9/23/2020

दलीय प्रणाली के गुण एवं दोष

By:   Last Updated: in: ,

दलीय प्रणाली के गुण (daleey pranali ke gun)

1. सरकार बनाना 

प्रत्येक राजनीतिक दल सत्ता मे भागीदारी के लिए गठित होता है। अतः अपनी सरकार बनाना उसका प्रथम कार्य है। इसके लिए वह जनकार्यक्रम और अपनी नीतियों का निर्धारण करता है। निर्वाचन मे भाग लेता है तथा व्यवस्थापिका मे आने के बाद यदि बहुमत है तब सरकार बनाने का कार्य करता है। यदि बहुमत नही है तब प्रतिपक्ष की भूमिका निभाता है।

2. राजनीतिक प्रशिक्षण देना 

राजनीतिक दलों का कार्य जनता को राजनीतिक कार्यों और घटनाक्रम से अवगत करना तथा अपने विचारों की दृष्टि से प्रशिक्षित करना है। इसके लिए वे साहित्य का निर्माण करते है, पत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से अपना तर्क और दृष्टिकोण को रखते है। सभा, सम्मेलन, आन्दोलन आदि के माध्यम से भी जनता को सजग करते है। 

3. जनता और सरकार के बीच सेतु 

सरकार जनता के लिए होती है, जनता भी अपेक्षा रखती है कि सरकार जनकल्याण के कार्य करेगी। जनता और सरकार के बीच सेतु का काम राजनीतिक दल करते है। राजनीतिक दल जनता की समस्याओं को और जनता की मांग को सरकार तक पहूँचाते है। इसी प्रकार राजनीतिक दल सरकार के कार्यों और उपलब्धियों को जनता तक पहुँचाते है। केवल इतना ही नही वे उनका विश्लेषण भी करते है। दूसरी ओर जनता की समस्याओं के निराकरण के लिए सरकार पर दबाव भी डालते है।

4. क्रांति की संभावना को कम करना 

सत्ता के खिलाफ जनक्रांति तब होती है जब अपनी बात को शासन तक पहुँचाने के रास्तों को बंद कर दिया जाता है। राजनीतिक दल जन आक्रोश को प्रजातांत्रिक और संवैधानिक तरीकों से जो मूलतः शांतिमय होते है व्यक्त करते है और सरकार को बाध्य करते है कि वह जनता की भावना को महत्व देते हुए कार्य करें। ऐसा करने से जनता को एक संगठित मंच मिलता है जहाँ वह अपनी शिकायतों और परेशानियों को रख सकती है। 

5. राष्ट्रीय नीतियों का निर्माण 

राष्ट्रीय स्तर के राजनीतिक दल राष्ट्रीय नीतियों का निर्धारण करते है, राष्ट्र के आर्थिक, औधोगिक विकास की नीतियां जनकल्याण की नीतियां, शिक्षा, स्वास्थ्य, प्रतिरक्षा, आवास आदि अहम मुद्दों पर अपनी नीतियों का निर्धारण करती है तथा उन्हें जनता तक पहुँचाती है। सरकार उनके आधार पर कार्य करती है। 

6. लोकमत का निर्माण 

राजनीतिक दल लोकमत का निर्माण करते है। किसी प्रश्न पर जनता का रूख क्या होना चाहिए इसकी पहल राजनीतिक दल करते है। लोक शिक्षण का राजनीतिक दलों के कार्यों मे महत्वपूर्ण स्थान है। जनता के बिखरे हुए विचार राजनीतिक दलों के कारण संगठित रूप ले लेते है तथा किसी भी समस्या के सभी पहलुओं की जानकारी जनता को मिल जाती है।

7. संसदीय प्रणाली के संचालन मे भूमिका 

राजनीतिक दलों की अहम भूमिका संसदीय शासन प्रणाली के संचालन की है। निर्वाचन दलीय आधार पर होते है। दलीय आधार पर ही प्रत्याशी निर्वाचित होकर व्यवस्थापिका मे जाते है। व्यवस्थापिका मे जिस दल को बहुमत मिलता है वह सरकार बनाता है तथा अल्पमत प्राप्त राजनीतिक दल प्रतिपक्ष मे बैठता है। यदि राजनीतिक दल न हो तो व्यवस्थापिका को सदस्य पूरी तरह असंगठित और अनियंत्रित होंगे। ऐसे सदस्यों के साथ स्थायी मंत्रिमंडल बनाया ही नही जा सकता। राजनीतिक दल अपने सदस्यों को अनुशासित और संगठित रखते है तथा सरकार के निर्माण मे अथवा प्रतिपक्ष की भूमिका मे रचनात्मक सहयोग देते है।

दलीय प्रणाली के दोष (daleey visheshta ke dosh)

दलीय प्रणाली के कुछ दोष भी है। वस्तुतः दलीय प्रणाली प्रजातंत्र के लिए आवश्यक भी है और आवश्यक बुराई भी है। दलीय प्रणाली के दोष निम्म प्रकार है--

1. एक मात्र उद्देश्य सत्ता की प्राप्ति 

प्रजातंत्र मे राजनीतिक दलों की भूमिका को सम्मानीय स्थान प्राप्त है पर राजनीतिक दल उस स्थान को कामय नही रख पाते है। उनका कार्य राजनीतिक चेतना का विस्तार करना है पर उनके सामने येन-केन-प्रकारेण सत्ता प्राप्ति ही एक मात्र लक्ष्य हो जाता है और सभी कार्यक्रम उसी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आयोजित किए जाते है। इसके लिए मतदाताओं को कैसे भी अपने पक्ष मे करना यही कार्य करते रहते है। 

