9/26/2020

अनुसूची अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं, प्रकार

By:   Last Updated: in: ,

अनुसूची का अर्थ/अनुसूची क्या है?

anusuchi meaning in hindi;प्रायः अनुसूची और प्रश्नावली का समान अर्थों मे प्रयोग होता है पर यह धारण भ्रमपूर्ण है। तथापि अनुसूची, प्रश्नावली की ही तरह प्रश्नों की सूची होती है व दोनों का ही बाहरी स्वरूप प्रायः समान होता है फिर भी दोनों की प्रकृति तथा उपयोग की प्रक्रिया बिल्कुल भिन्न है।

जैसा की पूर्व मे कहा गया है कि अनुसूची भी प्रश्नावली के तरह ही प्रश्नों की एक सूची होती है, लेकिन इसकी प्रकृति और उपयोग की प्रक्रिया अगल होती है। अनुसूची को अध्ययनकर्ता स्वयं अपने साथ ले जाता है और सूचनादाता से प्रश्नों को पूछकर प्राप्त उत्तरो को स्वयं लिखता है। इस प्रकार अवलोकन तथा साक्षात्कार मे अनुसूची का प्रयोग किया जाता है। साक्षात्कार मे अनुसूची का प्रयोग साक्षात्कार को नियंत्रित करता है। जहां प्रश्नावली का क्षेत्र विस्तृत होता है तथा उससे सूचनायें प्राप्त होती है वहीं अनुसूची का क्षेत्र सीमित होता है और इससे अध्ययन विषय पक्षों का ही अध्ययन सम्भव होता है। 

अनुसूची की परिभाषा (anusuchi ki paribhasha)

पी. वी. यंग के अनुसार " हम कह सकते है कि अनुसूची एक गणनात्मक उपकरण है जो औपचारिक व मानकीकृत पूछताछ (जाँच) मे परिमाणात्मक प्रतिनिध्यात्मक (अनुप्रस्थ परिच्छेदात्मक) सामग्री संकलन मे सहायता के उद्देश्य से प्रयोग मे लाई जाती है। 

गुडे एवं हट के शब्दों मे " अनुसूची प्रायः प्रश्नों के समूह के लिए उपयोग मे लाया जाने वाला नाम है जो एक साक्षात्कारकर्ता द्वारा अन्य व्यक्तियों से आमने-सामने की स्थिति मे पूछे और भरे जाते है।

डाॅ. गोपाल के शब्दों मे " अनुसूची एक अर्थ मे विभिन्न मदों अथवा पक्षों की एक विस्तृत, वर्गीकृत, नियोजित और श्रेणीबद्ध सूची है जिस पर सूचनादाताओं से सूचना प्राप्त की जाती है।

बोगार्ड्स के अनुसार " अनुसूची उन तथ्यों को प्राप्त करने की एक औपचारिक विधि है जो स्थूल रूप मे होते है तथा जिन्हें सरलता से देखा जा सकता है... इस प्रकार अनुसूची अध्ययनकर्ता द्वारा स्वयं ही भरी जाती है। 

स्पष्ट है कि अनुसूची बहुत से प्रश्नों की एक व्यवस्थित सूची है जिसका उपयोग अध्ययनकर्ता द्वारा सूचनादाताओं से साक्षात्कार की प्रक्रिया द्वारा सूचनाओं का संकलन करने मे किया जाता है।

अनुसूची की विशेषताएं (anusuchi ki visheshta)

1. अनुसूची समाज वैज्ञानिक अनुसंधान मे प्राथमिक सामग्री के संकलन का एक प्रमापित उपकरण है।

2. अनुसूची मे अनुसंधान विषय से संबंधित विविध प्रश्न होते है। 

3. ये प्रश्न अनुसंधान विषय से संबंधित होते है और इन्हें कुछ अनुभागों व मदों मे व्यवस्थित क्रम मे रखा गया होता है।

4. अनुसूची मे दिये प्रश्नों मे साक्षात्कारकर्ता किसी प्रकार का हेर-फेर नही कर सकता। इस तरह यह शोधकर्ता पर नियंत्रण रखने का कार्य भी करती है। 

5. अनुसूची का प्रयोग सभी प्रकार की शैक्षणिक योग्यता रखने वाले व्यक्तियों के लिये किया जा सकता है।

6. अनुसूची का प्रयोग अपेक्षाकृत छोटे क्षेत्र के लिये ही किया जाता है।

7. अनुसूची किसी शोन (अनुसंधान) विषय या समस्या के अध्ययन हेतु विषय से सम्बंधित अनेक प्रश्नों की एक वर्गीकृत सूची है।

8. अनुसूची का प्रयोग सूचनादाता से प्रत्यक्ष सम्पर्क कर उससे सूचनायें प्राप्त करने हेतु किया जाता है।

9. इसका उपयोग शोधकर्ता को घटना-स्थल का अवलोकन करने का अवसर देता है।

10. अनुसूची मे पूछे गये प्रश्न सामान्यतया बंद, मानकीकृत व पूर्व कूटित होते है। इसके अलावा इसमे खुले प्रश्न भी हो सकते है।

11. अनुसूची मे प्रश्नों की संख्या यथासंभव सीमित होती है जिससे कि उसे भरने मे अन्वेषक सूचनादाता का अधिक समय नही ले।

12. अनुसूची मे प्रश्नों का उत्तर अन्वेषक या क्षेत्रकर्ता सूचनादाता से प्रत्यक्ष आमने-सामने की स्थिति मे पूछकर भरता है।

अनुसूची के प्रकार (anusuchi ke prakar)

1. अवलोकन अनुसूची 

अवलोकन अनुसूची का उपयोग पूर्व निश्चित बिन्दुओं पर अवलोकन के माध्यम से जानकारी अभिलेखित करना है। इसके माध्यम से हम अवलोकन को अधिक स्पष्ट, निश्चित, शोध केन्द्रित तथा वैषयिक व मानकीकृत बनाते है।

2. साक्षात्कार अनुसूची 

साक्षात्कार अनुसूची उत्तरदाताओं से प्रत्यक्ष सम्पर्क स्थापित कर प्रश्नों का उत्तर प्राप्त करने से सम्बंधित होती है। आमतौर पर अनुसूची शब्द का प्रयोग साक्षात्कार अनुसूची के अर्थ मे ही होता है। यह अनुसूची व्यक्तियों से साक्षात्कार के माध्यम से सूचना एकत्र करने मे प्रयुक्त होती है। इसमे अनुसंधान विषय से सम्बंधित प्रश्नों को विभिन्न मदों के अंतर्गत व्यवस्थित क्रम मे रखा जाता है जिनसे संबंधित जानकारी सूचनादाता से साक्षात्कार के दौरान पूछकर भरी जाती है।

3. प्रलेख अनुसूची 

यह अनुसूची द्वितीयक स्त्रोतों विशेष रूप से व्यक्तिगत जीवन-इतिहास, डायरी तथा सरकारी व गैर सरकारी अभिलेख आदि से जानकारी एकत्र करने के लिए बनाई जाती है जिससे विभिन्न प्रलेखों मे उपलब्ध विस्तृत व व्यापक जानकारी से शोध के लिए काम आने वाली जानकारी को संक्षिप्त व विश्लेषण योग्य रूप मे एकत्र किया जा सके।

4. मूल्यांकन अनुसूची 

जब किसी घटना पक्ष या वस्तु से संबंधित विषयों के संबंध मे सूचनादाता की प्रवृत्ति, राय, दृष्टिकोण के संबंध मे सांख्यिकीय माप करनी हो तो इस प्रकार की अनुसूची का प्रयोग होता है। जैसे-- संयुक्त परिवार को विघटित करने वाले उत्तरदायी कारकों ता छूआछूत की भावना को कमजोर करने वाले कारकों का मूल्यांकन करने के लिए मूल्यांकन अनुसूची का प्रयोग होता है।

5. संस्था सर्वेक्षण अनुसूची 

इस प्रकार की अनुसूची का उपयोग संस्था के सर्वेक्षण या इसकी विभिन्न समस्याओं का अध्ययन करने हेतु किया जाता है। इस प्रकार की अनुसूची वास्तव मे संस्था से सम्बंधित सम्पूर्ण तथ्यों की जानकारी प्राप्त करने की महत्वपूर्ण प्रविधि होती है। शासकीय संस्थाओं के अध्ययन मे इसका ज्यादा प्रयोग किया जाता है।

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रश्नावली का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं, प्रकार, गुण एवं दोष 

आपको यह भी जरूर पढ़ना चाहिए; प्रश्नावली और अनुसूची में अंतर 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।