7/19/2020

अमेरिकी दलीय प्रणाली की विशेषताएं

By:   Last Updated: in: ,

अमेरिकी दलीय प्रणाली का संगठन (american daily ka sangathan)

संयुक्त राज्य अमेरिका मे दो प्रमुख दल है। दोनों ही राजनीतिक दल राष्ट्रीय स्तर के हैं, परन्तु इनके संगठन का गुरूतत्व केन्द्र राज्यों,  नगरों तथा काउण्टियों मे निहित है। इन दलों का संगठन अत्यन्त शिथिल है। वर्गीय या वैचारिक एकरूपता का इनमे अभाव पाया जाता है इसलिए लास्की ने इन्हें स्वार्थीं के संघ कहा है। कठोर दलीय अनुशासन के अभाव के कालण ही प्रायः यह पाया जाता है कि कांग्रेस तथा राज्य विधानमंडलों के मतदान के समय एक दल के सदस्य अपने विरोध दल के पक्ष मे मतदान करते है।
अमेरिकी दलीय प्रणाली
अमरीका मे दोनो प्रमुख राजनीतिक दल का संगठन लगभग एक समान है। दोनों ने विकेन्द्रीकरण का सिद्धांत अपनाया है। दोनों दल संगठन राष्ट्रीय, राज्यीय और स्थानीय स्तरों पर है।

अमेरिकी दल प्रणाली की विशेषताएं (american daily pranali ki visheshta)

1. दलों का संविधानेतर विकास
अमेरिकी दलीय व्यवस्था का जन्म किसी संवैधानिक प्रावधानों के तहत नही हुआ है। अमेरिकी संविधान निर्माता राजनीतिक दलों के विरुद्ध थे लेकिन कालान्तर मे यह जनतन्त्रात्क व्यवस्था के अंग बनते गये और जार्ज वाशिंगटन के शासन काल मे ही इनका बीजारोपण हो गया। तब से लेकर आज तक यह अमरीकी राजनीति के सफल संचालन मे महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहें है।
2. द्दिदलीय प्रणाली
प्रारंभ से ही अमेरिका राजनीतिक क्षितिज पर दो दलों की ही प्रधानता रही हैं। यद्यपि समय-समय पर इनके नामों मे बदलाव आते रहे है लेकिन उनका अस्तित्व सदैव बरकरार रहा। अमरीका मे अन्य दलों का भी जन्म हुआ  है परन्तु दल कभी भी इतनी शक्ति अर्जित नही कर पाये कि वे दो दलों की प्रधानता वाली राजनीतिक व्यवस्था को टक्कर दे सकें।
3. विचारधारा सम्बंधित आधारभूत अन्तरों का अभाव
अमरीकी दल पद्धति की यह महत्वपूर्ण विशेषता है कि दोनो प्रमुख दलों के बीच कोई मौलिक मतभेद नही है। विदेश नीति के क्षेत्र मे दोनों दलों मे दोनों दलों के बीच एकमतता की प्रवृत्ति पायी जाती है। आन्तरिक श्रेत्र मे दोनों दलों द्वारा पूँजीवादी व्यवस्था का सर्मथन किया जाता है। संघात्मक पद्धति के विषय मे भी दोनों एकमत है। इस प्रकार दोनों दलों ने अतिवादिता से दूर रहकर मध्ययमार्गी नीति का अनुगमन किया है। इसलिए वियर्ड ने कहा है-- वहाँ के मतदाताओं की दशा उन निर्जीव प्राणियों जैसी होती है जो खाली शब्दों के लिए मतदान करते है।
4. दलों का शिथिल संगठन
अमेरिका के राजनीतिक दल सदस्यता तथा दलीय अनुशासन की दृष्टि से शिथिल संगठन है। इन दलों मे सदस्यों की भर्ती के लिए न तो कोई निश्चित प्रक्रिया है और न ही अनुशासन के कोई नियम है। अमरीकी राजनीतिक दल विभिन्न राजनीतिक विचारधारा वाले व्यक्तियों के ढीले-ढाले संगठन है जिनमे कठोर दलीय अनुशासन और वैचारिक एकमतता की कमी है।

5. दबाव गुट
अमेरिकी राजनीतिक व्यवस्था मे राजनीतिक दल प्रमुख तौर पर दो ही है लेकिन यहाँ दबाव समूह अनन्त है। ये छोटे-छोटे दबाव गुट अपने हितों की पूर्ति हेतु प्रमुख राजनीतिक दलों पर दबाव डालते है। उनकी नीतियों को प्रभावित करते है।
6. लूट की प्रणाली
अमरीका की दलीय राजनीति की एक अन्य महत्वपूर्ण विशेषता लूट प्रथा है। इस प्रथा का मतलब है कि जब कोई राजनीतिक दल निर्वाचन मे विजय प्राप्त करके सत्ता पर आसीन होता है तब वह विभिन्न शायकीय पदों पर अपने सहयोगी कार्यकर्ता तथा समर्थकों की नियुक्ति करके उन्हें पुरुस्कृत करता है। अन्य शब्दों मे कहे तो इस प्रणाली के तहत राजनीतिक दलों द्वारा अपने मददगारों या समर्थकों को खुश करने के लिए सरकारी नौकरियों का वितरण अनुग्रह के आधार पर दिया जाता है न कि योग्यता के आधार पर।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।