सच्ची और अच्छी बातें (achi bate)

सच्ची और अच्छी बातें 

आप चाहकर भी लोगों की अपने प्रति  धारणा नही बदल सकते,
इसलिए सूकून से अपनी जिन्दगी जिए और खुश रहें।
सच्ची और अच्छी बात
जिस किसी भी इंसान की संगती से आपके विचार शुद्ध होने लगें...
तो समझ लेना वो कोई साधारण व्यक्ति नही हैं।
सच्ची और अच्छी बात

आज से हम भी बदलेगे जिन्दगी मेें राबता सबसे होगा,
वास्ता किसी से नही।
सच्ची और अच्छी बात
कभी चाल कभी मकसद कभी मसूबे यार होते हैं,
 यह वह दौर हैं..
 जिसमें नमस्कार के भी मतलब हजार होते हैं!!
अच्छी बातें
सच्ची और अच्छी बात


दिखावा मत कर शहर में शरीफ होने का
लोग खामोश तो है लेकिन नासमझ नही।
सच्ची और अच्छी बात
जीवन एक ऐसा रंग मच है,
 जहाँ किरदार को खुद पता नही होता अगला दृश्य क्या हैं।
सच्ची और अच्छी बात
जिन्दगी जब भी रुलाने लगे,
आप इतने _मुस्कुराओ_ की दर्द भी शरमाने लगे,
निकले ना आंसू कभी आपकी आँखों से,
और किस्मत भी मजबूर होकर आपको _हंसाने_ लगे !!
दुःख भोगने से
सुख के मूल्य का ज्ञान होता है।
जब तक किसी काम को किया नहीं जाता,
तब तक वह संभव लगता है।
सच्ची और अच्छी बात

पीठ पीछे जो बोलते हैं उन्हें पीछे ही रहने दे
अगर हमारे कर्म, भावना और रास्ता सही है
तो गैर से भी, 
लगाव मिलता रहेगा ।
सच्ची और अच्छी बात
विचार एक जल की तरह हैं,
 अगर आप उसमें गंदगी मिला देंगे तो वह गंदी नाली बन जाएगा,
अगर सुगंध मिला दोगे तो वह गंगाजल बन जाएगा।
सच्ची और अच्छी बात
कुंए में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है;
तो भरकर बाहर आती है;
जीवन का भी यही गणित है;
जो झुकता है वह प्राप्त करता है।
सच्ची और अच्छी बात
अच्छे और बुरे की पहचान कराती है जिन्दगी,
एक पल हंसाकर दुसरे पल रुलाती है जिन्दगी,
छोडो शिकवे गिले और हंसकर गुजार लो,
वर्ना चाहतें दिल में रह जाती है और

सबकुछ छोड़कर चली जाती है जिन्दगी !!

केवल पैसों से आदमी धनवान नहीं होता,
असली धनवान वो है 
जिसके पास, अच्छी सोच,
अच्छे दोस्त और अच्छे विचार हैं..!
सच्ची और अच्छी बात
जीवन में कभी भी मुसीबत आए
तो किसी से मदद मत मांगना क्योकि
मुसीबत थोड़ी देर की होती है और
अहसान जिंदगी भर का रह जाता हैं।
सच्ची और अच्छी बात
आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते है,
अक्सर वही आप की आँखे खोल जाता है।
सच्ची और अच्छी बात
जरुरी नहीं की सजदे हो हर वक्त,
और उसमे खुदा का नाम आये,
जिन्दगी तो खुद ही एक इबादत है,

शर्त ये है की ये किसी के काम आये !!
झूठ को अच्छे लहजे की जरूरत हैं,
सच तो हर लहजे में कड़वा होता हैं।
सच्ची और अच्छी बात

एक चाहत होती है...
अपनों के साथ जीने की जनाब..
वरना पता तो हमें भी है..
कि मरना अकेले ही है..!
सच्ची और अच्छी बात
आदमी सुनता है मन भर,
सुनने के बाद प्रवचन देता है टन भर और खुद ग्रहण नही करता क्षण भर।
सच्ची और अच्छी बात

बहुत सा पानी ..
बहुत सा पानी छुपाया है 
मैंने अपनी पलकों में.....
जिंदगी लम्बी बहुत है 
क्या पता कब प्यास लग जाए....
सच्ची और अच्छी बात
चाहो और मिल जाए वो है किस्मत,
चाहो पर इन्तजार से मिले वो है समय,
चाहो पर समझौते से मिले वो है जिन्दगी,
चाहो और इन्तजार से मिले 

पर समझौते से नहीं वो है सफलता !!
कभी फुरसत में 
अपनी कमियों पर गौर करना
दूसरों का आईना बनने की
ख्वाहिश मिट जायेगी।
सच्ची और अच्छी बात
गंदी सोच और नियत दिमाग की ही होती है, वरन् अंगों की बनावट तो बहन की भी वही होती हैं।
सच्ची और अच्छी बात
रिश्तों की बगिया में एक रिश्ता
नीम के पेड़ जैसा भी रखना,
जो सीख भले ही कड़वी देता हो पर
तकलीफ में मरहम भी बनता है…।
सच्ची और अच्छी बात

इज्जत किसी इंसान की नहीं होती,
जरूरत की होती है, 
जरूरत खत्म, इज्जत खत्म...!
यही दुनिया का सच है !!!
सच्ची और अच्छी बात
पागलों के झुंड मे समझदारी दिखाना,  पागलपन हैं।
सच्ची और अच्छी बात
अपने अस्तित्व और अपने हक के लिए लड़ने मे कभी संकोच न करें,
भले ही आप कितने ही कमजोर क्यों न हों।
सच्ची और अच्छी बात
मौका तो देकर देजिए किसी को लोग आपको खुलकर किसी बोतल की तरह टोड़ देगें।
सच्ची और अच्छी बात

अगर किसी मे कोई खमी दिखाई दे तो,
उससे बात करें....
लेकिन हर किसी मे कमी दिखाई दे तो खुद से बात करें।
सच्ची और अच्छी बात
बड़े कमाल की बात हैं ना
आंखें तलाब नही है लेकिन फिर भी भर आती हैं,
और इंसान मौसम नही है फिर भी बदल जाता हैं।
सच्ची और अच्छी बात

किसी की तारिफ करने के लिए जिगर  चाहिए,
बुराई तो बिना हुनर के किसी की भी की जा सकती हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