har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

4/11/2021

राजकोषीय घाटा क्या है? उपयोगिता

By:   Last Updated: in: ,

रोजकोषीय घाटा क्या है? 

राजकोषीय घाटा, बजट घाटे की एक वृहत् संकल्पना है। यह धारणा केन्द्रीय सरकार की ऋणग्रस्तता पर राकोषीय क्रियाओं के प्रभाव को प्रतिबिंबित करती है। वास्त मे, राजकोषीय घाटा वह समग्र घाटा है जो सरकार की समग्र वित्तीय आय (सम्रग प्राप्तियों नही, क्योंकि समग्र प्राप्तियों मे सार्वजनिक ऋण को भी सम्मानित किया जाता है जो की आय नही है। सरकार के ऊपर आय को वापस करने का दायित्व नही रहता जबकि सरकार को ऋण वापस करना होता है) संबंधी व्यवहारों तथा समग्र व्यय-संबंधी क्रियाओं के फलस्वरूप उत्पन्न होता है। अन्य शब्दों मे, सम्रग आय के ऊपर समग्र व्यय का अधिपत्य ही राजकोषीय घाटा होता है। 

राजकोषीय घाटे का वित्तीयन 

केन्द्र सरकार के बजट मे जो राजकोषीय घाटा होता है, उसके लिए जरूरी वित्त की आपूर्ति सरकार निम्न स्त्रोतों से कर सकती है--

1. नये ऋणों की प्राप्ति

राजकोषीय घाटे की पूर्ति हेतु सरकार देशी नागरिकों एवं विदेशों से ऋण प्रदान कर सकती है, लेकिन ऐसे लिये गये ऋणों का उपयोग बहुत सोच-समझ कर सिर्फ उत्पादक कार्यों मे ही किया जाना चाहिए। अन्यथा भविष्य मे मूलधन के साथ-साथ जब ब्याज का भुगतान भी करना पड़ेगा तब सरकार को मूसीबत का सामना करना होगा। इसलिए सरकार द्वारा लिये गये ऋणों का उपयोग सिर्फ विकास की योजनाओं मे ही किया जाना चाहिए ताकि उत्पादन मे वृद्धि हो एवं भविष्य मे मूलधन के साथ-साथ ब्याज का भुगतान सुगमता से किया जा सके।

2. नये-नये नोट छापना 

राजकोषीय घाटे की वित्त व्यवस्था हेतु सरकार नये-नये नोट छापकर भी कर सकती है। इसे घाटे की वित्त व्यवस्था अथवा हीनार्थ प्रबंधन कहा जाता है। इसका उपयोग भी बहुत सोच-समझकर सीमित मात्रा मे ही करना चाहिए। अन्यथा अर्थव्यवस्था मे मुद्रा स्फीति की स्थिति पैदा हो जायेगी। मुद्रा स्फीति एक बार अनियंत्रित हो गयी तो कीमतों मे लगातार इतनी वृद्धि होगी कि वह अर्थव्यवस्था को बर्बादी के रसातल मे धकेल देगी।

राजकोषीय घाटे की उपयोगिता 

राजकोषीय घाटा अर्थव्यवस्था को दिशा-निर्देश प्रदान करने के रूप मे एक उपयोगी उपकरण हो सकता है। इसकी सहायता से अर्थव्यवस्था को निम्न दिशा-निर्देश हो सकते है--

1. यह बताता है कि अर्थव्यवस्था मे पूंजीगत व्यय की राशि मे वृद्धि की जानी चाहिए।

2. राजकोषीय घाटा सरकार को अपने व्ययों की आपूर्ति हेतु अधिक वित्तीय साधन जुटाने की तरफ संकेत देता है। 

3. यह बताता है कि सरकार का व्यय अपेक्षित उपयोगों की तरफ नही हो रहा है। अतः सरकार को अपने व्यय संबंधी योजनाओं पर पुनर्विचार कर ब्याज को उत्पादक कार्यों की तरफ मोड़ना चाहिए।

राजकोषीय घाटे के खतरे 

1. राजकोषीय घाटे की पूर्ति हेतु जब सरकार नये-नये नोट छापकर उनका उपयोग करती है तब अर्थव्यवस्था मे मुद्रा स्फीति अर्थात् बढ़ती हुई कीमतों की समस्या पैदा हो सकती है। नियंत्रण के अभाव मे यह मुद्रा स्फीति भयंकर रूप धारण कर सकती है।

2. यदि राजकोषीय घाटे का प्रमुख कारण राजस्व घाटा है तो इसका परिणाम यह होगा कि सरकार की पूंजीगत प्राप्तियों का बड़ा भाग अनुत्पादक गैर-विकास कार्यों मे खर्च हो जायेगा। इससे विकास वित्त की कमी महसूस होगी।

3. यदि सरकार राजकोषीय घाटे की आपूर्ति हेतु बड़ी मात्रा मे कर लगाती है तो इसका निजी विनियोग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा एवं विकास की गति धीमी हो जायेगी।

निष्कर्ष 

राजकोषीय घाटा देश की आर्थिक स्थिति का सूचक होता है। राजकोषीय घाटे का बढ़ता हुआ आकार देश की दयनीय आर्थिक स्थिति की तरफ संकेत करता है। राजकोषीय घाटा यह बताता है कि सरकार की कुल आय एवं कुल व्यय मे कितना अंतर है। यह अंतर ऋण लेकर पूरा किया जाता है। इस तरह राजकोषीय घाटा सरकार द्वारा चालू वर्ष मे लिये जाने वाले ऋणों की मात्रा को बताता है। ऋणों या नये-नये नोट छापने पर अत्यधिक निर्भर रहना, एक देश की अंतर्राष्ट्रीय साख हेतु भी घातक होता है। इसलिए प्रत्येक राष्ट्र को राजकोषीय घाटे को समाप्त करने हेतु हर संभव प्रयास करने चाहिए। इसके लिए सबसे सही उपाय यह है कि सरकार अपने राजस्व घाटे को समाप्त कर दे। राजस्व घाटा समाप्त होने पर राजकोषीय घाटा स्वतः समाप्त हो जायेगा।

आपको यह भी पढ़ें जरूर पढ़ना चाहिए 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।