8/08/2020

सहयोग के स्वरूप या प्रकार एवं महत्व

By:   Last Updated: in: ,

सहयोग के स्वरूप या प्रकार (sahyog ke pirakar)

सहयोग के भिन्न-भिन्न रूप होते है। समाजशास्त्रियों ने सहयोग के अनेक प्रकार बताये है, जिनमे से कुछ मुख्य का वर्णन इस प्रकार है--
यह भी पढ़ें; सहयोग अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
मैकाइवर और पेज के अनुसार, सहयोग दो प्रकार का होता हैं--
1. प्रत्यक्ष सहयोग
प्रत्यक्ष सहयोग घनिष्ठ आमने-सामने के संबंधों पर आधारित होता है। इस तरह का सहयोग प्रायः प्राथमिक समूहों मे पाया जाता है। एक साथ मिलकर कार्य करना अनौपचारिक एवं घनिष्ठ भावानात्मक संबंधों के बीच अंतःक्रिया से इस तरह का सहयोग पनपता है।
2. अप्रत्यक्ष सहयोग
इस प्रकार के सहयोग मे हम उन सभी कार्यों को सम्मिलित करते है जहाँ लोग निश्चित रूप मे एक ही उद्देश्य की पूर्ति के लिए असमान कार्य करते है। श्रम विभाजन एवं विशेषीकरण की स्थिति अप्रत्यक्ष सहयोग को निर्मित करती है।
सहयोग के स्वरूप या प्रकार
आगबर्न और निमकाॅक के अनुसार, सहयोग के तीन स्वरूप है-
1. मित्रवत् सहयोग
मित्रवत् सहयोग वह सहयोग है जो किसी आवश्यकता की पूर्ति के लिए नही बल्कि मनोरंजन के लिए किया जाता हो।
2. सामान्य सहयोग
जब हम समाज मे एकता से कार्य करने के लिए, एक दूसरे के लिए, एक दूसरे के साथ सहयोग करते है तो वह सामान्य सहयोग कहलाता है।
3. सहायक सहयोग
इस प्रकार के सहयोग मे अलग-अलग कार्यों के माध्यम से एक समान लक्ष्य की प्राप्ति की जाती है। उदाहरण के लिए भवन निर्माण मे इंजीनियर, ठेकेदार, बढ़ई, मिस्त्री, मजदूर सभी की आवश्यकता होती है। यह सभी अलग-अलग कार्य कर रहे होते है किन्तु सभी का लक्ष्य समान है।
ग्रीन के अनुसार, सहयोग के तीन स्वरूप हैं---
1. प्राथमिक सहयोग
प्राथमिक सहयोग वह सहयोग है जो व्यक्ति अपने घनिष्ठ संबंधों के बीच परस्पर करते है। प्राथमिक सहयोग मे व्यक्ति समाज के हित को अपना हित समझने लगता है और उसी के अनुरूप कार्य भी करने लगता है।
2. द्वितीयक सहयोग
जहाँ एक ओर प्राथमिक सहयोग मे नि:स्वार्थ भावना से प्रेरित होकर सहयोग करने की बात स्पष्ट होती है वही द्वितीयक सहयोग वह सहयोग है जिसमे व्यक्ति समूह के साथ सहयोग अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिए करता है।
3. तृतीयक सहयोग
तृतीयक सहयोग के अंतर्गत उस सहयोग को शामिल किया जा सकता है जिसमे व्यक्ति एवं समूह के बीच सहयोग की इच्छा नही होने पर भी परिस्थितिजन्य कारणों से सहयोग करना पड़ता है। इस प्रकार का सहयोग समूह और व्यक्ति के बीच संघर्ष को टालने के लिए एक समझौते के रूप मे किया जाता है।

सहयोग का महत्व (sahyog ka Mahtva)

सहयोग एक स्वाभाविक एवं अनिवार्य प्रक्रिया है। सहयोग के बिना हम सामाजिक जीवन की कल्पना भी नही कर सकते है। प्रत्येक समाज की संस्कृति द्वारा निर्धारित प्रतिमानित व्यवहार के कुछ निश्चित ढंग होते है। इन स्वीकृत व्यवहार की प्रणालियों से भूमिका प्रतिमान तय होते है। अर्थात् प्रत्येक व्यक्ति को अपनी प्रस्थिति के अनुरूप भूमिका का निर्वाह कैसे करना है, यह पूर्वापेक्षित होता है। समाज मे व्यक्ति अपनी प्रस्थितिजन्य भूमिकाओं का निर्वाह बगैर सहयोग के नही कर सकता। सहयोग व्यक्ति की मूल प्रवृत्ति भी है। समाजीकरण की प्रक्रिया के दौरान व्यक्ति सहयोग करना सीखता है। यही कारण है कि व्यक्ति स्वाभाविक रूप से अपनी भूमिकाओं का निर्वाह सहयोगपरक ढंग से करता है। यदि हम मनुष्य के शिशु रूप को देखे तो यह स्वतः स्पष्ट होता है कि जैविकीय विकास बगैर सहयोग संभव नही।
सहयोग उन ममहत्वपूर्ण सामाजिक प्रक्रियाओं मे से एक है जो समाज को संगठित करती है, बनाती है और व्यक्तियों को एक होकर कार्य करने की प्रेरणा देती है। सभी समाजों के विकास मे सहयोग ने अत्यंत महत्वपूर्ण योगदान प्रदान किया है। संस्कृतियों के विकास और प्रगति मे सहस्त्रों वर्षों से व्यक्ति सहयोग दे रहे है। आज जिस गौरवपूर्ण सभ्यता को हम देख रहे है उसका मूल आधार सहयोग ही है।
सामाजिक व्यवस्था मे सन्तुलन बनाये रखने के लिए भी सहयोग आवश्यक है। सहयोग के कारण पारस्परिक भेद-भाव, विचारों की भिन्नता दूर होती है तथा एकता को प्रोत्साहन मिलता है। सहयोग से कार्य करने से कठिन से कठिन कार्य भी सरल हो जाते है, समय की बचत होती है और बड़े संकट भी टल जाते है। सहयोग के द्वारा व्यक्ति अपनी मनोवैज्ञानिक आवश्यकताओं की पूर्ति करता है।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना के प्रकार (भेद)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; रेडक्लिफ ब्राउन के सामाजिक संरचना संबंधी विचार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य का अर्थ और परिभाषा 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य की अवधारणा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रकार्य की विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संगठन का अर्थ,परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संगठन के आवश्यक तत्व 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक विघटन का अर्थ, परिभाषा एवं स्वरूप 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संघर्ष का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;  संघर्ष के कारण, महत्व एवं परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सहयोग अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सहयोग के स्वरूप या प्रकार एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; व्यवस्थापन अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; व्यवस्थापन के प्रकार व व्यवस्थापन की पद्धतियाँ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सात्मीकरण का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।