Kailasheducation

शिक्षा से सम्बन्धित सभी लेख

11/06/2019

कार्ल मार्क्स का वर्ग संघर्ष का सिद्धान्त

कार्ल मार्क्स का वर्ग संघर्ष का सिद्धान्त 

कार्ल मार्क्स के वर्ग संघर्ष के सिध्दान्त को समाजशास्त्र मे सबसे अधिक महत्व दिया जाता हैं। मार्क्स ने समाज मे पाये जाने वाले वर्ग-भेद को अपनी विवेचना का प्रमुख आधार माना हैं। मार्क्स ने लिखा है कि आदिम साम्यवादी युग में किसी प्रकार के वर्ग नही थे। सभी व्यक्ति समान आकांक्षाओं और आवश्यकताओं से प्रेरित थे। इन आकांक्षाओं और आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए व्यक्ति समान कार्यों का सम्पादन करते थे। इसके बाद दासत्व, सामन्त और पूँजीवादी युगों मे निरन्तर वर्ग बने रहे और इन वर्गों मे स्वार्थ भेद के कारण निरन्तर संघर्ष होते रहें।
कार्ल मार्क्स
मार्क्स ने लिखा है कि सम्पूर्ण समाज अधिकाधिक दो महान समूहों मे विभाजित हो रहा है, एक-दूसरे का प्रत्यविरोधी करते हुए, बुर्जूआ और सर्वहार दो महान वर्गो में हैं।

वर्ग संघर्ष का जन्म 

कार्ल मार्क्स का कहना था कि समाज में दो वर्ग हमेशा से ही रहे हैं और दोनों मे से एक वर्ग शोषक और दूसरा शोषित वर्ग रहा हैं। दासत्व युग मे एक वर्ग दास बनकर और दूसरा वर्ग स्वामी बनकर इस प्रकार सान्तवादी युग मे सामन्त वर्ग और दूसरा कृषकों का वर्ग। आधुनिक युग पूंजीवादी और श्रमिक वर्ग हैं। पूंजीवादी श्रमिकों का शोषण करते हैं। कार्ल मार्क्स कहता कहता है की प्रत्येक युग मे एक वर्ग शक्तिशाली और दूसरा वर्ग शोषित व निर्बल रहा है। पूंजीवादी मजदूरों के श्रम को कम मूल्य मे खरीद लेते है और उनके श्रम से कम मूल्य पर अधिक वस्तुओं का उत्पादन करते हैं। इस प्रकार शोषित वर्ग के अत्याचारों से परेशान होकर शोषित वर्ग मे असन्तोष फैल जाता है और वर्ग संघर्ष की स्थिति उत्पन्न हो जाती हैं। 
 कार्ल मार्क्स ने लिखा है कि पूँजीपति और सर्वहार वर्ग के बीच संघर्ष होगा तो इस संघर्ष मे सर्वहार वर्ग की विजय सुनिश्चित होगी। जब पूँजीपति श्रमिकों के शोषण मे व्यस्त हो जाते है तो श्रमिक वर्ग को विवश होकर क्रांति और संघर्ष का सहारा लेना पड़ता हैं। उसने यह भी लिखा है कि अगर पूँजीपतियों के हाथ से सत्ता को छीनना है तो इसके लिए श्रमिक वर्ग को सशस्त्र खूनी क्रांति करना अनिवार्य होगा। 

वर्ग संघर्ष के कारण 

जब पूँजीपति अपने सर्वोच्च शिखर पर पहुँच जाता है तो इसमे आन्तरिक असंगतियां उत्पन्न हो जाती है। आन्तरिक असंगतियों के परिणामस्वरूप पूंजीवादी मजदूरों की उपेक्षा करके अधिक से अधिक धन कमाने में लिप्त हो जाते है। वर्ग संघर्ष का मुख्य कारण मार्क्स ने पूँजीपतियों द्वारा श्रमिकों का शोषण किया जाना माना है। पूँजीपति श्रमिकों से कड़ी मेहनत कर बाते है और उन्हे उसका उचित मूल्य नही देते। पूंजीवादी श्रमिकों के श्रम को कम मूल्य मे खरीद कर वस्तु का अधिक उत्पादन कर उन्हे अधिक दाम मे बेचते है और उसका मुनाफा अपनी जेब मे ही रखते है और श्रमिकों को केवल वे मजदूरी मात्र ही देते है। यही वर्ग संघर्ष का कारण है।
मार्क्स के मतानुसार राज्य, व्यक्ति की प्रगति मे सबसे बड़ी बाधा है। किसी भी समाज मे जब तक राज्य और वर्गों का अस्तित्व रहेगा वह समाज कभी भी प्रगति नही कर सकेगा वहां रहने वाली जनता को कभी भी न्याय और संरक्षण नही नहीं मिलेगा। जब किसी भी समाज में एक वर्ग का जन्म होता है तो उसी समाज मे उस वर्ग का प्रतिद्वंदी दूसरा वर्ग भी जन्म लेता हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें