har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

10/28/2021

कोलाज किसे कहते हैं?

By:   Last Updated: in: ,

कोलाज किसे कहते हैं? 

विभिन्न अनुपयोगी वस्तुओं अथवा कागज को गोंद, फैवीकॉल एवं अन्य चिपकाने योग्य पदार्थ से कोई कलात्मक आकार या रूप प्रदान करना ही कोलाज है।" इसके अन्तर्गत कागज, कपड़े , तीलियाँ, माचिस, सिगरेट की डिब्बियाँ, टूटे हुए विभिन्न काँच, मिट्टी सभी तरह के की वस्तुएं एवं अन्य उपयोगी वस्तुएं आती हैं। इन सभी को गोंद, फैवीकॉल या अन्य चिपकाने योग्य पदार्थ से चिपकाकर, लगाकर, उभारकर अपनी इच्छानुसार अन्तराल में इस तरह संयोजित किया जाये कि किसी भी तरह के कलात्मक रूप की अभिव्यक्ति हो सके। इसे ही कोलाज का नाम दिया गया है। यह आधुनिक कला की एक प्रचलित शैली है। कोलाज को अग्रलिखित दो रूपों में स्पष्ट किया जा सकता है-- 

1. पेपर कोलाज

सभी तरह के रंगीन तथा सादे कागज के द्वारा पेपर कोलाज बनाया जाता है। कागजों को लेही एवं गोंद से चिपकाकर कलात्मक रूप प्रदान किया जाता है। इस तरह के कलात्मक रूपों के लिए पूर्व में विचार कर हम कोई भी डिजायन, (आलेखन) मानवाकृति, पशु-पक्षी, प्रकृति आदि को कागज के छोटे-छोटे टुकड़ों द्वारा बना सकते हैं। दूसरे तरह के पेपर कालाज हेतु बड़े-बड़े आकार के कागजों को चिपकाकर कोई भी आधुनिक कला का रूप भी सृजित किया जा सकता है। इसमें संयोजन की बहुत ज्यादा सम्भावनाएं हैं। 

2. मिश्रित कोलाज

मिश्रित कोलाज में हम कागजों के साथ अन्य अनुपयोगी वस्तुएं मिलाकर, चिपकाकर तथा जोड़कर विविध अनुपयोगी वस्तुओं को कलात्मक रूप प्रदान कर सकते हैं। लकड़ी के छोटे-छोटे टुकड़ों को रंगकर, जलाकर अन्य वस्तुएं, जैसे-- शीशा, चीनी-मिट्टी के टुकड़े एवं शीशी के ढक्कनों को इस तरह संयोजित करना कि कोई विशेष रूप का सृजन हो सके वह मिश्रित कोलाज के अन्तर्गत आता है। इसमें विभिन्न तरह की प्लास्टिक की वस्तुएं तथा मोमजामा के थैले एवं धागे आदि को भी जलाकर, भिगोकर चिपकाया अथवा जोड़ा जा सकता है। इनमें भी संयोजन की बहुत संभावनाएं हैं। कोलाज कई तरह से बनाये जा सकते हैं। यह अनलिखित हैं-- 

(अ ) कागजों द्वारा (रंगीन, सादे कागज)। 

(ब) धागे तथा कपड़ों द्वारा। 

(स) विभिन्न तरह के शीशे, चीनी मिट्टी के टुकड़ों द्वारा। 

(द) विविध लकड़ी के टुकड़ों द्वारा। 

(ई) बाजार में उपलब्ध सजावट की सामग्री द्वारा। 

(फ) लड़की को जलाकर। 

(ज) प्लास्टिक की थैलियों द्वारा तथा 

(झ) विविध तरह के अनाज के दानों को लगाकर (चिपकाकर) कोलाज बनाना।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

आपके के सुझाव, सवाल, और शिकायत पर अमल करने के लिए हम आपके लिए हमेशा तत्पर है। कृपया नीचे comment कर हमें बिना किसी संकोच के अपने विचार बताए हम शीघ्र ही जबाव देंगे।