har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

7/10/2021

अस्पृश्यता का अर्थ, परिभाषा

By:   Last Updated: in: ,

अस्पृश्यता का अर्थ (asprishyata kya hai)

साधारण शब्दों मे अस्पृश्यता का अर्थ ऐसी वस्तुओं से लिया जाता है जिनको स्पर्श करना वर्जित हो। भारत मे इस शब्द का अर्थ विशेषकर उन जातियों से दूर रहने के लिये किया जाता रहा है जो निम्न जाति की है और जिनका मुख्य कार्य कूड़ा, मैला उठाना या सफाई करना है। कुछ समय पूर्व इस श्रेणी की जाति के लोगों को भंगी, चमार, मेतर, बसौड़ आदि नमों से सम्बोधित किया जाता था और इनको समाज मे हेय की दृष्टि से देखा जाता था। किन्तु आज स्वतंत्रत भारत मे अनेक समाज सुधारकों और सरकार के अथक प्रयासों से इनका सामाजिक सम्मान बढ़ा है एवं इनकी स्थिति मे परिवर्तन हो रहा है। वर्तमान मे अस्पृश्य जातियों को विभिन्न नामों से पुकारा जाता है जैसे-- दलित वर्ग, बाहरी जाति, हरिजन आदि। सन् 1935 के अधिनियम मे इन अस्पृश्य जातियों को कुछ विशेष सुविधायें देने की दृष्टि से एक अनुसूची तैयार की गयी। इसलिए इन जातियों को अनुसूचित जातियों के नाम से पुकारा जाता है।

अस्पृश्यता की परिभाषा (asprishyata ki paribhasha)

डाॅ. घुरिये के अनुसार," अनुसूचित जातियों की परिभाषा मैं उस रूप मे कर सकता हूँ, जो कुछ समय के लिये अनुसूचित जातियों के अंतर्गत रखे गये है।

डाॅ. मजूमदार के अनुसार," अस्पृश्य जातियाँ वे है जो कि विभिन्न सामाजिक, राजनीतिक निर्योग्यताओं से पीड़ित है, जिनमे से बहुत सी निर्योग्यताएँ उच्चतर जातियों के द्वारा परम्परागत रूप से निश्चित व सामाजिक रूप से लागू की गई है।

अस्पृश्यता की कसौटायाँ या आधार 

किन जातियों को अस्पृश्य कहा जावे इसके लिये कुछ आधार अथवा कसौटायाँ निश्चित की गई है। ये आधार निम्न है--

1. उस जाति का पुराहित्य ब्राह्मण करते है अथवा नही।

2. सवर्ण हिन्दुओं की सेवा करने वाले व्यक्ति, जैसे-- नाई, धोबी, दर्जी, कुम्हार आदि उस जाति की सेवा करते है या नही।

3. उस जाति के व्यक्ति एक सवर्ण हिन्दू को स्पर्श से अपवित्र करते है या नही।

4. हिन्दू मन्दिरों में प्रवेश करने से उस जाति के व्यक्ति वर्जित है अथवा नही।

5. क्या सवर्ण हिन्दू उस व्यक्ति के हाथ का पानी पीते है या नही।

6. क्या उस जाति के सदस्य सार्वजनिक सुविधाओं जैसे-- सड़कों, कुओं, विद्यालयों इत्यादि का प्रयोग कर सकते है अथवा नही।

7. साधारण सामाजिक व्यवहार मे उस जाति का शिक्षिन सदस्य उसी योग्यता वाले सवर्ण हिन्दू के द्वारा समता का व्यवहार पाता है या नही।

8. क्या उस जाति को दलित इसलिए कहा जाता है क्योंकि वे आज्ञानी है, अशिक्षित है या गरीब है या उन्हें दलित कहने का अन्य कारण है? 

9. क्या जाति केवल व्यवसाय के कारण निम्न समझी जाती है या उसका कोई ध्यान नही रखा जाता? 

उपरोक्त लक्षणों मे से एक या अधिक अवस्थायें होने पर उस जाति को अस्पृश्य मे मान लिया जाता है।

अस्पृश्यता के अंतर्गत निर्योग्यताएँ

भारत मे अस्पृश्य जातियाँ वे जातियाँ है जिनके लिये उच्च वर्ण या जाति के लोगों ने कुछ निषेधात्मक बातें निर्धारित की है। ग्रामीण समुदायों में अन्धविश्वास तथा अशिक्षा के कारण निम्न वर्ण की जातियों की निर्योग्यताओं ने घर कर लिया है। इन्होंने ग्रामीण समुदाय को निम्न प्रकार से प्रभावित किया है-- 

1. निम्न श्रेणी की जातियों के साथ खानपान तथा रिश्तेदारी के संबंध स्थापित करना वर्जित माना गया है।

2. निम्न जातियों के लोगों को उच्च जातियों के सामने खाट या उच्च स्थान पर बैठना वर्जित है, उनका स्थान भूमि ही माना जाता है।

3. निम्न वर्ण या जाति के लोग उच्च जाति के लोगों से स्पर्श करके नही निकल सकते है।

4. यदि उच्च जाति के लोगों का स्पर्श किसी निम्न जाति के लोगों से हो जाता है तो उसे अधर्म मानकर उच्च जाति के लोग स्नान करते है। कहीं-कहीं पर तो निम्न जाति के लोगों का दर्शन भी अधर्म माना जाता है।

5. ग्रामीण समुदाय मे निम्न जाति के लोगों को सार्वजनिक स्थान, जैसे-- मन्दिरों आदि मे जाना भी वर्जित है।

6. निम्न जाति के लोगों के हाथों से छुई हुई किसी भी चीज को ग्रहण करना भी वर्जित है।

7. निम्न जाति के लोगों को उच्च जाति के लोग जो भी वस्तु प्रदान करते है उसे भी कुछ दूरी से ही देते है।

8. यदि घरों मे जमादारनी या जमादार सफाई करने आते है तो उनके जाने के बाद उन स्थानों को धोया जाता है, जहां-जहाँ पर उनके चरण पड़े है।

9. त्यौहारों व विवाहों के अवसरों पर इनको एकान्त मे बैठकर दान-दक्षिणा या भोजन दूरी से ही दिया जाता है।

10. इस श्रेणी के लोगों के बच्चों के साथ शिक्षण संस्थाओं मे भी भेदभाव बरता जाता है। उन्हें सवर्ण लोगों के बच्चों के साथ बैठकर शिक्षा प्राप्त करने का भी अधिकार नही है।

11. निम्न जाति के लोगों को सवर्णों के साथ चौपालों, मेलों एवं अन्य मनोरंजक स्थलों पर जाकर मनोरंजन करने पर प्रतिबंध रहता है।

12. इस वर्ग को उच्च जातियों के समान खेती करना व्यापार करने पर रोक रहती है। 

13. निम्न जाति के लोगों को अच्छे वस्त्र एवं गहने पहनने पर भी प्रतिबंध रहता है। 

14. सवर्णों के उपयोग मे आने वाले कुओं से पानी भरने पर भी प्रतिबंध रहता है। 

15. अस्पृश्यों को धन संचय करने का अधिकार नही रहता है।

एक सभ्य समाज के लिए (मानव मानव मे भेद करना) अस्पृश्यता एक बहुत बड़ा कलंक है। हालांकि शिक्षा के प्रसार और सरकार के अथक प्रयासों से वर्तमान मे पहले जैसे अस्पृश्यता के प्रभाव बहुत ही कम देखे जाते है। अब इनकी स्थिति मे बहुत कुछ परिवर्तन हो चुका है, अब शायद ही किसी की अस्पृश्य जातियों को सार्वजनिक कुओं, मन्दिरों मे जाने से रोकने की हिम्मत होती होगी। 1955 ई. मे सरकार ने अस्पृश्यता निरोध कानून पारित कर अस्पृश्यता को दण्डनीय अपराध घोषित किया है और अस्पृश्य जातियों के लिए सार्वजनिक स्थलों पर पहुँचने की स्वतंत्रता भी घोषित की है।

यह भी पढ़ें; अस्पृश्यता को दूर करने के उपाय/सुझाव

संबंधित पोस्ट

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।