6/18/2020

समाज और समुदाय में अंतर

By:   Last Updated: in: ,

समाज और समुदाय (samaj or samuday)

samaj or samuday me antar;व्यक्ति की सामाजिक प्रवृत्ति एवं सामाजिक संबंधों के परिणामस्वरूप विकसित होने वाले दो प्रमुख "समाज" तथा "समुदाय" हैं। मानव समाज मे ही समुदायों का विकास होता है। सामाजिक संबंधों की व्यवस्था को समाज कहा जाता है। समाज एक व्यापक अवधारणा है इससे भिन्न "समुदाय" एक सुंकुचित संगठन हैं। व्यक्तियों के एक विशिष्ट समूह को समुदाय कहते है। समुदाय का एक निश्चित भौगोलिक क्षेत्र होता हैं। समुदाय के सभी सदस्यों के आपसी संबंध घनिष्ठ होते हैं तथा उनके रीति-रिवाज, रूचियों आदि समान होते हैं। समुदाय का एक विशिष्ट नाम होता हैं। समाज और समुदाय मे कुछ समानताएं होते हुए भी कुछ मौलिक अन्तर भी हैं-----

समाज और समुदाय में अंतर (samaj or samuday me antar)

1. समुदाय मूर्त अवधारणा हैं, जबिकि समाज का स्वरूप अमूर्त हैं।
2. समुदाय व्यक्तियों का समूह होता हैं, जबकि समाज सामाजिक सम्बन्धों के जाल को कहते हैं।
3. समुदाय का क्षेत्र सीमित होता हैं, जबिकि समाज का क्षेत्र विस्तृत होता हैं। इसी विशालता के कारण समाज मे अनेक समुदाय होते हैं।
4. स्थानीयता समुदाय की अनिवार्य आवश्यकता है, समाज के लिए स्थानीयता अनिवार्य नही हैं।
5. समुदाय का आधार "सामुदायिक भावना" होती है, जबकि तर्क और बुद्धि पर आधारित होता हैं।
6. समुदाय सामान्य जीवन और असमानताओं पर आधारित होता हैं; जबकि समाज मे समानताएं और विभिन्नाएं दोनों पाई जाती हैं।
7. समुदाय का विशिष्ट नाम होता है, जबकि समाज का कोई विशिष्ट ना नही होता हैं।
8. सहयोग समुदाय की अनिवार्य आवश्यकता हैं। समाज मे सहयोग की प्रधानता के साथ ही साथ संघर्ष भी पाया जाता हैं।
9. समुदाय विशिष्ट संस्कृति और सामाजिक विरासत पर आधारित होते है, किन्तु समाज मे अनेक संस्कृतियां और विविधताएं पाई जाती हैं।
10. समुदाय सीमित उद्देश्यों की पूर्ति करते हैं, जबकि समाज विस्तृत उद्देश्यों पर आधारित होते हैं।
11. समाज औपचारिक सम्बन्धों पर आधारित होते है, जबकि समुदाय का आधार व्यक्तियों के बीच पाये जाने वाले अनौपचारिक सम्बन्ध होते हैं।
12. समाज मे व्यक्ति अपने विस्तृत उद्देश्यों की पूर्ति करता हैं, जबकि समुदाय मे व्यक्ति के उद्देश्य सीमित होते हैं।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजशास्त्र की प्रकृति (samajshastra ki prakriti)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाज का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समुदाय का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाज और समुदाय में अंतर
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समिति किसे कहते है? अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्था किसे कहते है? संस्था का अर्थ, परिभाषा, कार्य एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक समूह का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;
https://www.kailasheducation.com/2020/06/prathmik-samuh.html
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; द्वितीयक समूह किसे कहते है? द्वितीयक समूह की परिभाषा विशेषताएं एवं महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्राथमिक समूह और द्वितीयक समूह मे अंतर
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक संरचना के प्रकार (भेद)
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; हित समूह/दबाव समूह किसे कहते हैं? परिभाषा एवं अर्थ
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; संस्कृति क्या है, अर्थ परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;भूमिका या कार्य का अर्थ एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक मूल्य का अर्थ और परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; प्रस्थिति या स्थिति का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण की प्रक्रिया
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; समाजीकरण के सिद्धांत
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक नियंत्रण अर्थ, परिभाषा, प्रकार या स्वरूप, महत्व
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक स्तरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं आधार
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक गतिशीलता का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं प्रकार या स्वरूप
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए;सामाजिक परिवर्तन का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं एवं कारक
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; क्रांति का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक प्रगति का अर्थ व परिभाषा
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; विकास का अर्थ और परिभाषा

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।