नि:शस्त्रीकरण क्या हैं? प्रकार और आवश्यकता के कारण


नमस्कार दोस्तो स्वागत है आप सभी का kailash Education में आज के इस लेख मे हम निशस्त्रीकरण 
पर चर्चा करने जा रहें है जिसमे हम जानेंगे निशस्त्रीकरण क्या हैं? नि:शस्त्रीकरण का अर्थ, नि:शस्त्रीकरण के प्रकारों के बारें में और नि:शस्त्रीकरण की आवश्यकता के कारण भी जानेंगे।

नि:शस्त्रीकरण क्या हैं? (nishastrikaran kya hai) निशस्त्रीकरण का अर्थ 

नि:शस्त्रीकरण (निशस्त्रीकरण) एक कार्यक्रम है जिसका उद्देश्य हथियारों के अस्तित्व और उनकी प्रकृति से उत्पन्न कुछ विशिष्ट खतरों को कम करना हैं। नि:शस्त्रीकरण से हथियारों की सीमा निर्धारित करने व उन पर नियंत्रण करने की ध्वनि निकलती है।
निरस्त्रीकरण
नि:शस्त्रीकरण (निशस्त्रीकरण) का लक्ष्य आवश्यकत रूप से नि:शस्त्र कर देना नहीं वरन् इस समय जो हथियार पाये जाते हैं उनके प्रभाव को घटा देना हैं। नि:शस्त्रीकरण कार्यक्रम को कुछ विचारकों द्वारा "शस्त्र नियंत्रण" की संज्ञा दी गई हैं। उनका मत है कि नि:शस्त्रीकरण की जगह यह शब्द ज्यादा उपर्युक्त है, क्योंकि नि:शस्त्रीकरण के अनुसार किसी भी राष्ट्र के पास किसी भी प्रकार के हथियारों का न होना हैं। पूर्ण नि:शस्त्रीकरण वर्तमान में कोई भी राष्ट्र नहीं चाहता हैं क्योंकि आत्मरक्षा, आन्तरिक व्यवस्था तथा उस प्रत्याशित बाह्रा आक्रमण से रक्षा के लिये अपने दायित्व पूर्ति हेतु कुछ सैन्य बल तो आवश्यक हैं।

नि:शस्त्रीकरण (निशस्त्रीकरण) के प्रकार (nishastrikaran ke prakar)

द्वितीय विश्वयुद्ध मे अपार जनहानि के बाद विश्व के प्रत्येक देश अपनी सुरक्षा सताए जा रही हैं। यही अतः नि:शस्त्रीकरण को महत्व दिया जा रहा हैं। स्वरूप की दृष्टि निशस्त्रीकरण के प्रकार  निम्न हैं---
1. सामान्य नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण में सभी राष्ट्र या कम से कम सभी बड़ी शस्तियाँ सहभागी होती हैं।
2. परिमाणात्मक नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण में सभी या अधिकांश प्रकार के हथियारों मे कमी लायी जाती है। 
3. परम्परागत नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण के अन्तर्गत परम्परागत हथियारों पर रोक या प्रतिबन्ध लगाया जाता है। 
4. परमाणु नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण के तहत् परमाणु हथियारों को कम या समाप्त किया जाता हैं।
5. गुणात्मक नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण में कुछ खास प्रकार के आक्रामक हथियारों को कम या समाप्त किया जाता है। 
6. समग्र नि:शस्त्रीकरण 
इस श्रेणी के नि:शस्त्रीकरण मे सभी श्रेणी के सभी प्रकार से हाथियारों को प्रतिबन्धित कर दिया जाता हैं। इसे  पूर्ण नि:शस्त्रीकरण कहा जाता हैं।

नि:शस्त्रीकरण की आवश्यकता के कारण (nishastrikaran ki avashyakta)

द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात विश्व के दो भाग-साम्यवादी, गैर साम्यवादी या पश्चिमी शक्ति मे बँट गया और दोनों के बीच की प्रतिस्पद्धा ने नि:शस्त्रीकरण को आगे बढ़ाने से रोका। दोनों ही पक्ष एक दूसरे से अधिक शक्तिशाली होने, विश्व पर अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावी होने तथा एक दूसरे को पीछे धकेलने के लिय परमाणु शस्त्रों को बढ़ाने की होड़ मे लग गए। महाशक्तियों की इस प्रतिस्पर्धा से भी नि:शस्त्रीकरण की आवश्यकता को बल मिला और अन्तर्राष्ट्रीय समाज में शस्त्रों को समाप्त करने या कम करने के प्रयास में लग गया। नि:शस्त्रीकरण की मुख्य रूप से आवश्यकता विश्व में शान्ति को बनाये रखने और युद्ध को रोकने के लिए आवश्यक हैं। लेकिन प्रश्न यह हैं कि नि:शस्त्रीकरण के लिये प्रयास क्यों कियें जायें? नि:शस्त्रीकरण की आवश्यकता के निम्न कारण स्पष्ट हैं।
1. आर्थिक एवं लोक कल्याणकारी कार्यों के लिये
शस्त्रों की होड़ करते हुए उनके निर्माण पर जो व्यय विभिन्न राष्ट्रों द्वारा किया जा रहा है, यदि वही व्यय समाज के आर्थिक एवं लोक कल्याणकारी कार्यों पर किया जाये तो शायद विश्व मे किसी मनुष्य को भूखा न सोना पड़े और न बिना वस्त्रों के कारण उसे ठण्ड से अपनी जान देना पड़े।


2. विश्व मे शांति स्थापना के लिये 
यह माना जाता है कि नि:शस्त्रीकरण की धारणा विश्व मे शांति स्थापना मे सहायक सिद्ध हो सकती हैं क्योंकि शस्त्रों का विकास देश को सैनिक दृष्टि देते हैं यह दृष्टि युद्ध की सम्भावना को बढ़ावा देती हैं। 
3. आणविक संकट से बचने के लिये
वर्तमान मे यदि आणविक युद्ध से विश्व को सुरक्षित रखना है तो नि:शस्त्रीकरण ही उसका एकमात्र रास्ता है। शस्त्रों पर रोक लगाने या कम करने से यद्यपि आक्रमणों को पूर्णतः समाप्त तो नही किया जा सकता पर उनको सीमित जरूर किया जा सकता हैं।
4. नैतिक वातावरण के लिए
नि:शस्त्रीकरण नैतिक वातावरण के लिए भी आवश्यक है। युद्ध के नैतिक अनौचित्य मे विश्वास रखने वाले विचारकों का मत है कि शस्त्र रखने का अर्थ है युध्द की मौन स्वीकृति और यह मौन स्वीकृति युध्द को बल देती है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां