9/08/2019

अमेरिकी सीनेट की संरचना शक्तियाँ व कार्य

By:   Last Updated: in: ,

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का शक्ति व सम्मान की दृष्टि से  अमेरिकी सीनेट का विशेष महत्व है। आज के इस लेख मे हम अमेरिकी सीनेट की संरचना (संगठन) अमेरिकी सीनेट की शक्तियाँ व कार्य, अमेरिकी सीनेट के महत्व या उसके शक्तिशाली होने के कारणो के बारें में विस्तार से जानेंगे।
अमेरिकी सीनेट

अमेरिकी सीनेट की संरचना (संगठन) (US Senate structure in Hindi)

अमेरिका में व्यवस्थापिका को कांग्रेस के नाम से जाना जाता है। इसके दो सदन है--- 1. प्रतिनिधि सभा और 2. सीनेट
अमेरिकी सीनेट की स्थापना का मुख्य उद्देश्य अमरीका की संघीय व्यवस्थापिका मे राज्यों को समानता के आधार पर प्रतिनिधित्व प्रदान करना है।  प्रत्येक राज्य से दो सीनेट के प्रतिनिधि चुने जाते है। इस समय अमेरिका में 51 राज्य है अत: सीनेट के सदस्यों की संख्या 102  है। सीनेट के सदस्यों का निर्वाचन पहले अप्रत्यक्ष रूप से होता था, लेकिन अब अमेरिका के संविधान मे 17 वें संशोधन के अनुसार अब सीनेट प्रत्यक्ष रूप से चुने जाते है।

सीनेट के सदस्यों की योग्यताएं 

1. वह 30 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका हो।
2. वह उस राज्य का निवासी हो जिसका प्रतिनिधित्व वह सीनेट में करना चाहता है।
3. वह अमरीका के किसी भी विभाग में पदाधिकारी न हो।
4. वह कम से कम 9 वर्षो से संयुक्त राज्य अमेरिका का निवासी हो।
अमेरिकी सीनेट की संरचना

अमेरिकी सीनेट का कार्यकाल 

अमेरीकी सीनेट एक स्थायी सदन है। इसके सदस्य 6 वर्षो के लिए निर्वाचित किये जाते है। प्रत्येक दो वर्ष बाद एक-तिहाई सदस्य अवकाश ग्रहण करते है। जिसके स्थान पर नवीन सदस्यों का चुनाव किया जाता है।

सीनेट के सदस्यों का वेतन तथा उन्मुक्तियाँ 

प्रतिनिधी सभा के समान ही सीनेट के सदस्यों को वेतन, भत्ते व उन्मुक्तियाँ प्राप्त है। सीनेट के सदस्यों को 1 लाख 33 हजार 600 डालर वार्षिक वेतन मिलता है। सीनेट के सभापति को 1 लाख 71 हजार 500 डाॅलर वार्षिक वेतन मिलता है। सीनेट के सदस्यों को भाषण देने की पूर्ण स्वतंत्रता होती है जिसका समय निश्चित नही किया जाता। सदन मे दिये गये भाषण के विरूध्द किसी भी तरह की कार्यवाही नही की जा सकती।

अमेरिकी सीनेट की शक्तियाँ व कार्य (US Senate powers in Hindi)


अपनी शक्तियों की दृष्टि से सीनेट दुनिया का सर्वाधिक शक्तिशाली द्वितीय सदन है इसकी शक्तियां व कार्य इस प्रकार हैं---
1. कार्यपालिका संबंधी शक्तियाँ 
अमेरिकी सीनेट को कार्यपालिका शक्तियाँ पर्याप्त सीमा तक प्राप्त है। सीनेट की कार्यपालिका सम्बन्धित शक्तियों मे संधि-अनुमोदन और नियुक्ति सम्बन्धित शक्तियाँ उल्लेखनीय हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति को अनेक पदाधिकारियों की नियुक्त का अधिकार है। राष्ट्रपति द्वारा की गई इन नियुक्तियों का अनुमोदन सीनेट के 2/3 बहुमत द्वारा होना आवश्यक है। इस प्रकार की नियुक्तियों में राजदूतों, अन्य राज्य प्रतिनिधियों, उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों तथा मन्त्रिमण्डल के सदस्यों आदि की नियुक्तियाँ आती है।

