5/10/2020

आलोचना किसे कहते है? आलोचना का क्या अर्थ हैं जानिए

By:   Last Updated: in: ,


आलोचना हिन्दी गद्य की प्रमुख विधा है। आलोचना का अर्थ हैं किसी रचना को उचित प्रकार परख कर उसके गुण दोषों की समीक्षा करना और उसके विषय मे अपने विचार प्रस्तुत करना। आज हम आलोचना क्या हैं? आलोचना का क्या अर्थ हैं? आलोचना किसे कहते है? पर चर्चा करेंगें। आलोचना के लिए समीक्षा शब्द का प्रयोग भी किया जाता हैं।

आलोचना का अर्थ तथा आलोचना किसे कहते हैं?{alochana kise kahte hai}

आलोचना का अर्थ है किसी साहित्यिक रचना को पूरी तरह से देखना, परखना। इस प्रकार रचना का प्रत्येक दृष्टि से विश्लेषण और मूल्यांकन कर पाठकों को उस रचना के मूल तक पहुँचाने मे सहायता करना आलोचना का मुख्य उद्देश्य हैं। सैद्धांतिक आलोचना की परम्परा संस्कृत एवं हिन्दी मे बहुत पुरानी है, पर आधुनिक साहित्य के विवेचन एवं मूल्यांकन के लिए व्यावहारिक आलोचना की आवश्यकता पड़ी। इस नई आलोचना का पहला रूप पुस्तक समीक्षाओं के रूप मे भारतेंदु युग मे प्रारंभ हो गया था। महावीर प्रसाद द्विवेदी ने आलोचना के क्षेत्र मे पुस्तक समीक्षा का स्तर ऊँचा किया और प्राचीन कवितायों की व्यवस्थित आलोचना की परिपाटी चलाई।
हिन्दी आलोचना के वास्तविक रूप का विकास तीसरे एवं चौथे दशकों मे आचार्य रामचंद्र शुक्ल के द्वारा हुआ। हिन्दी साहित्य का इतिहास तथा 'तुलसी' "सूर" एवं जायसी की समीक्षात्मक भूमिकाओं द्वारा व्यावहारिक आलोचना तथा चिन्तामणि के निबन्धों द्वारा सैद्धांतिक समीक्षा को शुक्ल जी ने विशेष शास्त्रीय गरिमा प्रदान की। वस्तुतः शुक्ल जी हजारी प्रसाद द्विवेदी एवं नगेन्द्र जैसे समीक्षकों ने आगे बढ़ाया है। समसामयिक युग में अज्ञेय, देवीशंकर अवस्थी, इन्द्रनाथ मदान, रामविलास शर्मा, डाॅ. प्रभाकर श्रोत्रिय आदि के नाम उल्लेखनीय हैं। 
शिवशंभु का 'चिट्ठठा' और "खत" मे यदि गुप्त जी ने लार्ड कर्जन को अपने व्यंग्य का निशाना बनाया था तो डाॅ. नामवर सिंह ने 'बकलम खुद' के निबन्धों मे लेखकों, राजनीतिज्ञों, गांधीवादियों, कागज का राज, अखबार, शिक्षा, पूंजीवाद आदि पर तीखे व्यंग्य किए है। 
आलोचना के लिए समालोचना एवं समीक्षा शब्दों का भी प्रयोग होता हैं।
कुछ समालोचक लेखकों के नाम इस प्रकार हैं---
1. डाॅ. श्यामसुन्दर दास
2. आचार्य रामचंद्र शुक्ल 
3. डाॅ. हजारी प्रसाद द्विवेदी 
4. डाॅ. नागेन्द्र 
5. डाॅ. रामविलास शर्मा 
6. बाबू गुलाबराय 
7. आचार्य नन्ददुलारे वाजपेयी आदि।
इस लेख मे हमने जाना की आलोचना क्या हैं? आलोचना किसे कहते है? आलोचना का क्या अर्थ हैं। अगर आपका इस लेख से सम्बंधित कोई सवाल हैं तो नीचे comment कर जरूर बताएं।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए सरल एवं स्पष्ट भाषा में रस किसे कहते हैं? दसों रस की परिभाषा भेद उदाहरण सहित
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए अलंकार किसे कहते हैं, भेद तथा प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए डायरी किसे कहते है?
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए नई कविता किसे कहते हैं? नई कविता की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रहस्यवाद किसे कहते हैं? रहस्यवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए प्रयोगवाद किसे कहते हैं? प्रयोगवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए प्रगतिवाद किसे कहते हैं? प्रगतिवाद की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए छायावाद किसे कहते हैं? छायावादी काव्य की मुख्य विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए नाटक किसे कहते है? परिभाषा, विकास क्रम और तत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए उपन्यास किसे कहते है? उपन्यास का विकास क्रम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए कविता किसे कहते है? कविता का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए  काव्य किसे कहते है? काव्य का अर्थ भेद और प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रेखाचित्र किसे कहते है? रेखाचित्र का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए संस्मरण किसे कहते है? संस्मरण का क्या अर्थ हैं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए रिपोर्ताज किसे कहते है? riportaj kya hai
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए आलोचना किसे कहते है? आलोचना का क्या अर्थ हैं जानिए
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए जीवनी किसे कहते हैं?
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए आत्मकथा किसे कहते हैं? जानिए
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए एकांकी किसे कहते है? तत्व और प्रकार

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए कहानी किसे कहते हैं? तत्व विविध रूप प्रकार या भेद

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।