har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

9/17/2021

संवेगात्मक विकास के सिद्धांत

By:   Last Updated: in: ,

संवेगात्मक विकास के सिद्धांत 

samvegatmak vikas ke siddhant;बालकों में संवेगात्मक विकास की प्रक्रिया महत्वपूर्ण होती हैं। संवेगों के द्वारा बालक अपने जीवन में समायोजित ढंग से व्यवहार करता हैं। किन्तु संवेगात्मक अस्थिरता के कारण बालक का समायोजन दोषपूर्ण हो जाता हैं। किन्तु इस तथ्य पर मनोवैज्ञानिकों में मतभेद हैं कि बालक मे संवेगों की उत्पत्ति किस आयु में होती हैं, और इनके विकास की प्रक्रिया किस प्रकार की हैं अर्थात् बालक में संवेग की उत्पत्ति कब होती हैं? तथा किस प्रकार बालक को किसी संवेग की अनुभूति होती हैं? 

उक्त तथ्यों की व्याख्या करने के लिए मनोवैज्ञानिकों ने अपने-अपने विचारों का वर्णन सैद्धांतिक रूप से किया हैं। संवेगात्मक उद्भव एवं विकास के सिद्धांतों का वर्णन निम्नलिखित हैं-- 

1. संवेग का दैहिक सिद्धांत 

संवेग के दैहिक सिद्धांत का प्रतिपादन मनोवैज्ञानिक जेम्स लैंग द्वारा किया गया हैं। इस सिद्धांत को मुख्य रूप से दैहिक परिवर्तन का सिद्धांत भी कहा जाता है। दैहिक सिद्धांत वास्तव में अमेरिकी मनोविज्ञानिक जेम्स एवं डेनमार्क के मनोवैज्ञानिक लैंग के विचारों का समन्वित स्वरूप है। इस सिद्धांत के अनुसार संवेगात्मक अवस्था में बालक के शरीर में परिवर्तन होता हैं। भौतिक वातावरण में उपस्थित उद्दीपक बालक में एक प्रकार की भावात्मक मानसिक दशा उत्पन्न करते हैं जिसके परिणामस्वरूप बालक की दैहिक संरचना में परिवर्तन उत्पन्न हो जाता हैं। इस प्रकार उत्पन्न दैहिक परिवर्तन से संवेगात्मक अवस्था की उत्पत्ति होती हैं। 

संवेग के दैहिक सिद्धांत के अनुसार-संवेगावस्था उत्पन्न होने के पहले बालक में दैहिक (शारीरिक) परिवर्तन का घटित होना स्वाभाविक हैं। उदाहरणार्थ जब बालक किसी भयावह उद्दीपक (जैसे-साँप, शेर, आग) को देखता हैं, तो इस उद्दीपक को देखने से बालक में एक विशिष्ट भावात्मक दशा का जन्म होता है जो उस भयावह उद्दीपक से बालक को दूर भागने की क्रिया करवाती हैं। बालक द्वारा भागने की क्रिया एक प्रकार का शारीरिक परिवर्तन हैं जिसके कारण बालक में भयपूर्ण या डरावनी स्थिति उत्पन्न हो जाती है जो 'भय' नामक संवेग की उत्पत्ति में आधार प्रदान करती हैं। 

2. संवेग का केन्द्रीय सिद्धांत 

संवेग के केन्द्रीय सिद्धांत का प्रतिपादन दो मनोवैज्ञानिकों कैनन एवं बार्ड द्वारा किया गया है। इस सिद्धांत के अनुसार संवेग उत्पत्ति का कारण मस्तिष्क का हाइपोथैलेमस भाग होता है जो कि केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र में अवस्थित होता है। इस सिद्धांत को हाइपोथैलमिक या थैलमिक सिद्धांत के नाम से भी जाना जाता हैं। इस सिद्धांत के अनुसार सांवेगिक परिवर्तन तथा सांवेगिक अनुभूति दोनों बालकों में या प्राणी में एक साथ घटित होते है न कि सांवेगिक परिवर्तन (व्यवहार) पर सांवेगिक अनुभूति निर्भर करती हैं। 

संवेग के केन्द्रीय सिद्धांत के संदर्भ में मनोवैज्ञानिक मार्गन, किंग एवं स्कोपलर का कथन हैं कि," संवेग के केन्द्रीय सिद्धांत के अनुसार संवेग में होने वाली शारीरिक प्रतिक्रियाएं एवं अनुभव किया गया संवेग दोनों एक-दूसरे से स्वतंत्र होते हैं और दोनों की उत्पत्ति एक साथ होती हैं। इस सिद्धांत के अनुसार प्राणी में संवेगों की उत्पत्ति निम्न प्रक्रियाओं का परिणाम होता है-- 

1. संवेग की उत्पत्ति के लिए किसी उद्दीपक एवं ज्ञानेन्द्रिय उत्तेजन आवश्यक हैं। 

2. ज्ञानेन्द्रियों से स्नायु आवेग हाइपोथैलमस से होता हुआ प्रमस्तिष्क बल्क में पहुँचता हैं। 

3. प्रमस्तिष्क बल्क हाइपोथैलमस पर से अपना नियंत्रण कम कर देता है और कुछ विशेष परिस्थिति में ऐसे स्नायु आवेग को भी हाइपोथैलमस में भेजता हैं जिसकी उत्पत्ति विकल्प रूप मे हुई होती हैं। इस प्रकार हाइपोथैलमस पूर्णरूप से सक्रिय हो जाता हैं। 

4. हाइपोथैलमस के सक्रिय होने पर स्नायु आवेग दोनों दिशाओं अर्थात ऊपर प्रमस्तिष्क बल्क एवं नीचे आंतरिक अंगों व बाहरी शारीरिक अंगों की ओर एक साथ जाते हैं। स्नायु आवेग के प्रमस्तिष्क बल्क में पहुँचने से संवेग की उत्पत्ति होती है और जब स्नायु आवेग आंतरिक अंगों एवं माँसपेशियों में पहुँचता है तो संवेगात्मक व्यवहार या शारीरिक परिवर्तन होता हैं। 

अतः संवेगात्मक व्यवहार एवं संवेगों की उत्पत्ति विषयक यह सिद्धांत अधुनिक समय में संवेग का प्रमुख सिद्धांत माना जाता है। इस सिद्धांत का सारभूत तथ्य यह हैं कि मस्तिष्क का हाइपोथैलमस या थैलमस भाग ही संवेगों की उत्पत्ति का केंद्र बिन्दु हैं। 

3. संवेग का जैवकीय सिद्धांत 

संवेग के जैवकीय सिद्धांत का प्रतिपादन प्रसिद्ध व्यवहारवादी मनोवैज्ञानिक जे. बी. वाटसन के द्वारा किया गया हैं। इस सिद्धांत के अंतर्गत प्रसिद्ध मनोवैज्ञानिक वाटसन ने अपने प्रायोगिक अध्ययनों से स्पष्ट किया है कि जन्म के समय शिशुओं में भय, क्रोध एवं प्रेम नामक तीन मौलिक संवेग पाये जाते हैं। इन्हीं तीन मौलिक संवेगों से अन्य संवेगों की उत्पत्ति व विकास होता है। वाटसन ने अपना प्रयोग कुछ नवजात शिशुओं एवं कुछ माह के बच्चों पर प्रयोग करके अपने उक्त तथ्य की पुष्टि की। भय, संवेग के प्रगटीकरण के लिए भयावह उद्दीपकों यथा तीव्र आवाज, डरावनी वस्तुओं का प्रयोग वाटसन ने किया। परिणामतः निरीक्षण किया गया कि तीव्र आवाज होने से शिशु का सांस लेना, रोना, चिल्लाना, हाथ-पैर पटकना आदि सभी शिशुओं में नही पायी जाती, जिसकी पुष्टि इन्होंने अपने अध्ययन परिणामों से की हैं। इराविन्द ने अपने अध्ययनों से स्पष्ट की कि सभी शिशुओं में भयावह उद्दीपक के प्रति भयपूर्ण प्रतिक्रिया नहीं पायी जाती हैं। मैलजैक ने अपने अध्ययन से स्पष्ट किया कि शिशुओं में मौलिक संवेग जन्म से नही पाये जाते बल्कि शिशुओं में जन्म के समय एक प्रकार की सामान्य उत्तेजना विद्यमान रहती हैं। 

4. संवेग का विकासवादी सिद्धांत 

संवेग के विकासवादी सिद्धांत के अंतर्गत मुख्य रूप से मनोवैज्ञानिक ब्रिजेज एवं बनहम द्वारा शिशुओं पर किये गये प्रयोग उल्लेखनीय हैं। इन सिद्धांतवादियों के अनुसार जन्म के समय बालक (शिशु) में किसी प्रकार का संवेग उपस्थित नही होता बल्कि शिशु में केवल सामान्य उत्तेजना ही विद्यमान रहती हैं। शिशु में संवेगात्मक प्रतिक्रियाएं तीन माह की अवधि से विकसित होती हैं। इस समय शिशु को कष्ट एवं आनन्द की अनुभूति होती हैं जिसके कारण बालक द्वारा की गयी प्रतिक्रियाओं रोने, चिल्लाने आदि से माँसपेशीय तनाव की उत्पत्ति होती हैं। शिशु अपनी पेशीय लोचकता के कारण मुस्कराने की प्रतिक्रिया करता हैं। 6 माह की अवधि में कष्ट नामक संवेग से भय, घृणा एवं क्रोध संवेगों की उत्पत्ति होती हैं। एक वर्ष की अवस्था के शिशुओं में उल्लास एवं वयस्कों के प्रति अनुराग उत्पन्न होता हैं। डेढ़ वर्ष की आयु में ब्रिजेज के अनुसार बालक में अन्य बालकों के प्रति प्रेम एवं घृणा की उत्पत्ति होती हैं और दो वर्ष की अवधि में बालक में खुशी (आनन्द) संवेग की उत्पत्ति हो जाती हैं। 

इस प्रकार सभी महत्वपूर्ण संवेगों की उत्पत्ति बालक में 2 वर्ष की आयु तक हो जाती हैं। सभी संवेगों की उत्पत्ति एवं विकास परिपक्वता एवं अभिगम का परिणाम होता हैं। इन्हीं के आधार पर संवेगों एवं संवेगात्मक व्यवहारों में परिवर्तन परिवर्द्धन एवं परिमार्जन होता रहता हैं।

यह जानकारी आपके के लिए बहुत ही उपयोगी सिद्ध होगी

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार, सवाल या सुझाव हमें comment कर बताएं हम आपके comment का बेसब्री इंतजार कर रहें हैं।