10/23/2020

नेपोलियन के पतन के कारण

By:   Last Updated: in: ,

नेपोलियन के पतन के कारण (napoleon ke patan ke karan)

नेपोलियन के पतन के कारण इस प्रकार है--

1. अति महत्वाकांक्षी 

नेपोलियन का सम्पूर्ण जीवन महत्वाकांक्षाओं से भरा था। वह बहुत अधिक महत्वाकांक्षी था। 1793 मे वह उप लेफ्टीनेण्ट था, टूलों के बन्दरगाह की विजय के कारण ब्रिग्रेडियर बना 1795 मे नेशनल कन्वेन्सन की रक्षा कर वह प्रमुख सेनापति बना तथा आस्ट्रेलिया इटली को पराजित कर और डायरेक्टरी को समाप्त कर सत्ता पर अधिकार किया। फिर उसने सम्पूर्ण यूरोप को अपने आधीन बनाया परन्तु इंग्लैंड पर अधिकार की उसकी महत्वाकांक्षा ने उसे अनेक युद्ध करने लिये तत्पर बना दिया अपनी इस आकांक्षा के चलते वह सम्पूर्ण यूरोप का शत्रु बन गया और सभी के संयुक्त प्रयासों से वह पराजित हो गया।

यह भी पढ़ें; नेपोलियन के उदय के कारण, नेपोलियन के सुधार कार्य

2. महाद्वीपीय व्यवस्था का दुष्परिणाम 

नेपोलियन की महाद्वीपीय व्यवस्था एक प्रबल राष्ट्र इंग्लैंड के विरूद्ध थी। यह योजना बूरी नही थी एवं अपने आप मे अद्वितीय था परन्तु यह परिस्थितियों को देखते हुए उस समय के लिए अव्यावहारिक थी। इस व्यवस्था के कारण ही नेपोलियन एक के बाद एक आक्रमण एवं निरंतर युद्धों मे उलझता रहा। इसके कारण फ्रांस के जन-धन की हानि हुई तथा नेपोलियन की शक्ति का ह्रास हो गया।

3. नेपोलियन के त्रुटिपूर्ण अनुमान तथा स्वयं पर भरोसा 

नेपोलियन के व्यक्तित्व का दोष अत्यधिक कार्य, त्रुटिपूर्ण अनुमान एवं स्वयं को सर्वश्रेष्ठ बुद्धिमान समझना था। उसने मानव जीवन की शक्ति की सीमाएं तोड़कर कार्य किया था। आयु के साथ शक्ति का क्षीण होना स्वाभाविक है। नेपोलियन ने कुशल नेतृत्व, अदम्य इच्छाशक्ति एवं विलक्षण बुद्धि का उपयोग कर संसार को चकित कर दिया था। पर उसके पतन का कारण मास्को अभियान के बाद उसकी थकान एवं क्लांत शरीर था।

4. साम्राज्य का एक व्यक्ति की शक्ति पर निर्भर होना 

नेपोलियन का विशाल साम्राज्य उसकी प्रतिभा से निर्मित हुआ था। यह एक व्यक्ति की कृति थी। अतः यह साम्राज्य एक ही व्यक्ति के जीवन एवं मरण पर अवलंबित था।

5. निरंतर युद्ध 

सम्राट बनने के बाद नेपोलियन ने 1804 से लगभग प्रतिवर्ष निरंतर संघर्ष किये। उसने राष्ट्रो के साथ दो-दो बार और कुछ के साथ अनेक बार युद्ध किये। आस्ट्रिया तो 1798 से ही नेपोलियन से संघर्ष कर रहा था। इनमे से अनेक युद्ध नेपोलियन की प्रतिष्ठा तथा सैनिक शक्ति के लिये अत्यंत घातक सिद्ध हुए। इन युद्धों मे नेपोलियन की शक्ति क्षीण होती चली गई जिससे मित्र संघ उसे पराजित करने मे सफल हो गये।

