Kailasheducation

शिक्षा से सम्बन्धित सभी लेख

9/25/2019

प्यार क्यों होता है और कैसे होता है?

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का kailasheducation में, आज हम बहुत ही इन्टरेस्टिग topic पर चर्चा करने जा रहे हैं, प्यार क्यों होता है और कैसे होता हैं? मानव एक सामाजिक प्राणी है सामजिक प्राणी होने के नाते उसे किसी न किसी से प्यार जरूर होता है। क्या आपको पता है? मानव की सबसे बड़ी कमजोरी भी प्यार ही होता हैं। इसे कमजोरी कहना गलत होगा क्योंकि एक प्यार ही हैं जो इंसान को इंसान बनाता हैं। ऐसा व्यक्ति जो किसी से भी प्यार नही करता वह बहुत ही खतरनाक हो सकता है वह एक जानवर के समान है वह किसी का भी अहित कर सकता हैं। इसलिए सामाजिक संगठन के लिए प्यार का होना बहुत ही जरूरी होता है।

प्यार क्यों होता है और कैसे होता है?

प्यार कितने तरह का होता हैं?

इसका जवाब है प्यार केवल एक ही तरह का होता है चाहें वो अपने माता-पिता से हो बहन से हो जीवन साथी से हो या फिर किसी जानवर से ही क्यों न हो? लेकिन इन सबसे प्यार करने का जो हमारा नजरया और जो हमारी सोच और भवानाएं जो होती है वह अलग होती है। लेकिन लेकिन ध्यान दे इस बात पर love वाले प्यार के कुछ प्रकार होते है जो इसे कुछ अगल बनाते है। ज्यादा मत सोचिए हम यहाँ पर केवल और केवल जीवन साथी  (relationship) वाले प्यार के बारें में ही बात करने जा रहे है।
जिन लोगों को कभी love वाला प्यार नही हुआ उनकी सोच कुछ इस तरह की हो सकती हैं" 👇👇👇 
प्यार मियार कुछ नही होता प्यार एक बकवास है। प्यार करना बेबकुफो का काम होता है। पागल लोग ही प्यार करते है, जो लोग फालतू होते है वही लोग प्यार करते है। अगर करना है तो अपने माँ पाप से प्यार करों। हमें लगता है शायद आप लोग सही हो लेकिन इस बात को न भूले कि किसी भी चीज को जाने बिना उसके बारें में भला-बूरा न कहें। हो सकता है कभी हमारी सोच भी आपकी तरह हो? आप लोग भी इस पोस्ट को एक बार जरूर पढ़े। शायद हो सकता है आपकी सोच बदल जाए।
प्यार क्यों होता है
प्यार

प्यार क्यों होता है?

इस शब्द को वही लोग सर्च करते है जो किसी से प्यार करते हैं। सोचने वाली बात है कि जिन लोगों को प्यार हो चुका होता है। वही लोग क्यों यह जानना चाहते है कि प्यार क्यों होता है? क्योंकि जिन्हें प्यार हो चुका है उन्हें पता नही होगा तो फिर किसे पता होगा प्यार क्यों होता है?
अगर वैज्ञानिकों की बात करें तो उनका इस पर यह कहना है कि इस में दिमागी केमिकल का हाथ होता है। माफ करें उस केमिकल का नाम बड़ा ही अटपटा है जो हमे याद नही आ रहा है। इसके साथ विज्ञान यह भी कहता है कि प्यार में दिल का नही दिमाग सबसे special role होता हैं।
चलो अब विज्ञान को छोड़ते है अगर विज्ञान समझ मे आता तो हम लोग अभी इस पोस्ट को नही पढ़ रहे होते। प्यार क्यों होता हैं? देखों प्यार क्यों कहां और कब कभी नही होता वो तो वस हो जाता हैं और एक आश्चर्य की बात यह है कि होने के बाद ही पता चलता है कि हमें प्यार हो गया हैं। ये दुनिया वाले कहते की प्यार अंधा होता है हां यह सच है प्यार सच में गंधा होता हैं।
प्रेम वास्तव में ही एक अद्भुत चीज है शायद हम आज इसलिए इस के बारें मे लिख रहा हैं। 
प्यार के बारें मे एक और अद्भुत बात यह कि प्यार कभी भी सअक्ल , अक्ल, जात, अमीरी, गरीबी देख कर कभी भी नही होता। यह तो बस हो जाता हैं! और जिससे हो जाता है वह दुनिया का सबसे खुबसूरत इंसान लगने लगता है।
प्यार कैसे होता है?

प्यार कैसे होता है?

प्यार कैसा या वैसे नही होता प्यार केवल एक filing है, एक ऐसी filing जिस में इंसान अन्धा हो जाता है और कुछ भी कर सकता है। जिसको प्यार हो जाता है उसे बस 24 घंटे वही याद आता है। प्यार मे इंसान दुनिया भूल जाता है काम करने में मन नही लगता अकेलापन महसूस होता है अपने पार्टनर को देखने की बहुत ही तीव्र इच्छा होती है।
प्यार तीन तरह का हो सकता है ---
1. दो तरफा प्यार
2. एक तरफा प्यार
3. चुपचाप प्यार
तो चलिए अब चलते है प्यार की दुनिया की ओर आप शायद सोच रहे होगे? जब से किसी दुनिया में थे be.......... 
1. दो तरफा प्यार
जो प्यार दोनों तरफ से हो उसे दोनों तरफा प्यार कहा जाता है। यह सच है कि शुरूआत मे दोनों प्रेमी इसी असमंजस मे रहते है कि वह मुझ से प्यार करता है या नही?  लेकिन धीरे-धीरे यह अहसाह होने लगता है कि वह भी मुझ से प्यार करता है और दोनों मे से कोई एक अपने प्यार का 💖💖💖 इजहार कर देता है। इसके बाद कुछ ऐसा,,,, जब लड़का लड़की राजी तो किया करेंगा काजी? इन लोगों को एक खुशी वाली filing होती है अपने प्रेमी के बारे मे जब यह लोग सोचते है तो इन्हें अंदर से बड़ी ही खुशी महसूस होती हैं। कुछ गलतफहमी के कारण यह लोग पिछड़ सकते है इसलिए इन लोगों को चाहिए की यह लोगो अपने प्रेमी पर विश्वास रखे क्यूकी कभी कभी आंखो देखा भी झूठ हो सकता है। लेकिन जरूरी नही हैं की प्रेमी विश्वास करने लायक हो ऐसा भी हो सकता है कि वह आपका इस्तेमाल कर रहा हूं। एक सर्वे के अनुसार केवल 25% लव मैरिज ही अच्छी चलती हैं, 75% केस में तलाक हो ही जाता है। इसलिए इस बात का ध्यान रखें की अपने प्रेमी से कुछ भी न छुपाए आप जैसे है उसे उसी तरह से दिखे और जो आप नही है उसे वह दिखाने की कोशिश कभी भी न करें।
कैसे भूले अपने प्रेमी को

अपने प्यार को कैसे भूले?

अब यह क्या बकवास है? शायद ऐसा कूछ सोच रहें होगे आप? हो सकता है आप जिस प्रेमिका या प्रेमी से प्यार करते है वह आपके साथ विश्वासघात कर दें ऐसे मे ऐसा लगता है जैसे किसी ने दिल में खनजर 💘💘 😂😂😂 घोप दिया हो! ऐसे मे प्यार या तो बदले मे बदल जाता है या फिर लोग कुछ पागलों की तरह हो जाते हैं। प्रेमी को पाना आसान है लेकिन उसे भूल पाना बहुत ही मुश मुश्किल होता है। ऐसे लोगो को चाहिए की वह कुछ भी जल्दवाजी न करें। अपने परिवार के बारें में सोचे अपने माँ पाप भाई बहन के बारें मे सोचे अपने भविष्य के बारे में सोचे। अपने दोस्तो से मिले और उनसे बात करें। ऐसा करें आप अपना ध्यान अपने प्रेमी से हटा सकते हैं।  अपने नफरत को ताकगत मे बदले जाने दो उसे इतने बड़े बनो की जब वह कभी तुम से मिले तो उसकी औकात न हो तुम्हें देखने की। जब वह तुम्हें देखे तो उसकी आँखे सरम से झुक जाए। अपने प्रेमी को छोड़ने के तरीके के ऊपर बहुत ही जल्द एक और लेख प्रकाशित किया जाएगा। जिसमें आपको विस्तार से अपने प्रेमी को छोड़ने कि जानकारी दी जाएगी।
2. एक तरफा
यह होता तो है दो तरफा की तरह ही लेकिन उससे थोड़ा अलग होता है। जब प्रेमी या प्रेमिका मे से कोई एक ही प्रेम करता है उसे एक तरफा प्यार कहते है। इस प्यार की परिस्थियां अगल-अगल हो सकती है। जैसा आप एक लड़की से प्यार करते हैं और रोज उसे देखते है लेकिन वह आपका नाम तक नही जानती। या फिर हो सकता है आप जिससे प्यार करते है वह लड़की आपको जानती हो और आप भी उसे। या फिर ऐसा भी हो सकता है की दोनों एक दुसरे को जानते है लेकिन अच्छे दोस्त न हो। ऐसा भी हो सकता है कि आप उससे एक दो महिने में ही एक बार मिलते हो।
मान लिजिए आप मे से किसी एक को उससे प्यार हो जाता है जब प्यार हो जाता है इसकी जो filing होती है वो कुछ अलग ही होती है 24 घंटे उसी का ख्याला आता है। इस filing मे खुशी नही  होती दिल घबराता है कुछ भी अच्छा नही लगता खाना खाने का मन भी नही करता, काम मे मन नही लगता। जब कोई उस से बात करता है तो समझ रहे हो ना कौन मतलव कोई लड़का है तो लड़की, लड़की है तो लड़का। तो बहुत ही तेज जलन 💔💔💔 file💔💔💔 होती है कसम से आग लग जाती है दिल के अंदर 😂😂😂😂😂😂😂😂 जानने का मन करता है कि उसने किया कहा किया बात कर रहे थे वो लोग।

एक तरफा प्यार को दो तरफा करने का तरीका

यह जानने की कोशिश करें कि किया वह भी आप से प्यार करती है अगर नही करती तो उससे कुछ भी कहने की कोशिश न करें। पहले उसके एक अच्छे दोस्त बनें उसे समझे और अपने बारें मे भी समझाने कि कोशिश करें इसके लिए कम से कम दो तीन महिने का समय लगेगा। जब वह आपकी अच्छी दोस्त बन जाए तब कह दो जो भी आपको कहना हैैं।अधिक जानकारी के लिए इस लेख को पढ़े; एक तरफा प्यार को दो तरफा कैसे करें?

तक़दीर ने जो रोका उन्हें,
तो वो उनकी तस्वीरों से
दिल लगाते है,
क्या ख़ूब हैं वो लोग,
जो एकतरफ़ा प्यार को भी
शिद्दत से निभाते है।

3. चुपचाप मोहब्बत 
यह थोड़ी Fanny टाईप की मोहब्बत है। filing एक तरफा की तरह ही होती है जलन भी उसी की तरह होती है। इसमें वह प्यार तो करता है लेकिन करता नही है मतलब वह स्वीकार नही करना चाहता। अरे किया बकवास कर रहे हो ? शायद ऐसा सोच रहे होगे आप। मतलब यह है अगर लड़की  लड़का जो कोई भी हैं अगर उससे I Love you भी कह दे तो पता है वो किया कहेंगा sorry मैं किसी से प्यार नही करता। जब की वह करता है उसी से जिसने I love you कहा है। इस तरह का प्यार अपने साथी को खुश देखना चाहता है बस। यह तब होता है जब एकदम अचानक किसी से प्यार हो जाता है। लेकिन आगे चलकर यह भी एक तरफा होकर दो तरफा हो सकता है।
हैलन फिसन ने अपनी पुस्तक में प्यार को तीन भागों में विभाजित किया है उनके अनुसार प्यार तीन प्रकार का होता है।
1. तन की चाह
2. मन की चाह
3. जन्म जन्मों की चाह
पहले वाला दोषपूर्ण है क्योंकि तन की चाह कभी भी प्यार हो ही नही सकता। प्रेम पवित्र होता है जिसमें विश्वास, त्याग और एक-दुसरे के प्रति केवल समर्पण होता हैं। हैलन फिसन का पहले वाला सिद्धान्त बकवास हैं।
निष्कर्ष
देखो प्यार करने से किसी को कुछ नही मिला केवल खुशी को छोड़कर। अगर मै आप से पुहूंचों  की आप पैसे क्यों कमाना चाहते है? अपने परिवार माता-पिता भाई-बहन को खुश क्यों देखना चाहते है? जहीर सी बात है आपका जबाव होगा खुशी के लिए। अगर आप से भी कोई पहुचें की आप उससे इतना प्यार क्यों करते है तो आप उसे यह जबाव दे सकते है।
प्यार कोई नही करना चाहता लेकिन वह तो हो जाता है। लेकिन यह जितनी खुशी देता है उससे कई गुना ज्यादा दुःख भी दे सकता है ऊपर से बदनामी अलग से। लेकिन लेकिन दोस्तो जब प्यार किया तो डरना क्या?
प्यार न करने वालो के लिए
मैने आप से कहा था कि इस पोस्ट को अंत तक जरूर पढ़े शायद आपकी सोच बदल जाए अगर बदल गई हो तो नीचे comment कर जरूर बताए।

हम आपके जज्बातों और भावनाओं का ह्रदय से सम्मान करते हैं। अगर इस लेख से सम्बन्धित आपका कोई सवाल है या प्रश्न है या फिर आप इस लेख के बारें मे कुछ कहना चाहते है तो नीचे comment कर जरूर बताएं। हम आपके comment का बेसब्री से इंतजार कर रहै है। अंत मे आप से एक छोटा सा अनुरोध है, अगर इस पोस्ट ने आपका थोड़ा सा भी दिल छूआ है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों संग शेयर करना न भूले हमने नीचे  WhatsApp, Facebook, twitter जैसे बड़े प्लेटफार्म के शेयर बटन लगा रखे है।

8 टिप्‍पणियां: