har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

7/30/2021

पाठ्यचर्या का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं

By:   Last Updated: in: ,

पाठ्यचर्या का अर्थ (pathyacharya kise kahate  hai)

पाठ्यचर्या दो शब्दों से मिलकर बना है-- पाठ्य और चर्या। पाठ्य का अर्थ है 'पढ़ने योग्य' अथवा 'पढ़ाने योग्य' और चर्या का अर्थ है नियमपूर्वक अनुसरण'। इस प्रकार पाठ्यचर्या का अर्थ हुआ-- पढ़ने योग्य (सीखने योग्य) अथवा पढ़ाने योग्य (सिखाने योग्य) विषयवस्तु और क्रियाओं का नियमपूर्वक अनुसरण।

पाठ्यचर्या को अंग्रेजी मे 'करीक्यूलम' (Curriculum) कहा जाता है। करीक्यूलम शब्द लैटिन भाषा से अंग्रेजी मे लिया गया है यह लैटिन शब्द 'कुर्रेर' से बना है। 'कुर्रेर' का अर्थ है 'दोड़ का मैदान'। यहाँ पर दो शब्द प्रयुक्त किए गए है-- दौड़ को छात्रों की क्रियाएं व संक्रियाएँ तथा मैदान को पाठ्यक्रम या शिक्षण सामग्री के रूप में दर्शाया गया है। 

पाठ्यचर्या की परिभाषा (pathyacharya ki paribhasha)

हेनरी के अनुसार," पाठ्यचर्या में वे सभी क्रियाएं आती है जो विद्यालय में विद्यार्थियों को दी जाती है।" 

एनन के अनुसार," पाठ्यचर्या पर्यावरण मे होने वाली क्रियाओं का योग है।" 

व्यूसैम्प के अनुसार," विद्यालय में बालकों के शैक्षिक अनुभव के लिए एक सामाजिक समूह की रूपरेखा पाठ्यचर्या कहलाती है।" 

सी. वी. गुड के अनुसार," व्यक्ति को समाज में समायोजित करने के उद्देश्य से विद्यालय के निर्देशन में निर्धारित शैक्षिक अनुभवों का समूह पाठ्यचर्या कहलाता है।" 

कनिंघम के अनुसार," पाठ्यचर्या वह यंत्र (साधन) है जो कलाकार (शिक्षक) के हाथों मे अपनी सामग्री (छात्र) को अपने आदर्शों (उद्देश्यो) के अनुसार अपने विद्यालय में कोई रूप प्रदान करने के लिये होता है।" 

मुनरो के अनुसार," पाठ्चर्या में वे सभक क्रियाएं सम्मिलित है, जिनका हम शिक्षा के उद्देश्यों की प्राप्ति हेतु विद्यालय में उपयोग करते है।" 

पाॅल हिर्स्ट के अनुसार," उस सभी क्रियाओं का प्रारूप जिनके द्वारा शैक्षिक लक्ष्यों अथवा उद्देश्यों को प्राप्त कर लेंगे, पाठ्यचर्या की संज्ञा दी जाती है।" 

फ्रोबेल के अनुसार," पाठ्यचर्या को मानव जाति के सम्पूर्ण ज्ञान तथा अनुभवों का सार समझना चाहिए।"

विभिन्न विद्वानों द्वारा दि गई पाठ्यचर्या की उपरोक्त परिभाषाओं का अध्ययन करने पर यह स्पष्ट रूप से कहा जा सकता है कि पाठ्यचर्या का क्षेत्र बहुत अधिक विस्तृत है। यह बालक के जीवन के समस्त पहलुओं को स्पष्ट करता है फिर चाहे वह शारीरिक हो, मानसिक हो, आध्यात्मिक हो, सामाजिक हो, धार्मिक हो, राष्ट्रीय हो, बौद्धिक हो या नैतिक किसी से भी जुड़ हो। 

पाठ्यचर्या की विशेषताएं (pathyacharya ki visheshta)

शिक्षा किस तरह की और किस विधि से प्रदान की जानी चाहिए जिससे की बालक की संपूर्ण आवश्यकताओं की पूर्ति हो सके और साथ ही मानव का सर्वांगीण विकास हो। इन सभी प्रश्नों का एक उत्तर है कि शिक्षा की पाठ्यचर्या किस प्रकार की हों? 

पाठ्यचर्या की विशेषताएं निम्नलिखित है--

1. पाठ्यर्या, सन्तुलित व्यक्तित्व मूल्यांकन में सहायक 

जीवन से संबंधित सभी प्रक्रियाओं, आवश्यकताओं आदि को पाठ्यचर्या मे सम्मिलित किया जाता है। व्यक्तित्व के संपूर्ण विकास के मूल्यांकन मे पाठ्यचर्या सहायक होती है साथ ही विकास मे गतिशीलता भी प्रदान करती है।

2. पाठ्यचर्या गतिशील होती है 

पाठ्यचर्या का राष्ट्र की विविध समस्याओं, आवश्यकताओं एवं विकास के लिए गतिशील होना बहुत ही जरूरी है। पाठ्यचर्या मे यह परिवर्तनशील या गतिशीलता नागरिकों की जीवन शैली के साथ-साथ होती रहती है। 

3. पाठ्यचर्या आजीवन चलने वाली प्रक्रिया है 

ढाँचा और व्यवस्था पाठ्यचर्या में दो अनिवार्य तत्व है। ढाँचा एवं व्यवस्था का स्वरूप एवं विषय वस्तु अधिगम अनुभवों का समायोजन है। पाठ्यचर्या परिस्थियों, वातावरण एवं आवश्यकताओं के अनुसार ही गतिशील है जो समय के साथ परिवर्तित होता रहता है। जैसे पूर्व पाठ्यचर्या में हैजा, मलेरिया आदि सम्मिलित था परन्तु अब यह बीमारियाँ भारत में लगभग समाप्त हो गई है वस्तुतः इन्हें पाठ्यचर्या से हटाकर अन्य बीमारियों जैसे-- ह्रदयगति, कैंसर, एड्स इत्यादि को पाठ्यचर्या में सम्मिलित किया गया है। 

4. पाठ्यचर्या, लक्ष्य प्राप्ति का साधन 

इच्छित उद्देश्य प्राप्त करने मे पाठ्यचर्या साधन के रूप मे कार्य करती है। इसका अन्त नही होता है। शिक्षा के उद्देश्यों का निर्धारण दर्शनशास्त्र करता है जबकि पाठ्यचर्या उन उद्देश्यों को प्राप्त करती है।

5. समाज की आवश्यकताओं की पूरक पाठ्यचर्या 

समाज में तकनीकी शिक्षा तथा व्यावसायिक शिक्षा की आवश्यकता है तो विद्यालय में समाज की आवश्यकता के अनुरूप ही विद्यालयों में पाठ्यचर्या निर्धारित की जाती है। इस प्रकार समाज एवं पाठ्यचर्या एक दूसरे के पूरक है। विद्यालय में वही पाठ्यचर्या निश्चित की जाती है-- जिसकी समाज, समुदाय और राष्ट्र में आवश्यकता हों। 

6. पाठ्यचर्या, निर्देशन का महत्वपूर्ण अंग है 

पाठ्यचर्या की एक विशेषता यह है कि यह निर्देशन का महत्वपूर्ण अंग है। पाठ्यचर्या समस्याओं के निदान के लिए ही नही बल्कि आवश्यकताओं एवं परिस्थतियों के अनुसार सही मार्ग प्रदर्शित करता है। पाठ्यचर्या बालकों के उज्जवल भविष्य तथा जीवन के सही मार्ग दर्शन हेतु व्यावसायिक विषय आदि चयन के लिए परामर्श तथा निर्देशन प्रदान करता है।

7. पाठ्यचर्या, विद्यालय का संपूर्ण कार्यक्रम है 

पाठ्यचर्या में विद्यालय के समस्त कार्यक्रमों का समावेश होता है। 

8. पाठ्यचर्या की अन्य विशेषताएं 

1. पाठ्यचर्या राष्ट्रीय शिक्षा नीति का व्यापक स्वरूप होती है।

2. पाठ्यचर्या अध्ययन के प्रत्येक, पक्ष को प्रस्तुत करती है।

3. पाठ्यचर्या एक व्यापक सम्प्रत्यय है जिसमें शैक्षिक उद्देश्य, पाठ्यवस्तु, शिक्षण अधिगम एवं मूल्यांकन सम्मिलित है।

4. पाठ्यचर्या देश की आत्मा का प्रतिनिधित्व करती है।

5. पाठ्यचर्या के माध्यम से बालक की शैक्षिक क्रियाओं को विकसित किया जाता है।

6. पाठ्यचर्या में उन क्रियाओं को सम्मिलित किया जाता है जिससे बालक की शारीरिक, मानसिक, भाषात्मक, सामाजिक, आध्यात्मिक एवं नैतिक पक्षों का विकास हो।

7. यह अनुसंधान द्वारा संशोधित किया हुआ एवं परीक्षण किया हुआ होता है।

8. यह छात्रों को अपने कौशलों, रूचि, अभिरूचि एवं अभिमूल्य को विकसित करने के पर्याप्त अवसर प्रदान करती है।

यह भी पढ़े; पाठ्यचर्या की अवधारण

यह भी पढ़े; पाठ्यचर्या के उद्देश्य, आवश्यकता/महत्व

यह भी पढ़े; पाठ्यचर्या निर्माण के सिद्धांत

यह भी पढ़े; पाठ्यचर्या की प्रकृति एवं क्षेत्र 

सम्बन्धित पोस्ट 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।