सामाजिक समूह का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं

सामाजिक समूह किसे कहते है? (samajik samuh kise kahte hai)

मनुष्य सामाजिक प्राणी तो हैं, वह भौतिक प्राणी भी हैं। उसकी अनन्त  आवश्यकताएं हैं। इन आवश्यकताओं की पूर्ति वह अपने प्रयासों मे नही कर सकता हैं, कारण उसके पास साधन और शक्ति सीमित हैं। अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए जब व्यक्ति साथ-साथ प्रयास करते हैं, तो वे समूह का निर्माण करते हैं। सामाजिक समूह मानव की स्वाभाविक प्रवृत्ति हैं। वह समूह के बिना रह भी नही सकता हैं। जिस प्रकार मछली पानी से अलग जिन्दा नही रह सकती, ठीक उसी प्रकार व्यक्ति समूह से अलग अपने अस्तित्व की रक्षा नही कर सकता हैं।
सामाजिक समूह
आज हम सामाजिक समूह का अर्थ, समूह की परिभाषा एवं सामाजिक समूह की विशेषताएं जानेगें।

सामाजिक समूह का अर्थ (samajik samuh ka arth)

समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से जब दो या दो से अधिक व्यक्ति सामान्य उद्देश्य के लिए एक-दूसरे से संबंध स्थापित करते है और प्रभावित होते है तो व्यक्तियों के ऐसे संग्रह को सामाजिक समूह कहा जाता हैं।
शाब्दिक अर्थ में;  सामाजिक समूह दो शब्दों से मिलकर बना हैं। सामाजिक+समूह। सामाजिक= समाज से सम्बंधित। समूह = दो या दो से अधिक। इस प्रकार दो या दो से अधिक व्यक्तियों के संगठन को सामाजिक समूह कहते हैं।
समाजशास्त्र मे समूह से आशय दो या अधिक व्यक्तियों के मात्र संग्रह से ही नही होता। जैसा कि मैकाइवर व पेज का कहना है कि समूह से हमारा आशय व्यक्तियों के किसी भी ऐसे संग्रह से है जो एक दूसरे के साथ सामाजिक संबंधों मे लाये गये हो। इस प्रकार समाजशास्त्र मे समूह से आशय कम से कम दो या अधिक व्यक्ति और उनमे सामाजिक संबंध होने से हैं। सामाजिक संबंध से तात्पर्य हैं-- व्यक्तियों मे संपर्क (चाहे शारीरिक निकटता का हो अथवा मानसिक निकटता का) और उनमें पारस्परिक संदेश (अथवा प्रभाव) का पाया जाना। समूह मे व्यक्ति एक दूसरे के प्रति जागरूक होते हैं।

सामाजिक समूह की परिभाषा (samajik samuh ki paribhasha)

ऑगबर्न तथा निमकाॅफ "जब दो या दो से अधिक व्यक्ति एक साथ मिलकर रहे और एक दूसरे पर प्रभाव डालने लगें तो हम कह सकते हैं कि उन्होंने समूह का निर्माण कर लिया हैं।
मैकाइवर और पेज "समूह से हमारा तात्पर्य मनुष्य के किसी भी ऐसे संग्रह से है जो सामाजिक सम्बन्धों द्वारा एक दूसरे से बंधे हों।
शेरिफ एवं शेरिफ " समूह एक सामाजिक इकाई है, जिसका निर्माण ऐसे व्यक्तियों से होता हैं, जिनके बीच कम या अधिक मात्रा मे निश्चित स्थिति एवं कार्य विषयक सम्बन्ध हो।
बोगार्डस " समूह किसी वस्तु की इकाइयों की संख्या है, जो एक-दूसरे के निकट स्थित हैं।
फेयरचाइल्ड " दो या अधिक व्यक्तियों का संग्रह समूह है, जिनके बीच स्थापित मनोवैज्ञानिक अन्त: क्रिया प्रतिमान होता हैं, जो उसके सदस्यों द्वारा तथा सामान्यतया दूसरों के द्वारा भी, उसके विशिष्ट सामूहिक व्यवहार के कारण एवं संन्धि के रूप मे स्वीकृत किया जाता हैं।
कैटेल "समूह उन जमात को कहते हैं, जिसमे प्रत्येक व्यक्ति को कुछ आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए सभी सदस्यों का सहयोग लिया जाये।
ग्रीन के अनुसार समूह की परिभाषा " समूह व्यक्तियों का संग्रह हैं, जो स्थायी हैं, जिसके एक या अधिक सामान्य हित या क्रियाएँ हैं, तथा जो संगठित हैं।

सामाजिक समूह की विशेषताएं (samajik samuh ki visheshta)

1. समान्य हित
सामाजिक समूह के सभी सदस्यों के हित प्राय: समान होते हैं। सामान्य हित होने से समूह का स्थायित्व बढ़ता हैं।
2. सदस्यों की पारस्परिक जागरूकता
सामाजिक समूह के प्रत्येक सदस्य को अन्य सदस्यों तथा अपने समूह के प्रति जागरूक होना चाहिये। पारस्परिक जागरूकता से सामाजिक सम्बन्ध विकसित होते हैं।
3. मनुष्यों का संग्रह
सामाजिक समूह की सबसे प्रथम विशेषता यह हैं कि इसमे मनुष्यों का संग्रह होना आवश्यक हैं। सामाजिक समूह के निर्माण के लिए कम से कम दो मनुष्यों का संग्रह होना आवश्यक हैं। केवल एक व्यक्ति की उपस्थिति को समूह नही कहा जा सकता।
4. सामाजिक संबंध
इसे पारस्परिक सम्बन्ध भी कहा जाता हैं। इसका तात्पर्य यह हैं कि समूह के सदस्यों मे पारस्परिक सम्बन्ध का होना अनिवार्य है। पारस्परिक सम्बन्ध से उनमे चेतना का विकास होता हैं। यह चेतना सामाजिक सम्बन्धों के निर्माण और विकास मे सहायक होती है।
5. एकता की भावना
सामाजिक समूह के सदस्यों मे एकता पायी जाती हैं। इस एकता का आधार चेतना होती हैं। यह चेतना दो प्रकार की होती हैं-- 1. चेतन एकता, 2. अचेतन एकता।
6. सदस्यों का पारस्परिक आदान-प्रदान
सामाजिक समूह के अन्तर्गत समूह के सभी सदस्यों के मध्य आदान-प्रदान होना भी आवश्यक हैं। एक ही समूह के सदस्यों मे विचारों एवं वस्तुओं का आदान-प्रदान हुआ करता हैं।
7. समूह की सदस्यता ऐच्छिक होती हैं
सामान्य रूप से स्वीकार किया जाता है कि मनुष्य स्वभाव से ही सामूहिक प्रवृत्ति का होता है तथा अनिर्वाय रूप से विभिन्न समूहों का सदस्य होता है। परन्तु इसके साथ यह भी सत्य है कि यह अनिवार्य नही कि कोई व्यक्ति किस-किस समूह का सदस्य होगा? वास्तव मे, विशिष्ट समूहों की सदस्यता व्यक्ति के लिये ऐच्छिक होती हैं।
8. एक निश्चित आधार
यहाँ मौलिक प्रश्न यह पैदा होता है कि समूहों का निर्माण किस आधार पर होता है? प्रत्येक समूह मे निर्माण के मूल मे कुछ निश्चित आधार होते है। उदाहरण के लिए ये आधार हैं--- रक्त सम्बन्ध, शारीरिक तथा मानसिक समानताएं, आवश्यकताएं, संख्या आदि।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र की प्रकृति (samajshastra ki prakriti)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाज का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समुदाय का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाज और समुदाय में अंतर
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समिति किसे कहते है? अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्था किसे कहते है? संस्था का अर्थ, परिभाषा, कार्य एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक समूह का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्राथमिक समूह का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; द्वितीयक समूह किसे कहते है? द्वितीयक समूह की परिभाषा विशेषताएं एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्राथमिक समूह और द्वितीयक समूह मे अंतर
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना के प्रकार (भेद)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; हित समूह/दबाव समूह किसे कहते हैं? परिभाषा एवं अर्थ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्कृति क्या है, अर्थ परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;भूमिका या कार्य का अर्थ एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक मूल्य का अर्थ और परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रस्थिति या स्थिति का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण की प्रक्रिया
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण के सिद्धांत
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक नियंत्रण अर्थ, परिभाषा, प्रकार या स्वरूप, महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक स्तरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं आधार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक गतिशीलता का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार या स्वरूप
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक परिवर्तन का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं कारक
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; क्रांति का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक प्रगति का अर्थ व परिभाषा

आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विकास का अर्थ और परिभाषा

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां