10/22/2019

अपराध का अर्थ, परिभाषा और कारण

By:   Last Updated: in: ,


नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का अपराध हर समाज एवं राष्ट्र के लिए एक गंभीर समस्या है। अपराध की यह प्रक्रिया युगों-युगों से चल आ रही है। जिसमें मे से बाल अपराध की समस्या तो और भी भयावह एवं गंभीर समस्या है। कानूनी दृष्टी कोण अपराध का अर्थ कानून विरोधी कार्य करना ही अपराध है जब यह अपराध को बालक करता है तो उसे हम बाल अपराधी के नाम से जानते है। आज के इस लेख मे हम अपराध का अर्थ, परिभाषा और अपराध के कारण के बारें मे चर्चा करेंगे।
अपराध
अपराध
अक्सर देखा जाता है कि अधिकांश अपराधी किसी कारण वश या मजबूरी में ही अपराध को अंजाम देते है। लेकिन कुछ अपराधी ऐसे भी होते है जिन्हें ना तो सामाज का भय होता है और ना ही राज्य के कानून का ऐसे अपराधी ही गंभीर अपराधों को अंजाम देते है।

     अपराध का अर्थ (apradh ka arth)

समाजशास्त्री दृष्टिकोण से अपराधी या बाल अपराधी वह है जो समूह द्वारा स्वीकृत किसी कार्य को करने का अपराधी हो, जो अपने विश्वास को लागू करने की शक्ति रखता हो, जिसे समाज हेतु खतरनाक समझकर उसे रोका जाना अवयश्क हो गया हो।
अपराध का अस्तित्व समाज मे अनादि काल से प्रचलित रहा हैं। प्रारंभिक आदमी समाजों मे लोकरीतियां, प्रथाएं, व्यक्ति के आचरण को नियंत्रित करती थी एवं इनका उल्लंघन करने पर समूह के द्वारा दण्ड का विधान निश्चित किया जाता हैं था। आधुनिक जटिल समाजों मे व्यक्ति के आचरण को नियंत्रित करने पर किसी भी व्यक्ति के व्यवहार को दण्डिनीय अपराध माना जाता हैं। अपराध क्या हैं? इसे समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से समझने के लिए विभिन्न विद्वानों द्धारा अपराध की परिभाषाओं को जान लेना आवश्यक हैं।

अपराध की परिभाषा (apradh ki paribhasha)

सदरलैण्ड के अनुसार अपराध की परिभाषा; "अपराध सामाजिक मूल्यों के लिये ऐसा घातक कार्य है जिसके लिये समाज दण्ड की व्यवस्था करता है।
थोर्सटन सेलिन के अनुसार; अपराध मानवीय समूहों के व्यवहार के आदर्श नियमाचारों का उल्लंघन हैं।
डैरो के अनुसार; अपराध एक ऐसा कार्य है जो कि देश मे कानून के द्वारा निषिद्ध हो और जिसके लिए दण्ड निर्धारित हो।
पाॅल टप्पन के अनुसार; एक सभिप्राय कार्य है या अनाचरण है जो दण्ड कानून का उल्लंघन करता हैं।
डां. सेथना के अनुसार अपराध की परिभाषा; "अपराध कोई भी वह कार्य अथवा त्रुटि है जो किसी विशेष समय पर राज्य द्वारा निर्धारित कानून के अनुसार दण्डनीय हैं।
बर्ट के अनुसार बाल अपराध की परिभाषा; "उन बालकों को बालापराधी कहते हैं जिसकी समाज विरोधी प्रवृत्तियां इतनी गम्भीर हो जाती हैं कि उनके प्रति सरकारी कार्यवाही जरेरी हो जाती है।"

अपराध का वर्गीकरण 

कानूनी के दृष्टिकोण से अपराध दो प्रकार के होते हैं----
1. सामान्य अपराध 
सामान्य अपराध वे अपराध होते है जिनसे समाज को बहुत अधिक हानि की संभावना कम होती हैं। ऐसे अपराधों में शामिल हैं, शराब पीकर झगड़ा करना, यातायात के नियमों का उल्लंघन करना, साधारण चोरी आदि। यनि कि छोटे-मोटे अपराधों को इस श्रेणी मे रखा जा सकता हैं। समान्य अपराधी को कारावास, जुर्माना जैसे दण्ड दिये जा सकते हैं।
2. गंभीर अपराध 
गंभीर अपराध वह अपराध होते है जिसने संपूर्ण  समाज को खतरा होता हैं। गंभीर अपराधों में आतंकवादी गतिविधियां, हत्या करना, अपहरण करना, बलात्कार करना। गंभीर अपराध करने वाले अपराधी को उम्र केद, या फांसी की सजा तक दी जा सकती हैं।
कोई भी व्यक्ति किसी भी रूप में अपराध क्यों करता है? इसके अनेक कारण हो सकते है। कुछ लोग जन्म से ही अपराधी बन अपराधी होते है तो कुछ लोग परिस्थतियों वश आगे चलकर अपराधी बन जाते है।  अपराध के विषय में मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि व्यक्ति के अंदर हीनभावना का विकास अपराधी भावनाओं को जन्म देता है। अपराध के प्रमुख कारण इस प्रकार है---

अपराध के कारण (apradh ke karna)