6. इंग्लैंड की जलशक्ति 

नेपोलियन कभी अपने बेडें को इतना शक्तिशाली नही बना पाया कि वह इंग्लैंड से समुद्र मे मुकाबला कर सके। 1799 मे मिस्त्र से लौटते समय और ट्राफल्गर के युद्ध मे नेपोलियन नेल्सन से पराजित हुआ तथा पुर्तगाल मे वैलिंग्टन ने 1808 मे नेपोलियन से अपनी रक्षा समुद्र मे जाकर ही की थी।

नेपोलियन इंग्लैंड को पराजित करने की अथवा इंग्लिश चैनल पर अधिकार करने की लालसा को पूरा करने के लिये यूरोपीय राष्ट्रों पर इंग्लैंड से माल न मंगाने के लिए दबाव डालने लगा अतः अनेक युद्ध हुए तथा नेपोलियन अंत मे भूमि पर ही पराजित हो गया। 

7. मास्को अभियान 

सन् 1812 मे रूस पर आक्रमण या मास्कों अभियान उसके जीवन की एक बड़ी भूल थी। मास्को अभियान की जनहानि फ्रांस पूरी नही कर सका।  इतिहास साक्षी है कि जर्मनी के हिटलर ने भी यही भूल कर स्वयं को बर्बाद कर दिया था। मास्कों अभियान की भूल को स्वयं नेपोलियन ने भी स्वीकार किया था। मास्कों से असहाय अवस्था मे लौटते ही उसके शत्रु उसके नाश के लिए संगठित होकर कृतसंकल्प हो गए थे।

8. नेपोलियन के धार्मिक सुधार व पोप के साथ उसका व्यवहार 

नेपोलियन ने अपने कौंसिल काल मे जो धार्मिक नीति अपनाई वह वास्तव मे प्रशंसनीय एवं देश के हित मे थी, लेकिन इसके बाद उसने पोप से संबंध बिगाड़ लिए। राज्याभिषेक के अवसर पर उसके हाथ से ताज भी धारण नही किया। उसके राज्य को उसने अपने अधीन कर लिया। यहां तक की रोम को भी उसने नही छोड़ा। उसकी इस नीति से पोप का नाराज होना स्वाभाविक था। पोप के नाराज होने से यूरोप के समस्त कैथोलिक भी उससे नाराज हो गये।

9. संबंधियों का विश्वासघात 

नेपोलियन ने अपने भाइयों एवं अन्य निकट संबंधियों को राज्यों का राजा बनाया और फ्रांसीसी प्रशासन मे उच्च पद प्रदान किए पर नेपोलियन ने अपने कुटूम्बियों तथा मित्रों से धोखा खाया। स्पेन का नासूर जोसेफ की अयोग्यता से बढ़ता गया। इटली मे भी केरोलिन एवं जेरोम के कारण नेपोलियन के गौरव को आघात गला। विदेश मंत्री तेलेरां एवं पुलिस अधिकारी फोश ने भी उसके साथ विश्वासघात किया।

यह भी पढ़ें; नेपोलियन के पतन के कारण 

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;अमेरिका के स्वतंत्रता संग्राम के कारण, घटनाएं

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;अमेरिका के स्वतंत्रता संग्राम के प्रभाव या परिणाम

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; नेपोलियन के उदय के कारण, नेपोलियन के सुधार कार्य

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; नेपोलियन के पतन के कारण

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;मेटरनिख युग की विशेषताएं, मेटरनिख की गृह-नीति एवं विदेश नीति

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;क्रीमिया का युद्ध, कारण, घटनाएं, परिणाम, महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; 1830 की क्रांति के कारण, घटनाएं, परिणाम, प्रभाव या महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; नेपोलियन तृतीय की गृह नीति

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;इटली का एकीकरण

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;जर्मनी के एकीकरण के चरण या सोपान

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;चार्टिस्ट आंदोलन के कारण, घटनाएं, परिणाम या महत्व

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;अमेरिका गृह युद्ध, कारण, घटनाएं, परिणाम

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।