har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

3/13/2021

हमेशा सकारात्मक कैसे बने?

By:   Last Updated: in: ,

sakaratmak kaise bane;सकारात्मक विचार, सकारात्मक कैसे बनेसकारात्मकता क्या होती है? सकारात्मक बनने के फायदे/महत्व, सकारात्मक बनने के टिप्स (tips)

जीवन में सकारात्मकता, ख़ुशी और सफलता एक दूसरे से ही जुड़े है। अगर आप जीवन में सकारात्मक है तो आप खुश रहेंगे और यदि आप खुश हैं तो ही आप जीवन में सफल हो पाएंगे। दुनिया में सकारात्मक इंसान वो नहीं बन सकता जिसके मन मे क्रोध है जिसके मन में डर है और जो जीवन में किसी से जलता है। जो इंसान इन सब बुराईयों से परे है या दूर है उसका मन ही सकारात्मक मन है। वह ही इंसान अपने जीवन को अच्छे से व्यतीत कर सकता है। अगर आप भी अपने जीवन को अच्छे से जीना चाहते हैं तो सकारात्मक जीवन को अपनाए जिंदगी में कभी भी किसी भी गलत चीज़ से ना डरे जिंदगी में कभी भी किसी की कामयाबी से ना जले सिर्फ उससे रेस कर के उसकी तरह या उससे भी आगे निकलने की सोच रखे। जीवन में कभी भी क्रोध ना करे जीवन को मुस्कुरा कर हँसी ख़ुशी से जिए क्रोध किसी भी चीज़ का हल नहीं है। क्रोध से बनने वाला काम भी खराब होता है। आज के इस article के जरिये हम आपको यह बताएँगे की सकारात्मक कैसे बने? सकारात्मकता क्या होती है? सकारात्मक बनने के फायदे, सकारात्मक बनने के टिप्स (tips)

सकारात्मक कैसे बने?

sakaratmak kaise bane;सकारात्मक बनने के लिए आपको हर चीज़ में अच्छाई को ढूंढना होगा। सकारात्मक बनने के लिए आपको अपने जीवन में अच्छे विचारों को अपनाना होगा। सकारात्मक बनने के लिए आपको अच्छा सोचना और अच्छा बोलना होगा। हर एक इंसान का आदर करना होगा। अपने अंदर के डर को बहार निकलना होगा। अपने अंदर के क्रोध को छोड़ना होगा। सब से प्यार करना होगा। सकारात्मक इंसान ही अपने जीवन को अच्छे से जिए सकता है।

सकारात्मक रहने के लिए मन मे अच्छे विचारों होना जरूरी है। सकारात्मक रहने के लिए इन 5 सुविचारों को फाॅलो करे-

सुविचार  नम्बर 1.

कल की चिंता मत करो कल की चिंता में आज भी खत्म हो जायेगा।

दुनिया का सबसे बड़ा सच यही है कि हर चीज़ अपने एक निर्धारित समय पर ही होनी है। आज जो होना है कल जो होगा उसका समय तय है। 

सुविचार नम्बर  2. 

क्रोध मुक्त जीवन जीए

क्रोध इंसान का सबसे बड़ा दुशमन है। क्रोध से हर काम खराब ही होता है। जीवन में जो होना था वो तो हो गया उसके ऊपर क्रोध करने से कुछ नहीं होगा। उदहारण के तौर पर आप मान लिजिए की आप एक दुकानदार है किसी एक ग्राहक की किसी बात से आपको दुख पहूंचा और आपको क्रोध आ गया और उसी क्रोध के कारण अपने दूसरे ग्राहकों के साथ अच्छा व्यहवार नहीं किया तो इसमें आपका ही नुकसान है। इसलिए आप क्रोध मुक्त जीवन जीए।

सुविचार नम्बर  3. 

किस्मत पर विश्वास करे लकीरो पर नहीं।

हर एक को किस्मत पर विश्वास करना चाहिए। किस्मत हमेशा मेहनत करने से अच्छी होती है। कहते है कि किस्मत हमेशा लकीरो में छुपी होती है तो क्या उनकी किस्मत नहीं होती जिनके हाथ नहीं होते। अभी आप लोग यह मत बोलना की किस्मत का पता सिर की लकीरों से भी पता चल सकता है। बस मेरे शब्दों को नहीं मेरी भावनावों को समझने की कोशिश करना। किस्मत की जगह महेशा मेहनत पर विश्वास करें।

सुविचार नम्बर 4. नकारत्मक रहने से अच्छा होता है की आप सकारात्मक रहे।

सकारात्मक रहने से हमेशा अच्छा ही होता है पुराने ग्रंथो में लिखा है की दिन में एक बार इंसान की जुबान पर माँ सरस्वती जी विराजमान होती है। उस समय हम जो भी बोलते हैं वो सच हो जाता है। इसलिये कभी बुरा मत बोलिये। इस लिये कहते हैं कि सकारात्मक रहना नकारात्मक रहने से ज्यादा अच्छा होता है अगर आप सकारात्मक रहेंगे तो ही अच्छा बोलेंगे।

सुविचार नम्बर  5

नकारात्मक विचार हमे कमजोर करते हैं।

अगर आप कोई काम शुरू करते हैं तो उस काम को लेकर आप नकारात्मक विचार रखेगे तो आपका काम कभी भी ठीक तरह से नहीं होगा अगर आप सोचेंगे कि जो काम आप कर रहे हैं कल को वो चलेगा या नहीं चलेगा उसमे मेरे को कोई मुनाफा होगा के नहीं होगा। अगर आप की मेहनत सच्ची भी होगी तो भी वो काम आपकी नकारात्मक सोच की वजह से पूरा नहीं हो पायेगा। इस लिए यह जरूरी है कि आप नकारात्मक सोच को त्याग दे और सकारात्मक सोच को अपना ले।

सकरात्मकता क्या होती है?

इस के बारे मे मै आपसे बस इतना कहना चाहूंगा कि सकारात्मकता एक ऐसी सोच है जो आपके बिगड़े काम को भी बना देती है। जैसे की आपकी कोई चीज़ खो जाती है तो आप यह सोचेगे की उसका मिल पाना मुश्किल है तो आप उस चीज़ को ढूंढने की कोशिश भी नहीं करेंगे। यदि आप यह सोचेंगे कि वह चीज़ आपको मिल जायेगी तो वह आपकी किस्मत में मिलनी नहीं भी लिखी होगी तो आपको मिल ही जायेगी। क्योंकी आप उस चीज़ को ढूंढने की कोशिश तब तक जारी रखेंगे जब तक वह चीज़ आपको मिल नहीं जाती।

सकारात्मक रहने के फायदे क्या है? सकारात्मक का महत्व 

सकारात्मक रहने के कई फायदे है जिनमे से कुछ इस प्रकार है--

1. सकारात्मक रहने वाला इंसान सभी को पसंद आता है।

2. सकारात्मक रहने से आप हमेशा खुश रहेंगे।

3. सकारात्मक रहने से आपका हर काम अच्छे तरीके से होगा।

4. सकारात्मक रहने वाला हर इंसान सफल होता है।

5. सकारात्मक रहने वाला हर इंसान किसी भी तरा की मुश्किल का सामना कर सकता है।

अंत में मै आपसे सिर्फ इतना कहना चाहूँगा की सकारात्मक रहना आपके लिए हर तरीके से लाभदायक है। इस लिए सकारात्मक रहे और नीचे comment करके हमे जरूर बताये की हमारा यह article सकारात्मक कैसे रहें? आपको कैसा लगा, धन्यवाद।

हमारे अन्य लेख भी पढ़ें  

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।