Kailasheducation

शिक्षा से सम्बन्धित सभी लेख

10/08/2019

यह हैं भारत में बेरोजगारी के कारण

                             बेरोजगारी 

भारत की प्रमुख समस्याओं मे से एक हैं बेरोजगारी की समस्या हैं। बेरोजगारी एक प्रकार से निर्धनता है को की एक वैश्विक सामाजिक समस्या है। सभी देशों में बेरोजगारी के भिन्न-भिन्न कारण हो सकते है। विकसित और विकासशील देशों में बेरोजगारी के कारण भिन्न-भिन्न हो सकते है। भारत एक विकासशील देश है  अर्थात् भारत अभी विकास की और बढ़ रहा है। आज के इस लेख मे हम भारत मे बेरोजगारी के कारण जानेंगे।



बेरोजगारी श्रम की मांग और पूर्ति की असंतुलित अवस्था का परिणाम है। बेरोजगारी को दूर करने के लिए भारत सरकार ने समय-समय पर अनेक प्रयास किए है। भारत सरकार ने रिक्तियों की अनिर्वार्य अधिसूचना अधिनियम 1959 के तहत पूरे भारत में रोजगार कार्यालय खोले। इन कार्यलयों का उद्देश्य रोजगार की सूचना एवं रोजगार प्रदान करने के उद्देश्य से खोले गए है। सन् 2011 की जनगणना के आँकड़ो के अनुसार भारत की युवा आबादी का 20% यानि 4.7 करोड़ पुरूष और 2.6 करोड़ महिलाएं पूरी तरह से बेरोजगार है।

भारत में बेरोजगारी के मुख्य कारण इस प्रकार हैं। 

1. दोषपूर्ण शिक्षा प्रणाली
भारत में बेरोजगारी की समस्या का एक कारण भारत की दोष पूर्ण शिक्षा प्रणाली भी रही है। भारतीय विद्यालयों में किताबी शिक्षा दी जाती है। भारत की शिक्षा प्रणाली में व्यवहारिक शिक्षा का अभाव रह है। विद्यार्थियों को श्रम का महत्व भी नही बतलाया जाता है जिससे उनमें श्रम करने के प्रति उदासीनता रहती है।
2. कृषि का पिछड़ापन
भारत एक कृषि प्रधान देश है भारत की अर्थव्यवस्था का बहुत बड़ा भाग कृषि से ही आता है। भारत में ग्रामीण समाज की आजीविका का मुख्य साधन कृषि ही है। लेकिन आज जनसंख्या की अधिकता, खेती को उन्नत करने के लिए पूंजी की कमी। तकनीकी अभाव आदि कारणों से भारत कृषि से पिछड़ रहा है।
3. उदारीकरण
1991 में नई आर्थिक नीतियों को अपनाने के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था मे बेहद बदलव आए। उदाकरीकरण के इस दौर मे बड़े उधोग-धंधो के आने से विदेशी मुद्रा भंडार तो बढ़ा लेकिन छोटे उधोग-धंधो मे लगे कामगारों के लिए मुसीबत खड़ी हो गई।
4. नये रोजगार के अवसरो का अपर्याप्त होना
तेजी से बढ़ती हुई जनसंख्या के कारण रोजगार के अवसर भी बढ़ने चाहिए लेकिन ऐसा नही हो रहा हैं रोजगार के अवसरों मे वृद्धि नही हो पा रही हैं।
5. जनसंख्य वृध्दि
भारत की जनसंख्या तीव्र गति से बढ़ रही है। विश्व में जनसंख्या के मामले में भारत का दूसरा स्थान है। 2011 की जनगणन के आँकड़ो के मुताबिक 11% यानी की 12 करोड़ लोगों को रोजगार की तलाश है। भारत में जनसंख्या तेजी से बढ़ती जा रही है और खेती दिनों-दिनों छोटी होती जा रही है। खेती पर जनसंख्या का दवाब तेजी से बढ़ रहा है। अगर इसे समय रहते नही रोका गया तो इसके गंभीर परिणाम देखने को मिलगे है।
6. मशीनीकरण

बेरोजगारी को बढ़ने में मशीनीकरण का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। जो काम एक व्यक्ति 10 दिन में करता है वह काम एक मशीन 1 घंटे मे कर देती है। इस प्रकार मशीनीकरण भी बेरोजगारी की समस्या का एक प्रमुख कारण है।
7. दोष पूर्ण आर्थिक नियोजन
बेरोजगारी का एक कारण दोष पूर्ण आर्थिक नियोजन का भी होने है। बिजली, सड़क, यातायात, संचार, आदि सुविधाओं की कमी या अभाव के कारण ग्रामीण क्षेत्रों के लोग नगर की और पलायन करने लगते है जिसके परिणामस्वरूप रोजगार के अवसरों की उपलब्धता में कमी आ जाती है।
भारत में बेरोजगारी के कारणों को लेकर अगर आपका मन में कोई विचार है तो नीचे comment कर जरूर बताए।
यह भी पढ़ें अहिंसा पर गाँधी जी के विचार 
यह भी पढ़ें संस्कृतिकरण का अर्थ और विशेषताएं
यह भी पढ़ें प्रकार्य का अर्थ और परिभाषा
यह भी पढ़ें कार्ल मार्क्स का वर्ग संघर्ष का सिद्धान्त
यह भी पढ़ें अगस्त काॅम्टे का तीन स्तरों का नियम
यह भी पढ़ें ऑगस्त काॅम्टे का जीवन परिचय
यह भी पढ़ें ग्रामीण समाज का अर्थ, परिभाषा और विशेषताएं
यह भी पढ़ें व्यवसाय का अर्थ परिभाषा और मुख्य विशेषताएं
यह भी पढ़ें अपराध का अर्थ, परिभाषा और कारण
यह भी पढ़ें यह हैं भारत में बेरोजगारी के कारण
यह भी पढ़ें जजमानी व्यवस्था का अर्थ, परिभाषा और विशेषताएं
यह भी पढ़ें जनजाति का अर्थ परिभाषा और विशेषताएं
यह भी पढ़ें सहकारिता का अर्थ, विशेषताएं और महत्व (भूमिका)
यह भी पढ़ें मद्यपान का अर्थ, परिभाषा, कारण और दुष्परिणाम
यह भी पढ़ें नगरीकरण का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं और प्रभाव
यह भी पढ़ें सामाजिक संगठन का अर्थ और परिभाषा 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें