Har din kuch naya sikhe

Learn Something New Every Day.

6/22/2020

भूमिका या कार्य का अर्थ एवं विशेषताएं

By:   Last Updated: in: ,

भूमिका या कार्य का अर्थ, भूमिका या कार्य किसे कहते है? (bhumika ka arth)

प्रत्येक समाज जो वह आदिम हो अथवा आधुनिक, उसका निर्माण अनेक संस्थाओं और समूहों मे होता हैं। इन संस्थाओं और समूहों की एक निश्चित संरचना होती है। प्रत्येक व्यक्ति समाज की संरचना मे पदों और कार्यों की अन्त: सम्बन्धित पर आधारित होता है। व्यक्ति अपने पद के अनुरूप जिन कार्यों का सम्पादन करता है, उसे ही उसकी भूमिका के नाम से जाना जाता हैं।
भूमिका
दूसरे शब्दों में प्रत्येक स्थिति के साथ कुछ कार्य भी सम्बध्द रहते है। सामान्य रूप से अपेक्षा की जाती है कि प्रत्येक व्यक्ति को अपनी स्थिति के अनुकूल कार्य करना चाहिये। किसी भी स्थिति मे सम्बद्ध दायित्वों को ही समाजशास्त्र मे कार्य या भूमिका कहा जाता है।
इस लेख मे हम भूमिका या कार्य की परिभाषा, विशेषताएं और भूमिका के निर्धारक तत्व जानेंगे।
वास्तव मे किसी भी स्थिति की सार्थकता उससे सम्बद्ध कार्यों या भूमिका से ही सिद्ध होती है। हम संक्षेप मे कह सकते है कि समाजशास्त्रीय भाषा मे भूमिका या कार्यों से तात्पर्य उन सभी कार्यों से है, जिनकी उपेक्षा समाज किसी व्यक्ति से उसकी विशिष्ट स्थिति सन्दर्भ मे करता है। इसी प्रकार प्रत्येक सामाजिक पद या स्थिति से सम्बध्द कुछ कार्य होते हैं। इस कार्य अथवा भूमिका का निर्माण दो प्रमुख तत्वों द्वारा होता हैं। ये तत्व हैं---
(a) समाज की प्रत्याशायें
(b) इन प्रत्याशाओं अनुरूप बाहरी क्रियाओं का करना।
भूमिका या कार्य की परिभाषा
फिचर के अनुसार " जब बहुत से अतः सम्बंधित व्यवहार प्रतिमान एक सामाजिक प्रकार्य के चारों और एकत्रित हो जाते है तो उसी सम्मिलन को हम सामाजिक कार्य कहते हैं।
इलियट तथा मेरिल के अनुसार " भूमिका वह कार्य है जिसे वह (व्यक्ति) प्रत्येक स्थिति के लिए करता हैं।
सार्जेण्ट अनुसार " किसी व्यक्ति का कार्य सामाजिक व्यवहार का वह प्रतिमान अथवा प्रारूप है, जो कि उसे एक परिस्थिति विशेष मे अपने समूह के सदस्यों की मांगों व प्रत्याशाओं के अनुरूप प्रतीत होता हैं।

भूमिका या कार्य की विशेषताएं (bhumika ki visheshta)