2. कानून निर्माण सम्बन्धी
शक्ति सीनेट अमरीकी कांग्रेस का द्वितीय सदन है। सीनेट राष्ट्रीय कानूनों को निर्मित करने मे किसी भी प्रकार से प्रतिनिधि सभा से कम नही है। कोई भी विधेयक तभी पारित किया जा सकता है जब दोनों सदन उस विधेयक को पूर्ण बहुमत के साथ पारित कर दें।
3. सीनेट की न्यायिक शक्तियाँ
अमेरिकी सीनेट को न्यायिक क्षेत्र मे महत्वपूर्ण शक्तियाँ प्राप्त है जिसमें सर्वप्रथम है राष्ट्रपति सहित अन्य पदाधिकारियों के विरूध्द महाभियोग की लगाने की शक्ति।
4. निर्वाचन शक्तियाँ

राष्ट्रपति व उप राष्ट्रपति पद के लिए चुनावों की मतगणना का कार्य सीनेट द्वारा ही किया जाता है। यदि कभी मतदान के दौरान उप राष्ट्रपति पद के किसी भी उम्मीदवार को पूर्ण बहुमत प्राप्त होता है तो सीनेट सर्वाधिक मत प्राप्त प्रथम दो उम्मीदवारों में से किसी एक को उप राष्ट्रपति पद के लिए चुनती है।
5. संविधान में संशोधन संबंधी शक्तियाँ
अमेरिकी सीनेट को संविधान मे संशोधन सम्बन्धित शक्तियाँ प्रतिनिधि सभा का समान ही प्राप्त है।
अमेरिका

अमेरिकी सीनेट के शक्तिशाली होने के कारण ( अमेरिकी सीनेट का महत्व )

1. प्रत्यक्ष निर्वाचन
सन् 1918 मे हुए 17 संविधान संशोधन द्वारा सीनेट के सदस्यों की प्रत्यक्ष चुनाव की व्यवस्था की गयी है।
2. योग्य तथा अनुभवी व्यक्तियों का मंच
सीनेट में योग्य तथा अनुभवी व्यक्ति होते है। तथा प्रसिध्द राजनीतिक होते है।
3. आकार व रचना
सीनेट का आकार प्रतिनिधि सभा की अपेक्षा छोटा होता है। प्रतिनिधि सभा मे जहां 435 सदस्य होते है वही सीनेट में मात्र 102 सदस्य है। इसलिए इसका हर एक सदस्य महत्वपूर्ण हो जाता है।
4. मन्त्रिमण्डलीय प्रणाली का अभाव
अमेरिका मे अध्यक्षात्मक शासन प्रणाली होने के कारण कार्यपालिक व्यवस्थापिका के प्रति उत्तरदायी नही है इसलिए प्रतिनिधि सभा को कार्यपालिका पर नियंत्रण का कोई अधिकार नही होता है। जबकी मन्त्रिमण्डनात्मक पद्धति में कार्यपालिका व्यवस्थापिका के निम्न सदन अर्थात प्रतिनिधि सभा के प्रति उत्तरदायी होता है। इस कारण कांग्रेस के प्रथम सदन की तुलना मे कांग्रेस का द्वितीय सदन सीनेट शक्तिशाली हो जाती है।
5. सीनेट की विशेष शक्तियाँ 
सीनेट के पास कुछ वेशष शक्तियाँ है। राष्ट्रपति की निरंकुशता को रोकने का काम करती है। सीनेट न्यायिक क्षेत्र मे भी एक प्रमुख जाँच निकाय का कार्य करती है। सीनेट द्वारा की जाने वाली जाँच पड़ताल काफी भयानक होती है। उसे महाभियोग को सुनने और उस पर अन्तिम निर्णय देने का अधिकार है।
दोस्तो इस लेख मे हमने अमेरिका की सीनेट की संरचना, संगठन, उसकी शक्तियाँ कार्य व महत्व के बारें मे जाना अगर आपका इस के लेख से सम्बन्धित किसी भी प्रकार का विचार सवाल या प्रशन है तो comment कर जरूर पहुंचे।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।