2. राष्ट्रीय हितों की उपेक्षा 

राजनीतिक दलों के कार्य राष्ट्रीय हितों के अनुकूल होना चाहिए पर दलीय प्रणाली मे कई बार राष्ट्रीय हितों की उपेक्षा होती है। राजनीतिक प्रश्नों पर उनका नजरिया राष्ट्रीय एकता की भावना को बढ़ाने वाला कम, जनता के बीच कटुता को बढ़ाने वाला अधिक होता है। नकारात्मक राजनीति नफरत की खाई को बढ़ाती है, जातीय मज़हबी और साम्प्रदायिक राजनीति राष्ट्रीय एकता के लिए खतरा पैदा करती है, राजनीतिक दलों को सत्ता प्राप्ति के लिए इन मुद्दों को लेकर टकराहट की चिंता नही रहती यह राष्ट्रीय एकता के खिलाफ है।

3. लोकमत को भ्रमित करना 

किसी भी राष्ट्रीय मुद्दे पर जनता को समर्थन या विरोध करने के प्रश्न पर जैसी भी विभिन्न राजनीतिक दलों की नीति हो उसके अनुरूप दल कार्य करते हैं। यहाँ तक तो ठीक है पर राजनीतिक प्रणाली का अवगुण यह है कि लोकमत को अपने पक्ष मे करने के लिए उचित-अनुचित का विचार किए बिना राजनीतिक दल कार्य करते है, जनता को गलत सूचनाएं देते है और गुमराह करते है। इसके परिणामस्वरूप जनता भ्रमित हो जाती है, जनता को वास्तविक सच्चाई का पता ही नही चलता।

4. दल की तानाशाही 

दलीय (राजनीतिक) प्रणाली दलीय अधिनायकतंत्र स्थापित करती है। राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं को दल और उसकी नीतियों के विरोध मे अपने विचार जनता मे व्यक्त करने की स्वतंत्रता नही रहती। इसी प्रकार व्यवस्थापिका का सदस्य बनने के बाद उसे दल के अनुशासन मे रहना पड़ता है। सदन मे किस प्रस्ताव का समर्थन करना है और किस प्रस्ताव का विरोध करना है यह दल निश्चित करता है। दल की नीति के अनुसार ही सदन मे समर्थन या विरोध सदस्य करते है। इस रूप मे देखे तो सदस्य अपनी पार्टी की कठपुतलियाँ होते है, विचारों को व्यक्त करने की उनकी स्वतंत्रता समाप्त हो जाती है। यदि सदस्य पार्टी द्वारा स्वीकार की गई लाइन से हटकर कुछ कहने की सोचता भी है तो उसे दल की अवज्ञा करने वाला माना जाता है और उसके विरोध मे अनुशासत्मक कार्यवाही की जाती है। 

5. समय एवं धन की बर्बादी 

दलों के कारण विधानमंडल के भीतर बहुत समय वाद-विवादों मे नष्ट किया जाता है। इससे देश का बहुमूल्य समय और धन बर्बाद होता है।

6. दलीय प्रणाली से देश योग्य व्यक्तियों की सेवा से वंचित रह जाता है

जो विरोधी दल मे है, क्योंकि सत्तारूढ़ दल उनके अच्छे से अच्छे परामर्श को भी ठुकरा देता है।

7. आपातकालीन समय मे अनुपयुक्त 

दलीय प्रणाली सामान्य समय मे तो जनता को बाँटती ही है। आपातकाल मे भी राष्ट्रीय महत्व के प्रश्नों पर जनता को एकमत नही होने देती। यद्यपि कुछ देशों मे यह स्थिति नही है उदाहरण के लिए संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और ब्रिटेन मे राष्ट्रीय संकट के समय सभी मतभेद भुलाकर सब एक हो जाते है तथापि यह समस्या भारत, श्रीलंका आदि देशों मे अधिक पाई जाती है। भारत मे तो चीन के आक्रमण के समय भी पूरा देश एक मत और एक स्वर से अभिप्राय के विरोध मे खड़ा नही हो सका। यही स्थिति विदेश नीति के संबंध मे भी आती हैं।

संदर्भ; मध्यप्रदेश हिन्दी ग्रन्थ अकादमी 

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;अधिकार अर्थ, परिभाषा, प्रकार

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;कर्त्तव्य का अर्थ, परिभाषा, प्रकार

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;स्वतंत्रता का अर्थ, परिभाषा, प्रकार

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;समानता अर्थ, प्रकार

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;संविधान अर्थ, परिभाषा, वर्गीकरण या प्रकार

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;एक अच्छे संविधान के लक्षण या विशेषताएं

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;लोक कल्याणकारी राज्य अर्थ, परिभाषा, कार्य

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;लोक कल्याणकारी राज्य की विशेषताएं

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;एकात्मक शासन प्रणाली अर्थ, विशेषताएं, गुण एवं दोष

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;संघात्मक शासन, अर्थ, विशेषताएं, गुण एवं दोष

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;संसदात्मक शासन अर्थ, विशेषताएं, गुण एवं दोष

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;अध्यक्षात्मक शासन अर्थ, विशेषताएं, गुण एवं दोष

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;राजनीतिक दल का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए;दलीय प्रणाली के गुण एवं दोष

यह भी पढ़ें; प्रजातंत्र के सिद्धांत, महत्व एवं गुण दोष
यह भी पढ़ें; प्रजातंत्र का अर्थ, परिभाषा, प्रकार एवं विशेषताएं

यह भी पढ़ें; राजनीतिक दलों मे विपक्ष की भूमिका
यह भी पढ़ें; राजनीतिक दलों के कार्य (भूमिका) दलीय व्यवस्था के प्रकार एवं महत्व

यह भी पढ़ें; भारतीय चुनाव प्रणाली के दोष

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।