1. व्यक्तिगत कारण 
अपराध करने के कुछ व्यक्तिगत कारण भी होते है। जिन व्यक्तियों के माता-पिता अपराधी व्यवहार में संलग्न हो तो उनके बच्चो द्वारा भी अपराध करने की संभावना बड़ जाती है। माता-पिता द्वारा अपने बच्चों अच्छी परवरिश या अवश्यकताओं की पूर्ति न करना या  फिर नैतिक शिक्षा न दे पाना भी अपराध कारण हो सकता है।
2. आर्थिक कारण 
निर्धनता अपराध का सबसे मुख्य कारणों मे से एक है। व्यक्ति अपनी पत्नी और बच्चों का भरण-पोषण करने में अपने आपको जब असर्मथ पाता है तो वह अपराधी गतिविधियों की और बढ़ने लगता है। उदाहरण को तौर पर औद्योगीकरण और नागरीकरण के कारण मलिन बस्तियां पनपती है। ग्रामीण लोग रोजगार के लिए उद्योगों में काम करने के लिये आते है लेकिन कम आय के कारण उनकी पत्नी- बच्चों का भरण-पोषण नही हो पाता और समुचित आवास की व्यवस्था भी नही हो पाती तो स्थानों पर अधिकांशतः अपराधी प्रवृत्ति पनपने लगती है।
3. पारिवारिक और सांस्कृतिक कारक
परिवार का स्वरूप व्यक्ति के जीवन के संतुलन का आधार होता है। यदि परिवार संगठित है तो व्यक्ति भावनात्मक रूप से स्थिर व संतुलित जीवन प्राप्त करने में सफल होता है। लेकिन टूटे और विघटित परिवार संघर्ष और कलह को जन्म देते है, जिनकी से व्यक्ति संवेगात्मक रूप से अस्थिर एवं कुसमायोजित व्यक्तित्व के रूप मे कार्य करता है। अधिकांश बाल अपराधी टूटे और विघटित परिवारों से संबंधित होते हैं। संतुलित वैवाहिक जीवन न होने पर भी अपराधी की संभावना बढ़ जाती है। तलाकशुदा व अविवाहित व्यक्तियों मे तुलनात्मक रूप से अपराध की दर अधिक पायी जाती हैं।
4. चलचित्र

चलचित्र मनोरंजन का मुख्य साधन माने जाते है। लेकिन यह व्यक्ति के सामने उच्च आदर्श पेश नही कर पाते। बहुत से लोग सिर्फ अपनी अतृप्त कामुकता को शान्त करने हेतु चलचित्रों में जाते है। इन चलचित्रों में  कई तरह के समाज विरोधी कार्य दिखाये जाते है जिससे व्यक्ति के मस्तिष्क पर इसका बूरा प्रभाव पड़ता है।
5.अनैतिक वातावरण
अनैतिक वातावरण भी अपराध का कारण हो सकता हैं। जनसंख्या वृद्धि से घनी आबादी के कारण सघन बस्तियों का जन्म हुआ। ऐसी बस्तियों मे अनैतिक वातावरण की संभावनाएँ अधिक होती हैं। जैसे-- जुआ, शराब और संगठित गिरोह जैसे अपराध ऐसे स्थानों मे अधिक पनपते हैं।
 6. शारीरिक विकार 
शारीरिक विकारों में अंधे, बहरे, एवं विकलांगों या विकृत आकृति वाले लोगो को शामिल किया जा सकता है। ऐसे लोगों में हीनता की भावना पनपती है और वह आपराधी गतिविधों की और बढ़ने लगते है।

7. मनोवैज्ञानिक कारण 
अपराध के मनोवैज्ञानिक कारण भी होते है। प्रेम में असफलता, सामाजिक जीवन असफलता, आर्थिक आवश्यकताओं की पूर्ति करने मे असमर्थ होना, परिवार में उपेक्षा, समाज द्वारा बहिष्कार आदि जैसे अनेक कारण है जो व्यक्ति के जीवन को हीनता का बोध करते है। इस कारण व्यक्ति कभी हिंसा तो कभी प्रतिशोध तो कभी मानसिक उद्वेग उसके अपराधी व्यवहार का कारण बन जाता है।
8. सामाजिक विघटन
 सामाज का निर्माण विभिन्न ईकायों जैसे व्यक्ति, परिवार, समिति, संस्था, समूह आदि से होता है और जब यह अपने दायित्वों का निर्वाह नही करती तो सामाज का विघटन होने लगता है। इस प्रकार सामाजिक विघटन की प्रक्रिया समाज में अपराधों को जन्म देने का बनती है।
आशा करते है आपको अपराध का अर्थ, परिभाषा और अपराध के कारण समझ आ गये होगे। अगर आपका इस लेख से सम्बन्धित कोई सवाल या प्रश्न है तो नीचे comment कर जरूर पहुंचे हम आपके comment का इंतजार कर रहे हैं।
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; गंदी बस्तियां क्या है? परिभाषा, कारण, प्रभाव या दुष्परिणाम
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; गंदी बस्तियों की समस्याओं को हल करने के सुझाव
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; निर्धनता का अर्थ और कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक विघटन का अर्थ, परिभाषा, स्वरूप या प्रकार 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; सामाजिक विघटन के कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; बाल अपराध का अर्थ, परिभाषा और कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; अपराध का अर्थ, परिभाषा और कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; बेरोजगारी के कारण
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; मद्यपान का अर्थ, परिभाषा कार और दुष्प्रभाव 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; जनजाति का अर्थ, परिभाषा एवं विशेषताएं 
आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए; जनजाति की प्रमुख समस्याएं 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।