har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

4/10/2021

बजट के उद्देश्य, महत्व

By:   Last Updated: in: ,

बजट के उद्देश्य 

बजट के माध्यम से कई उद्देश्यों को प्राप्त करने की कोशिश की जाती है। जिसमे प्रमुख उद्देश्य इस प्रकार है--

1. नीति निर्माण के लिए बजट ढांचा तैयार करता है। इसके लिए उद्देश्यो तक पहुंचने के लिए जो कार्य करना होगा, उनके संबंध मे निर्णय लिया जाता है। निर्णय यह लेना होता है कि विभिन्न प्रतिस्पर्धी वैकल्पिक प्रस्तावों मे से किसे चुना जाए ताकि विशेष उद्देश्यों को प्राप्त किया जा सके। इस बात का भी निर्णय लेना है कि क्या अनेक उद्देश्यों को एक साथ प्राप्त किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें; बजट किसे कहते है? परिभाषा, प्रकार

2. नीति को लागू करने का बजट एक माध्यम है। यहां कार्यक्षमता तथा मितव्ययिता के मापदण्ड को लागू किया जाता है अर्थात् नीति-संबंधी निर्णयों को न्यूनतम लागतों द्वारा प्राप्त करने का प्रयत्न किया जाता है।

3. बजट कानूनी नियंत्रण का एक माध्यम है। बजट संबंधी सभी निर्णय अधिनियमों का रूप लेते है। कानूनी नियंत्रण पर बल देने का कारण है अधिकारों का दुरूपयोग रोकना तथा सार्वजनिक फण्ड को गलत प्रयोग से बचाना।

4. बजट दस्तावेज अतीत की क्रियाओं, वर्तमान निर्णयों तथा भावी सम्भावनाओं के विषय मे लोगो को जानकारी प्रदान करने का स्त्रोत हो सकता है। बजट प्रक्रिया कार्यपालिका तथा विधायिका को अवसर प्रदान करती है कि वे अपने निर्णयों तथा कार्यों के औचित्य को समझा सके।

उपरोक्त विवेचन से स्पष्ट है कि बजट के अनेक उद्देश्य होते है तथा कभी-कभी उनमे संघर्ष हो सकता है। चूंकि सभी उद्देश्य महत्वपूर्ण है, अतः उनसे आपसी संघर्ष को समझौते के द्वारा हल करना जरूरी है।

बजट का महत्व 

बजट सरकार के वित्तीय प्रशासन का केन्द्र बिन्दु होता है। इसके सहारे प्रस्तावित व्यय को संभावित आय के साथ संतुलन किया जाता है। उपक्रमों और कार्यों को जनता के सामने लाया जाता है तथा इन कार्यों के लिए वित्त का प्रबंध किया जाता है। यह एक ऐसा आधार है जिसके बिना देश की सामाजिक तथा सार्वजनिक उन्नति नही हो सकती। वित्तीय प्रशासन के अंतर्गत बजट का महत्व अग्रलिखित विवरण से स्पष्ट से स्पष्ट किया जा सकता है--

1.  हिसाबदेयता 

भारत जैसे राष्ट्र मे सरकार जनता के प्रति इस बात के लिए हिसाबदेय होती है कि सार्वजनिक धन का उपयोग किस प्रकार किया गया है और इसके पूर्व स्वीकृतियों का पालन किया गया है या नही। बजट के माध्यम से इस उद्देश्य की पूर्ति हो जाती है।

2. आर्थिक क्रियाओं का विश्लेषण 

बजट से देश मे विविध आर्थिक क्रियाओं का विश्लेषण किया जा सकता है। उदाहरणा के लिए यह मालूम किया जा सकता है कि सरकारी क्रियाओं से राष्ट्रीय आय मे कितनी वृद्धि हुई है अथवा देश के पूंजी निर्माण मे सार्वजनिक क्षेत्र का कितना भाग है आदि।

3. आर्थिक नियोजन मे सहायक 

वर्तमान समय मे प्रत्येक देश मे किसी न किसी रूप मे आर्थिक नियोजन और आर्थिक विकास के कार्यक्रमों को अपनाया जा रहा है। नियोजन के लिए वित्तीय साधन जुटाने और नियोजन मे निर्धारित आर्थिक नीतियों को लागू करने मे बजट की उल्लेखनीय भूमिका है।

4. आर्थिक ओर सामाजिक उन्नति का साधन 

बजट केवल आय-व्यय का विवरण मात्र ही नही है, परन्तु देश की आर्थिक व सामाजिक उन्नति के लिए सरकार हाथ मे एक-एक शक्तिशाली अस्त्र है। अपनी बजट संबंधी नीति से देश मे उद्योग तथा कृषि को आर्थिक सहायता प्रदान करके तथा उनकी की दर मे कमी करके उत्पादन को प्रोत्साहित किया जा सकता है। इसी प्रकार प्रगतिशील करों के द्वारा धनी व्यक्तियों से धन प्राप्त करके और उसे निर्धनों पर व्यय करके धन की असमानता को दूर किया जा सकता है।

5. आर्थिक नियंत्रण का साधन 

बजट वह अस्त्र है जिसके द्वारा विधानसभा कार्यकारिणी के कार्य पर नियंत्रण रखती है और उसके लिए नीति का निर्माण करती है। बजट की अनुपस्थिति मे प्रत्येक मंत्रालय और विभाग मनमाने ढंग से कार्य करने लगेगा और सार्वजनिक आय का समुचित उपयोग नही हो पायेगा। बजट किसी भी देश मे आय और व्यय की क्रियाओं का निर्देशन करता है और उसके बिना सरकारी कार्यों मे गड़बड़ी करेगा। अमेरिका का उदाहरण हमारे सामने मौजूद है, जबकि 1919 तक वहां कोई बजट प्रथा नही थी और प्रत्येक विभाग अपनी वार्षिक आय तथा व्यय का अनुमान क्रांग्रेस के सम्मुख रखता था। क्रांग्रेस के लिए यह संभव नही हो सका कि वह प्रत्येक विभाग की लंबी चौड़ी मांग को पूरा करे। अतः 1921 के बाद वहां बजट प्रथा चालू की गई।

6. आर्थिक स्थिरता का साधन 

प्रो. कीन्स का विचार है कि सरकारी बजट का महत्व यह है कि वह अर्थव्यवस्था को आर्थिक क्रिया के ऊंचे स्तर पर स्थिर रखता है। अर्थव्यवस्था को स्थिर करने के लिए राज्य को तेजीकाल मे "बेशी बजट" और मंदीकाल मे "घाटे का बजट" बनाना चाहिए। चूंकि पूंजीवाद अर्थव्यवस्था मे मूल्यों मे कमी प्रधानतः व्यक्तिगत विनियोगों मे कमी के कारण आती है, इसीलिये बजट के माध्यम से मूल्यों को सहारा देकर रोजगार व राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था को स्थायित्व प्रदान किया जा सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।