5/09/2020

कहानी किसे कहते हैं? तत्व विविध रूप प्रकार या भेद

By:   Last Updated: in: ,



कहानी में मानव जीवन के किसी एक पक्ष का मनोहारी चित्रण किया जाता हैं। किसी एक प्रभाव को उत्पन्न करना ही कहानी का उद्देश्य रहता हैं। आज हम कहानी किसे कहते हैं? कहानी का अर्थ, कहानी के तत्व और प्रकार हिन्दी कहानी का विकास जानेंगे।
कहानी

कहानी किसे कहते हैं? (kahani kise kehte hain)

कहानी गद्द साहित्य की सबसे लोकप्रिय मनोरंजक विधा है। कहानी साहित्य की वह गद्द रचना है जिसमें जीवन के किसी एक पक्ष का कल्पना प्रधान ह्रदयस्पर्शी एवं सुरुचिपूर्ण कथात्मक वर्णन होता हैं। रवीन्द्रनाथ टैगोर के अनुसार "नदी जैसे जलस्रोत की धार है, वैसे ही कहानी का प्रवाह हैं"
कहानी मानव-जीवन का वह खण्ड चित्र है जिसकी कोई सीमा रेखा नही और जिसमें किसी एक पक्ष की अनिवार्यता नहीं। 
उपन्यास और कहानी के अंतर को स्पष्ट करते हुए प्रेमचंद का कथन है " कहानी ऐसी रचना है, जिसमें जीवन के किसी एक अंग या किसी एक मनोभाव को प्रदर्शित करना लेखक का उद्देश्य रहता है। उसे उसके चरित्र, उसकी शैली, उसका कथाविन्यास सभी उसी एक भाव को पुष्ट करने होते हैं।" उपन्यास मे मानव जीवन का संपूर्ण वृहत रूप दिखाने का प्रसास किया जाता हैं। कहानी में उपन्यास की तरह सभी रसों का समावेश नही होता हैं। मुंशी प्रेमचंद तथा जयशंकर प्रसाद, जैनेन्द्र, अज्ञेय, यशपाल आदि कहानीकारों मे लोकप्रिय हैं।

कहानी के तत्व (kahani ke tatv)

कहानी के 6 तत्व होते है जो इस प्रकार से है---
1. कथावस्तु अथवा कथानक
2. कथोपकथन अथवा संवाद 
3. चरित्र चित्रण अथवा पात्र
4. देशकाल-वातावरण
5. भाषा-शैली और शिल्प 
6. उद्देश्य 

कहानी के विविध रूप, प्रकार या भेद (kahani ke pirkar)

1. घटना प्रधान कहानी 
घटना प्रधान कहानियों मे क्रमशः अनेक घटनाओं को एकसूत्र में पिरोते हुए कथानक का विकास जाता है अथवा किसी दैवी घटना या संयोग पर ही कहानी आधारित होती हैं। आदर्श कहानियाँ, जासूसी और तिलस्मी कहानियाँ इसी प्रकार की होती हैं।

2. चरित्र प्रधान कहानी 
चरित्र प्रधान कहानियों मे विभिन्नता के कारण चरित्र चित्रण पर ध्यान दिया जाता है। साथ ही मनोवैज्ञानिक, पृष्ठभूमियों की सूक्ष्म चारित्रिक विशेषताओं का उद्घघाटन किया जाता है। अपने समय मे प्रेमचंद सामाजिक धरातल की और प्रसाद ऐतिहासिक धरातल की चरित्र प्रधान कहानियों के सर्वश्रेष्ठ लेखक थें।


3. वातावरण प्रधान कहानी 
इस प्रकार की कहानियों मे वातावरण का चित्रण विशेष रूप से होता है और उसी के माध्यम से युग विशेष की अभिव्यक्ति किया जाता हैं। ऐतिहासिक कहानियों मे इसका महत्वपूर्ण स्थान है।

4. भाव प्रधान कहानी
ये कहानियाँ किसी भाव या विचार के आधार पर आधारित होती हैं और तदनुरूप प्रतीकात्मक चरित्रों एवं वातावरण पर आधारित होती है।


हिन्दी कहानी का विकास 

कहानी के विकास को जानने के लिये पौराणिक आख्यानों, जातक कथाओं, पंचतंत्र और हितोपदेश को जानना होगा। इसके अतिरिक्त कथा सरित्सागर, वृहत्कथा, और बैतालपंचविशति में भी शिक्षाप्रद मनोरंजक कथाएँ मिलती हैं। 
संस्कृत कथा साहित्य की यह परम्परा प्राकृत और अपभ्रंश में भी विकासमान रही। गद्य की अन्य विधाओं की भांति हिन्दी कहानी भी आधुनिक युग की देन है। कुछ आलोचक हिन्दी कहानी का आरम्भ सदल मिश्र के " नासिकेतोपाख्यान " तथा इंशाअल्ला खां की " रानी केतकी की कहानी " से मानते हैं। अधिकांश विद्वानों ने किशोरीलाल गोस्वामी की " इन्दुमती " को जिसका प्रकाशन सन् 1900 ई. मे हुआ था, हिन्दी की प्रथम कहानी माना हैं। उत्क कहानी को आधार मानकर कहानी के विकास को तीन भागों में विभक्त किया जा सकता है। आरंभिक काल 1900 से 1910 विकास काल 1911 से 1946 उत्कर्षकाल 1947 से अब तक।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए सरल एवं स्पष्ट भाषा में रस किसे कहते हैं? दसों रस की परिभाषा भेद उदाहरण सहित
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए अलंकार किसे कहते हैं, भेद तथा प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए डायरी किसे कहते है?
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए नई कविता किसे कहते हैं? नई कविता की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रहस्यवाद किसे कहते हैं? रहस्यवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए प्रयोगवाद किसे कहते हैं? प्रयोगवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए प्रगतिवाद किसे कहते हैं? प्रगतिवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए छायावाद किसे कहते हैं? छायावादी काव्य की मुख्य विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए नाटक किसे कहते है? परिभाषा, विकास क्रम और तत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए उपन्यास किसे कहते है? उपन्यास का विकास क्रम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए कविता किसे कहते है? कविता का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए  काव्य किसे कहते है? काव्य का अर्थ भेद और प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रेखाचित्र किसे कहते है? रेखाचित्र का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए संस्मरण किसे कहते है? संस्मरण का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रिपोर्ताज किसे कहते है? riportaj kya hai
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए आलोचना किसे कहते है? आलोचना का क्या अर्थ हैं जानिए
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए जीवनी किसे कहते हैं?
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए आत्मकथा किसे कहते हैं? जानिए
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए एकांकी किसे कहते है? तत्व और प्रकार

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए कहानी किसे कहते हैं? तत्व विविध रूप प्रकार या भेद

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।