राजा और राजमुकुट में अंतर

ब्रिटिश राजा व राजमुकुट 

राजा वह व्यक्ति होता हैं जो एक विशेष समय पर ब्रिटिश राज्य के प्रमुख पद पर आसीन होता है। राजमुकुट राज्य शक्ति का वह प्रतीक है जिसे सम्राट अपने सिर पर धारण करता है। 
आज हम इस लेख मे ब्रिटिश राजा और राजमुकुट मे अन्तर (भेद) को जानेंगे।
प्रारंभ मे राजा व राजमुकुट मे कोई भेद नही था। राजा ही राजमुकुट था और राजमुकुट ही राजा था, जिसे राजा अपने सिर पर धारण करता था और राजकीय शक्तियों का प्रयोग राजा स्वयं ही करता था। लेकिन अब परिस्थितियाँ बदल चुकी हैं। ब्रिटिश शासन-व्यवस्था का लोकतंत्रीकरण हो गया हैं। अतः अब राजा और राजमुकुट के बीच महत्वपूर्ण अन्तर हो गया हैं। 
राजा और राजमुकुट मे अन्तर
ब्रिटेन के संवैधानिक इतिहास मे क्रमशः बदलाव आते रहे है और इसी परिवर्तन के फलस्वरूप निरंकुश राजतन्त्र से शक्तियाँ खिसकने लगीं और संसद मे समाहित होकर उसे शक्तिशाली बनाने लगीं  इस तारतम्य मे राजा व राजमुकुट के मध्य का अंतर व्यापकता की ओर अग्रसर होने लगा।

राजा और राजमुकुट मे अंतर (भेद) (raja or rajmukut me antar)

1. राजमुकुट सामूहिक या बहुल कार्यकारिणी है, जबकि राजा वैयक्तिक कार्यपालक है। राजमुकुट की शक्तियों का प्रयोग एक व्यक्ति द्वारा न होकर अनेक व्यक्तियों द्वारा होता हैं। 
2. राजा अस्थायी हैं। एक व्यक्ति की भांति वह अपने जीवन-काल तक ही पद पर रहता है। उसकी मृत्यु के उपरांत दूसरा व्यक्ति इस पद पर आसीन हो जाता हैं। इसके विपरीत राजमुकुट स्थायी संस्था हैं। "राजा मर गया, राजा अमर रहें" यह ब्रिटिश कहावत राजमुकुट के संस्थागत स्वरूप को दर्शाती है। एक राजा मरता हैं, तो दूसरा उसका स्थान ग्रहण कर लेता हैं। यानि राजा विशेष मर सकता है पर राजमुकुट नही।
3. सम्राट (राजा) एक व्यक्ति होता हैं, जो एक विशेष समय पर राजपद पर आसीन होता है। इसके विपरीत राजमुकुट एक संस्था है। वह शासन सत्ता का प्रतीक है जिसे विधायी, प्रशासनिक और न्यायिक दोनों ही प्रकार की शक्तियाँ प्राप्त हैं। 
4. राजा शक्तिहीन हैं। लोकतंत्रीकरण के परिणामस्वरूप राजा के पास जो शक्तियाँ हैं वे नाममात्र की हैं। जबकि राजमुकुट सर्वशक्तिशाली है। यह शासन की समूची शक्तियों का वास्तविक प्रयोग करता हैं। 
5. राजा एक सजावट मात्र हैं। यह ब्रिटिश शासन की सजावट बढ़ाने वाला "ध्वजमात्र शासक" के समान हैं। जबकि राजमुकुट जन-इच्छा का प्रतीक है, जिसमें "पूरी सरकार" निहित है।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; लार्ड सभा की रचना
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; ब्रिटिश संविधान की विशेषताएं

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां