7/01/2020

सूचना के अधिकार की विशेषताएं, नियम एवं धाराएं

By:   Last Updated: in: ,

सूचना का अधिकार की विशेषताएं, प्रावधान, धाराएं एवं नियम 

सूचना के अधिकार का उद्देश्य प्रत्येक नागरिक को राज्य या अन्य प्राधिकारियों के अधीन रखी गई अधिकतम जानकारियां उपलब्ध कराना है ताकि शासन मे पारदर्शिता सुनिश्चित की जा सके ताकि भ्रष्टाचार को रोकने उत्तरदायित्व निर्धारित करने, कार्य क्षमता मे वृद्धि करने तथा लोकतंत्रिक अधिकारों को सुनिश्चित करने के उद्देश्य को पूरा किया जा सके।
1. सूचना के अधिकार के दायरे मे संघीय सरकार तथा राज्य सरकारों के अलावा पंचायती राज्य संस्थाओं, स्थानीय निकाय और प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से सरकार से सहायता प्राप्त गैर सरकारी संगठनों को शामिल किया गया है।
2. सूचना के अधिकार मे कार्य, डाॅक्यूमेंट या रिकार्ड का निरीक्षण करना; डाॅक्यूमेंट या रिकार्ड की प्रतिलिन प्राप्त करना: पदार्थों का सत्यापित नमूना लेना तथा डिस्क फ्लापी या अन्य इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों मे जानकारी लेना शामिल है।
3. प्रत्येक प्राधिकारी के अंतर्गत एक जन सूचना अधिकारी की नियुक्ति का प्रावधान किया गया है जो मांग गयी सूचना निर्धारित समय सीमा के भीतर उपलब्ध करने के लिए जिम्मेदार होगा। सूचना को यथासंभव मांगे गये प्रारूप मे ही उपलब्ध कराया जाएगा।
4. सूचना प्राप्त करने के लिए अनुरोध लिखित, मौखिक या इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों द्वारा अंग्रेजी, हिन्दी या किसी स्थानीय भाषा मे किया जा सकता है। जन सूचना अधिकारी का यह दायित्व होगा कि वह मौखिक अनुरोध को लिखकर सूचना उपलब्ध कराये।
5. जन सूचना अधिकारी का दायित्व होगा कि वह सूचना का अनुरोध प्राप्त होने पर यथाशीघ्र तथा हर हाल मे 30 दिन के भीतर जानकारी उपलब्ध कराये या अनुरोध अस्वीकार करने की सूचना कारण सहित दे।
6. यदि माँगी गई सूचना किसी व्यक्ति के जीवन या स्वतंत्रता के अधिकार से संबंधित है, तो वांछित सूचना 48 घंटे के अंदर उपलब्ध करायी जाएगी।
7. सूचना के अनुरोध को अस्वीकार किये जाने पर अस्वीकृत के कारण, अपीलीय प्राधिकारी, अपील की समय-समय तथा अपील के नियम की जानकारी दी जानी चाहिए।
8. सूचना के अनुरोध के लिए प्रति अनुरोध 10 रूपये का शुल्क निर्धारित किया गया है जो सूचना से संबंधित प्राधिकारी के वित्तीय अधिकारी को नगद या किसी अन्य रूप से जमा किया जा सकता है। गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले व्यक्तियों से तथा समय-सीमा के भीतर सूचना उपलब्ध नही कराये जाने पर कोई शुल्क नही लिया जाएगा।
9. सूचना के अधिकार अधिनियम की धारा 8 मे उन अपवादों का उल्लेख है कि जिसके अंतर्गत किसी नागरिक को वांछित सूचनाएं नही दी जा सकती जैसे---
(क) देश की सार्वभौमिकता, अखण्डता, सूरक्षा, सामरिक महत्व, वैज्ञानिक अथवा आर्थिक हितों से जुड़ी जानकारी।
(ख) अदालत या किसी न्यायाधिकरण द्वारा प्रतिबंधित सूचनाएं।

