8/09/2020

सामाजिक प्रक्रिया का अर्थ और परिभाषा

By:   Last Updated: in: ,

सामाजिक प्रक्रिया का अर्थ (samajik prakriya ka arth)

मैकाइवर तथा पेज ने प्रक्रिया की व्याख्या सामाजिक परिवर्तन के संदर्भ मे करते हुए लिखा है, " प्रक्रिया का अर्थ है निरंतर परिवर्तन जो परिस्थिति की आंतरिक शक्तियों के घात-प्रतिघात के फलस्वरूप निश्चित रूप से घटित होता है। इस परिभाषा के अनुसार समूह के विभिन्न सदस्य जब एक साथ किसी क्रिया-प्रतिक्रिया से संफध्द होते है तो उसके फलस्वरूप पूर्व स्थिति मे परिवर्तन होता है, एक स्थिति से दूसरी स्थिति की ओर जाना, यह है सामाजिक प्रक्रिया जो निरंतर गतिशील रहती है।

सामाजिक प्रक्रिया की परिभाषा 

बीसेन्ज के अनुसार " परस्पर संबंधों, क्रिया के विभिन्न स्वरूपों को सामाजिक प्रक्रियाएं कहते है।
पार्क और बर्गेस " सामाजिक प्रक्रिया से अर्थ उन समस्त परिवर्तनों से है जो समूह के जीवन मे परिवर्तन माने जाते हैं।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक प्रक्रिया का अर्थ और परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामंजस्य का अर्थ, परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रतिस्पर्धा क्या है? परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रतिस्पर्धा के प्रकार, महत्व या परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; घरेलू हिंसा अधिनियम 2005
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मानवाधिकार का अर्थ, परिभाषा और रक्षा की आवश्यकता 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना का अधिकार क्या है, सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के उद्देश्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना आयोग का संगठन एवं कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना की अधिकार की विशेषताएं, नियम एवं धाराएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विचलन क्या है? विचलन के कारण एवं प्रकार अथवा दिशाएँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; युद्ध का अर्थ, परिभाषा एवं कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; युद्ध के परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक आंदोलन अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; औधोगिकरण का अर्थ, सामाजिक और आर्थिक प्रभाव 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; आधुनिकीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रभाव 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; नगरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं और प्रभाव 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।