1. सामाजिक स्वीकृति
भूमिका का सम्पादन व्यक्ति विशेष की इच्छा पर आधारित नही हैं, अपितु इसका निर्धारण सम्पूर्ण समाज की स्वीकृति पर आधारित होता है। इसका कारण यह है कि भूमिका का निर्धारण एक विशेष संस्कृति के नियमों के द्वारा होता हैं।
2. भूमिकाओं की विविधता
भूमिकाओं मे विविधता पायी जाती है। एक ही क्षेत्र मे निवास करने वाले व्यक्तियों को भिन्न-भिन्न प्रकार की भूमिकाओं का का सम्पादन करना पड़ता है। एक व्यक्ति को अनेक व्यक्तियों के साथ तथा अनेक संस्थाओं मे अलग-अलग प्रकार की भूमिकाओं का निर्वाह करना हैं। जैसे परिवार, काॅलेज, क्लब, आर्थिक संगठन आदि मे व्यक्ति की भूमिकाओं मे भिन्नताएं।
3. भूमिका निश्चित
प्रत्येक सामाजिक स्थिति से सम्बध्द कार्य निश्चित होते हैं। अतः विशिष्ट स्थिति पर आसानी व्यक्ति से समाज उन्ही कार्यों की प्रत्याशा रखता है जो उसके लिये अभीष्ट होते हैं।
4. भूमिका के स्वरूप का निर्धारण सांस्कृतिक मान्यताओं द्वारा होता हैं
कार्य अथवा भूमिका के स्वरूप या प्रतिमान का निर्धारण सामाजिक सांस्कृतिक मान्यताओं द्वारा होता है। कोई व्यक्ति इच्छा से अपने निर्धारित कार्यों मे परिवर्तन नही कर सकता।
5. सामाजिक व्यवहार की सीमायें निर्धारित
सामाजिक संगठन एवं सामाजिक जीवन के लिये कार्य या भूमिका का विशेष महत्व है। इसी के द्वारा व्यक्ति के सामाजिक व्यवहार की सीमायें निर्धारित होती है तथा सम्पूर्ण समाज व्यवस्थित रूप से चलता रहता हैं।
6. गतिशील अवधारणा
सामाजिक भूमिका की अवधारणा स्थिर न होकर गतिशील है। गतिशीलता के कारण ही इसमे समय-समय पर परिवर्तन होते रहते है। सामाजिक परिवर्तन की स्थिति मे व्यक्ति जैसे-ही-जैसे अपने समाज और संस्कृति का अनुकूलन करता जाता है, उसमे परिपक्वता आती जाती हैं।
7. व्यक्तिगत रूचि का महत्व 
एक व्यक्ति को अनेक प्रकार की भूमिकाओं का निर्वाह करना पड़ता है, किन्तु वह सभी भूमिकाओं को समान रूचि से नही करता है। किसी भूमिका को वह रूचि से सम्पादित करता है, जबकि अन्य को अरूचि से। इसका कारण यह है कि व्यक्ति की योग्यता, रूचि और मनोवृत्तियों से घनिष्ठ सम्बन्ध होता हैं।
8. एक ही व्यक्ति भिन्न भूमिका निभाता हैं
एक ही व्यक्ति क्षेत्रों मे भिन्न-भिन्न कार्य या भूमिका निभाता हैं। उदाहरण के लिए एक ही व्यक्ति घर पर पति, पिता अथवा पुत्र के कार्य पूरे करता है तथा अपने व्यवसाय मे वह कर्मचारी, अफसर, अथवा व्यापारी के कार्य करता हैं।
9. भूमिकाओं का महत्व
व्यक्ति द्वारा सम्पादित भूमिकाओं का समाज मे महत्व होता है, किन्तु इसका तात्पर्य यह नही है कि व्यक्ति द्वारा सम्पादित सभी भूमिकाएं समान महत्व की हों। इस दृष्टि से भूमिकाएं दो प्रकार की होती हैं--- (a) प्रमुख भूमिकाएं (b) सामान्य भूमिकाएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र की प्रकृति (samajshastra ki prakriti)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाज का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समुदाय का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं


आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समिति किसे कहते है? अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्था किसे कहते है? संस्था का अर्थ, परिभाषा, कार्य एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक समूह का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्राथमिक समूह का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; द्वितीयक समूह किसे कहते है? द्वितीयक समूह की परिभाषा विशेषताएं एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्राथमिक समूह और द्वितीयक समूह मे अंतर
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना के प्रकार (भेद)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; हित समूह/दबाव समूह किसे कहते हैं? परिभाषा एवं अर्थ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्कृति क्या है, अर्थ परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;भूमिका या कार्य का अर्थ एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक मूल्य का अर्थ और परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रस्थिति या स्थिति का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण की प्रक्रिया
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण के सिद्धांत
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक नियंत्रण अर्थ, परिभाषा, प्रकार या स्वरूप, महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक स्तरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं आधार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक गतिशीलता का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार या स्वरूप
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक परिवर्तन का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं कारक
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; क्रांति का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक प्रगति का अर्थ व परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विकास का अर्थ और परिभाषा

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।