(ग) संसद तथा विधानमंडलों के विशेषाधिकार हनन से जुड़ी सूचना।
(घ) व्यक्तिगत मामलों से जुड़ी सूचनाएं जिनका कोई सार्वजनिक महत्व नही है।
(ङ) दूसरे देशों के संबंध को प्रभावित करने वाली सूचनाएं।
(च) व्यापारिक सूचना, व्यावसायिक रहस्य तथा बौध्दिक संपत्ति से संबंधित सूचना।
(छ) किसी व्यक्ति के जीवन या सुरक्षा को प्रभावित करने वाली या अपराध को प्रेरित करने वाली सूचना।
10. मानवाधिकार हनन के मामलों के अलावा अन्य मामलों मे गुप्तचर एजेंसियों और सुरक्षा संगठनों को इसके दायरे से बाहर रखा गया है।
11. निर्धारित समय सीमा के भीतर सूचना प्राप्त न होने या सूचना के अनुरोध के अस्वीकार हो जाने के 30 दिन के भीतर इसकी अपीलीय अधिकारी को की जा सकती हैं। ऐसे अपील को 30 दिनों या समुचित कारण होने पर 45 दिनों के भीतर अपीलीय अधिकारों द्वारा निपटाया जाना चाहिए।
12. प्रथम अपील के अस्वीकृति हो जाने पर 90 दिन के भीतर केन्द्रीय या राज्य सूचना आयोग के पास दूसरी अपील की जा सकती है। सूचना आयोग का निर्णय अंतिम और बाध्यकारी होगा।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विधानसभा का गठन, शक्तियाँ व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; राज्यसभा का गठन, शक्तियाँ व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; लोकसभा का गठन, लोकसभा की शक्तियाँ व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; लोकसभा स्पीकर के कार्य व शक्तियाँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मुख्यमंत्री की शक्तियाँ व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मंत्रिपरिषद् का गठन, राज्य मंत्रिपरिषद् के कार्य व शक्तियाँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; राज्यपाल की शक्तियाँ व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; भारतीय प्रधानमंत्री की शक्तियाँ व कार्य एवं भूमिका
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना आयोग का संगठन एवं कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना के अधिकार की विशेषताएं, नियम एवं धाराएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; भारत के राष्ट्रपति की शक्तियां व कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के उदय के कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना का अधिकार क्या है? सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के उद्देश्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; राज्य के नीति निदेशक तत्वों का महत्व एवं आलोचना
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; राज्य के नीति निर्देशक तत्व क्या है? नीति निदेशक सिद्धान्त
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मौलिक कर्त्तव्य क्या है? मूल कर्तव्य कितने है, जानिए
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मौलिक अधिकार क्या है? मूल अधिकारों का महत्व एवं उनकी संख्या
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; भारतीय संविधान का निर्माण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए
समाजशास्त्र
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना के प्रकार (भेद)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; रेडक्लिफ ब्राउन के सामाजिक संरचना संबंधी विचार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य का अर्थ और परिभाषा 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य की अवधारणा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संगठन का अर्थ,परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संगठन के आवश्यक तत्व 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक विघटन का अर्थ, परिभाषा एवं स्वरूप 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संघर्ष का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;  संघर्ष के कारण, महत्व एवं परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सहयोग अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सहयोग के स्वरूप या प्रकार एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; व्यवस्थापन अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; व्यवस्थापन के प्रकार व व्यवस्थापन की पद्धतियाँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सात्मीकरण का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक प्रक्रिया का अर्थ और परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामंजस्य का अर्थ, परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रतिस्पर्धा क्या है? परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रतिस्पर्धा के प्रकार, महत्व या परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; घरेलू हिंसा अधिनियम 2005
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मानवाधिकार का अर्थ, परिभाषा और रक्षा की आवश्यकता 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना का अधिकार क्या है, सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के उद्देश्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना आयोग का संगठन एवं कार्य
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सूचना की अधिकार की विशेषताएं, नियम एवं धाराएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विचलन क्या है? विचलन के कारण एवं प्रकार अथवा दिशाएँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; युद्ध का अर्थ, परिभाषा एवं कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; युद्ध के परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक आंदोलन अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; औधोगिकरण का अर्थ, सामाजिक और आर्थिक प्रभाव 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; आधुनिकीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रभाव 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; नगरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं और प्रभाव 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।