har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

12/28/2020

पैकेजिंग के कार्य, उद्देश्य

By:   Last Updated: in: ,

पैकेजिंग के कार्य (packaging ke karya)

पैकेजिंग के कार्य इस प्रकार है--

1. पहचान 

पैकेजिंग से मध्‍यस्‍थों और उपभोक्‍ताओं को निर्माताओं के उत्‍पादों की पहचान हो जाती है इसके अतिरक्ति पैकेजिंग से उपभोक्‍ता को उत्‍पादों के सम्‍बनध में महत्‍वपूर्ण जानकारी भी प्राप्‍त हो जाती है।

पढ़ना न भूलें; पैकेजिंग का अर्थ, परिभाषा, विशेषताएं, महत्व

2. सुविधा

वे वस्‍तुएं जो अच्‍छे प्रकार से पैक की हुई होती है उत्‍पाद को लाने और ले जाने  में सुविधा रहती है इस प्रकर पैकेजिंग के इस सुविधाजनक कार्य से मध्‍यस्‍थों व उपभोक्‍ताओं दोनों  के लिए उत्‍पाद का उठाना, रखना लाना, तथा ले जाना स्‍टोर करना आदि सुविधाजनक हो जाती है।

3. संग्रहण 

उत्पदों के संग्रहण के लिए भी पैकेजिंग बहुत आवश्‍यक है जिससे कि उत्‍पाद संग्रहण-ग्रह में अधिक स्‍थान भी न ले और सुरक्षित भी रहे।

4. सुरक्षा

पैकेजिंग का प्रमुख कार्य उतपाद की सुरक्षा करना है अर्थात वस्‍तु को टूट-फूट धुल,पानी, नमी व कीडे -मकोडों से बचाना है। पैकेजिंग सुरक्षा का लाभ उत्‍पादक व ग्राहक सभी को मिलता है। 

5. विज्ञापन करना 

जब तक उपभोक्‍ता के घर में उत्‍पाद के पैकिंग का सामान पड़ा रहता है तब तक वह उत्‍पाद के विज्ञापन का कार्य करता है क्योंकि वह उपभोक्‍ता को उस उत्‍पाद की याद  दिलाता रहता है।

6. लाभ- संभावनाएं

एक अच्‍छे व प्रभावी पैकेजिंग के करण उपभोक्‍ता उस वस्‍तु का उचित मूल्‍य देने के लिए तैयार हो जाता है जिसके परिणामस्‍वरूप लाभ कमाने की संभावनाएं बढ जाती है। इस प्रकार यह पैकेजिंग का अन्तिम कार्य है।

पैकेजिंग के उद्धेश्‍य (packaging ke uddeshya)

पैकेजिंग के उद्धेश्‍य इस प्रकार है--

1. पैकेजिंग का पहला उद्धेश्‍य उत्‍पाद/वस्‍तु को धुल-मिट्टी, नमी, पानी, टूटन-फूटन, कीडे-मकोडों से सुरक्षा प्रदान करता है।

2. पैकेजिंग का दूसरा उद्धेश्‍य उत्‍पाद की पहचान कराना है।

3. पैकेजिंग का तीसरा उद्धेश्‍य उत्‍पाद/वस्‍तु में नवीनता लाना है।

4. उपभोक्‍ता को उत्‍पाद के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी देना, जैसे उत्‍पाद के निर्माण की तिथि एवं उपभोग की अन्तिम तिथि, उत्‍पाद की निर्माण विधि ,उत्पाद के उपयोग की विधि आदि।

5. उत्‍पाद के भण्‍डारण ,लाने ले जाने ,उठाने एवं रखने  में सुविधा, यह पैकेजिंग का पांचवा उद्धेश्‍य है।

6. उत्‍पाद/वस्‍तु  में मिलावट को रोकना।

7. पैकेजिंग का यह सातवां उद्धेश्‍य उत्‍पाद को आकर्षक बनाना है।

8. उत्‍पाद विभिन्‍नीकरण में सहायता करना।

9. यह पैकेजिंग का अन्तिम उद्धेश्‍य है  उत्‍पाद के विज्ञापन एवं विक्रय संवर्धन कार्यक्रम में सहायता करना आदि।

शायद यह आपके लिए काफी उपयोगी जानकारी सिद्ध होगी

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार, सवाल या सुझाव हमें comment कर बताएं हम आपके comment का बेसब्री इंतजार कर रहें हैं।