अनुभव करने लग जाए। 

5. क्रोध 

अन्य संवोगो की बजाए यह संवेग अपेक्षाकृत ज्यादा मात्रा में बालकों में पाया जाता है संभवतः बालक को बहुत छुटपन में यह मालूम हो जाता है कि क्रोध एक प्रभावशाली तरीका है, जिसकी मदद से ध्यान आकर्षित किया जा सकता है। अलग-अलग बालकों में इस समय की आवृत्ति और तीव्रता अलग-अलग होती है। क्रोध किसी भी व्यक्ति अथवा वस्तु के प्रति हो सकता है, क्रोध में बालक आक्रामक व्यवहार अपनाता है, बालक आक्रामक व्यवहार में मारना, काटना, थूकना, धक्का देना, चुटकी काटना, झटका देकर खींचना आदि। किसी तरह का व्यवहार अपना सकता है। क्रोध मे वह अवरोधित व्यवहार अनुक्रिया भी अपना सकता है। जब बालक अपने क्रोध को नियंत्रित कर लेता है अथवा दवा लेता है जब वह अवरोधित अनुक्रियाएं अपनाता है। इस तरह की अनुक्रियाओं में वह उदासीनता तथा तटस्थता का व्यवहार अपना सकता है, अर्थात जिस वस्तु या व्यक्ति से क्रोधित है उसे अपने आप को Withdraw कर सकता है। क्रोध मे बालक आक्रामक व्यवहार अपनायेगा अथवा अवरोधित व्यवहार अपना आएगा यह निश्चित नहीं होता है। कई बार यह देखा गया है कि बालक जब संरक्षण के भय के कारण घर पर क्रोध प्रदर्शित नहीं कर पाता तो वह उनकी अनुपस्थित मे घर में, बाहर या स्कूल मे अपना क्रोध प्रदर्शित करता है। क्रोध को व्यवहार अनुक्रियाओं मे विचलन छोटे बच्चों की अपेक्षा बड़े बालकों मे ज्यादा इसलिए पाया जाता है क्योंकी वह इन अनुक्रियाओं को अनुभव के आधार पर सीख चुके होते हैं।

एक अध्ययन में यह देखा गया है कि लगभग 3 वर्ष की अवस्था में बालक बालिकाओं में क्रोध सबसे अधिक मात्रा में होता है। इसके बाद यह थोड़े उतार-चढ़ाव के साथ साथ 14 वर्ष की अवस्था तक 3 वर्ष की आयु की बजाय लगभग एक-चौथाई रह जाता है। छोटे बालकों में जब उनका खिलौना ले लिया जाए। उनकी शारीरिक क्रियाएं अवरुद्ध हो जाएं, उन्हें पीटा जाए, उन्हें चलाया जाए, तो उन्हें क्रोध आता है। भूख-प्यास, बीमारी, अस्वास्थ्य तथा कुसमायोजन की अवस्था मे भी बालकों को क्रोध अपेक्षाकृत शीघ्र आता हैं। 

6. ईर्ष्या 

ईर्ष्या के मूल मे अप्रसन्‍नता होता है तथा इसकी उत्पत्ति क्रोध से होती हैं। हरलाॅक का विचार है कि," Jealously is a normal respone to actual supposed or thereatened loss of Education. बहुधा देखा गया है कि जब एक बच्चे के माता-पिता उसे स्नेह न देकर दूसरे बच्चे को देते हैं तो बालक में ईर्ष्या पैदा हो जाती है।

नवजात शिशु आगमन पर इस शिशु के भाई-बहनों में इसके आगमन के कारण ईर्ष्या उत्पन्न हो सकती है। लगभग डेढ़ वर्ष की अवस्था में ईर्ष्या का अंकुरण बालक मे शुरू हो जाता है। अध्ययनों मे यह देखा गया है कि लड़कों की बजाय लड़कियों में ईर्ष्या ज्यादा होती है। अन्य अवस्था की बजाय ईर्ष्या की मात्रा तीन-चार वर्ष की अवस्था में ज्यादा होती हैं। ज्यादा बुद्धि वाले लोगों में ईर्ष्या अपेक्षाकृत ज्यादा होती हैं। अन्य बच्चों की बजाय सबसे बड़े बच्चे में ईर्ष्या ज्यादा होती है। छोटे परिवारों के बच्चों में ईर्ष्या अपेक्षाकृत ज्यादा होती हैं। 

ईर्ष्या के कुछ प्रमुख कारण इस तरह से हैं-- नवजात शिशु का पैदा होना, भाई-बहनों में ज्यादा अंतर होना, संरक्षकों के पक्षपात की भावना का होना, माता-पिता की अभिवृत्ति आदि।

ईर्ष्या को नियंत्रित अथवा कम करने के उपाय निम्नलिखित हैं-- बच्चों को नकारात्मक आदेश न दिये जाएं, माता-पिता सभी बच्चों के साथ समान व्यवहार करें, चिढ़ाया न जाए, तंग न किया जाए, दिनचर्या को मनोरंजन बनाया जाए। 

ईर्ष्या की उपस्थित में बालक प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष, दोनों तरह की प्रतिक्रियाएं कर सकता हैं। प्रत्यक्ष प्रतिक्रियाओं में जो वह आक्रामक व्यवहार, जैसे-- काटना, नोंचना, धक्का देना आदि व्यवहार अपना सकता हैं। जब ईर्ष्या में द्वेष होता हैं तब बालक चालाकी का व्यवहार अपनाता हैं। ईर्ष्या की उपस्थित में बालक जब अप्रत्यक्ष व्यवहार अनुक्रियाएं अपनाता है, तो ईर्ष्या को पहचानना कठिन हो जाता है, उदाहरण के लिए, वह बिस्तर पर पेशाब कर सकता हैं, उंगली या अंगूठि चूस सकता है, विध्वंसात्मक व्यवहार अपना सकता हैं, तीखे प्रहार तथा गाली-गलौच भी कर सकता हैं। 

7. जिज्ञासा 

जिज्ञासा बालक के जीवन को सुखात्मक रूप से उद्दीप्त करती हैं। यह बालक को नये अर्थों को सीखने तथा अन्वेषण करने हेतु प्रेरित करती हैं। जिज्ञासा बालक के लिए उत्तेजना का कार्य करती हैं। अगर इसका बालकों में नियंत्रित न किया जाए तो वह बालकों के लिए हानिकारक तथा खतरनाक हो सकती हैं। वह दियासलाई अथवा बिजली के खेल-खेलकर अपने को नुकसान पहुंचा सकते हैं। जिज्ञासु बालक अपने वातावरण की हर चीज में रूचि रखता है। वह स्वयं अपने में भी रूचि रखता हैं। वह अपने शरीर के अंगों के संबंध में सोचता है कि वह अंग क्यों हैं, इनका क्या कार्य है, उसका शरीर दूसरों से भिन्न क्यों है, आदि।  वह दूसरे व्यक्तियों के बारे में जिज्ञासु हो सकता हैं। दूसरे व्यक्तियों की भाषा, क्रियाओं तथा पहनावे के संबंध में जिज्ञासु हो सकता है। स्कूल जाने की अवस्था तक उनकी जिज्ञासा घर की तमाम चीजों की मैकेनिज्य की ओर होती हैं। उसका जैसे-जैसे वातावरण से संपर्क बढ़ता जाता हैं, उसकी जिज्ञासा भी उसी अनुसार बढ़ती जाती हैं। लगभग तीन वर्ष की अवस्था में बालक प्रश्न पूछकर अपनी जिज्ञासा की सन्तुष्टि करने लग जाता हैं। बाल्यावस्था में बालक की जिज्ञासा के प्रकाशन का वर्णन करते हुए हरलाॅक (1990) ने लिखा है कि," शिशु जिज्ञासा की अभिव्यक्ति चेहरे की तनी हुई माँसपेशियों से, मुँह खोलकर, जबान निकाल कर और माथे पर सिकुड़न डालकर प्रदर्शित करता हैं।" 

जिज्ञासा का बालक के जीवन मे बहुत महत्व है, उदाहरण के लिए, यह बालक के जीवन को सुखात्मक ही नहीं बनाती है बल्कि यह उनके जीवन को रूचिपूर्ण तथा उद्दीपित बनाती है। यह बालक की रूचि को वातावरण की चीजों की तरफ बढ़ाती है यह बालक को चेतन्य करती है। यह बालक के बौद्धिक विकास में मददगार हैं। यह बालक को सीखने हेतु प्रेरित करती हैं। 

8. स्नेह 

प्रेम अथवा स्नेह व्यक्ति की वह आंतरिक अनुभूति है जिसकी उपस्थित में व्यक्ति दूसरे या वस्तुओं की तरफ आकर्षित होता है तथा उन्हें देखकर सुख एवं संतोष का अनुभव करता हैं। बच्चा माँ को देखकर लगभग तीन महीने की अवस्था में ही मुस्कराना शुरू कर देता है, लेकिन वास्तव में प्रेम का संवेग शुद्ध रूप से बच्चों में इस अवस्था में नहीं पाया जाता हैं। बच्चों का प्रकार से मुस्कुराना केवल एक सामान्य उद्दीप्तावस्था हैं। प्रेम की अवस्था में देखा गया हैं कि व्यक्ति के ओठों पर कम्पन्न, प्रसन्नता, मुस्कराहट, शरीर में सिरहन, वाणी मधुर तथा लयात्मक प्रतीत होती है। कई बार व्यक्ति अपने प्रेम उद्दीपक या आलिंगन, स्पर्श तथा चुम्बन भी करता हैं। अन्य संवेगों की अपेक्षा यह संवेग व्यक्ति के समायोजन तथा उसके व्यक्तित्व का एक महत्वपूर्ण कारक है। हरलाॅक (1990) का विचार है कि लगभग छः महीने की अवस्था से बच्चों में प्रेम अंकुरित होने लगता है। सर्वप्रथम बालक में अपनी माँ के प्रति उत्पन्न होता हैं अथवा उस व्यक्ति के प्रति जो शैशवावस्था में उसका पालन-पोषण करता है। लगभग एक वर्ष की अवस्था में वह दूसरे व्यक्तियों और जानवरों के प्रति प्रेम का प्रदर्शन करने लग जाता हैं।

यह जानकारी आपके के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी B.ed
संबंधित पोस्ट, मनोविज्ञान 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार, सवाल या सुझाव हमें comment कर बताएं हम आपके comment का बेसब्री इंतजार कर रहें हैं।