har din kuch naya sikhe

हर दिन कुछ नया सीखें।

6/17/2021

अगर कोई लड़का परेशान करें या छेड़े तो क्या करें?

By:   Last Updated: in: ,

अगर कोई लड़का परेशान करें या छेड़े तो क्या करें?

Agar koi ladka pareshan kare to kya karen;दोस्तों आपका बहुत-बहुत स्वागत है हमारे नए आर्टिकल में और हम आशा करते हैं कि आपके लिए यह आर्टिकल बेहद जरूरी साबित होगा क्योंकि इस आर्टिकल में हमने आज एक महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा की है और बताया है कि अगर कोई लड़का परेशान करें तो क्या करें? कोई लड़का छेड़े तो क्या करें?

दोस्तों! पुरूष प्रधान समाज में आज महिलाएं कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। हर कामयाब महिला की एक अपनी ही संघर्ष की कहानी है। एक महिला को अपने जीवन में उस काल से भी गुजरना पड़ता है जब कुछ आवारा किस्म के लड़के छेड़छाड़ जैसी हरकते करते हैं। भारत में ऐसी घटनाएं आम देखी जाती हैं। हर थाने में ऐसे कई मामले दर्ज हैं, जहां छेड़छाड़ की शिकायतें महिलाएं देती हैं पर समाज में घूम रहे अपराधी किस्म के लोग ना तो पुलिस से डरते है और ना ही समाज की शर्म करते हैं।

अगर कोई लड़का परेशान करें या छेड़े तो क्या करें?

ऐसे में सवाल ये उठता है कि अगर कोई लड़का किसी लड़की को परेशान करता है तो उस लड़की को क्या करना चाहिए जिससे वो लड़का छेड़छाड़ जैसी हरकतें ना करे--

1. लड़की को लड़के को करना चाहिए अनसूना और अनदेखा

इस दौरान सबसे पहले तो लड़की को उस लड़के को अनसूना ही कर देना चाहिए। लड़की को ऐसा दिखाना चाहिए कि वो उस लड़के में बिल्कुल रूची नहीं रखती है। लड़की के ऐसा करने से हो सकता है कि कुछ समय बाद लड़का खुद ही पीछे हट जाए और लड़की को परेशान करना बंद कर दे। लेकिन अगर लड़की शुरू में ही उस लड़के के छेड़ने पर अपनी प्रतिक्रिया दे देती है तो हो सकता है कि लड़का उसको लंबे समय तक परेशान करता रहे।

2. लड़की को करना चाहिए पहले अपने स्तर पर मुकाबला

आज की लड़की वो लड़की बिल्कुल नहीं है जो कभी चार दीवारी में बंद रहकर ही अपना पूरा जीवन निकाल देती थी। आज महिलाएं घर से बाहर निकलकर पुरूषों को टक्कर देती हैं। ऐसे में अगर ऐसी परिस्थिति उत्पन्न होती है जहां अगर कोई लड़का किसी लड़की को परेशान करता है तो सबसे पहला कदम उस लड़की को अपने स्तर पर ही उस लड़के का मुकाबला कर लेना चाहिए। ताकि आगे समस्या और ना बड़े और उस लड़के को भी पता लग जाए कि वह जो कर रहा है वो बर्दाश करने योग्य नहीं है। ऐसे में लड़की उस लड़के को सीधा पुछ भी सकती है और बदतमीजी बढ़ने पर सरेआम उसको सबक भी सिखा सकती है।

3. लड़की को लेनी चाहिए अपने दोस्तों की मदद

लड़कियों के साथ छेड़खानी के मामले कई सामने आते हैं ऐसे में अगर लड़की चाहे तो वो अपने मित्रों की मदद ले सकती है और जो लड़का उसको परेशान कर रहा है उसको सबक सिखा सकती है। इससे एक ओर जहां परेशान करने वाले लड़के के मन में डर पैदा होगा साथ ही वो किसी दूसरी लड़की के साथ ऐसा करने से पहले सौ बार सोचने को मजबूर हो जाएगा।

4. अपने साथ हमेशा रखें सुरक्षा से संबंधित चीजें

आज लड़कियों को काम करने के लिए घर से बाहर निकलना ही पड़ता है तो ऐसे में लड़कियों को अपने पास हर समय सुरक्षा से संबंधित चीजें जरूर रखनी चाहिए। जैसे मिर्ची पाउडर या फिर कोई स्प्रे और सबसे जरूरी चीज अपने साथ मोबाइल जरूर रखें। अगर कोई लड़का हद से ज्यादा बड़ जाए तो उसपर स्प्रे करके मौके से भाग जाए। अपने किसी साथी या फिर परिवार वालों को इसकी सूचना दे ताकि मौके पर लड़की के अपने उसे किसी बड़ी दुर्घटना होने से बचा सकें।

5. लड़के के परिजनों को बता दें

ऐसा भी कई बार देखा जाता है कि लड़की के गली मोहल्ले के लड़के ही उसे परेशान करते हैं ऐसे में अगर लड़की चाहे तो उस लड़के के परिजनों को उसके बारे में सबकुछ बता सकती है। इससे लड़के के परिवार वाले उसे सुधारने की कोशिश करेंगे साथ ही वो भी अगली बार ऐसी हरकत नहीं करेगा।

6. अपने भाई या फिर माता-पिता को अवगत करवाएं

कई लड़कियां इस डर के मारे अपने परिवार में कुछ नहीं बताती कि कहीं उसके घर वाले बाहर जाने पर प्रतिबंध ना लगा दें। लड़कियों की ये ही भूल अपराध को जन्म देती है अगर किसी लड़की को कोई लड़का परेशान करता है कॉलेज, ट्यूशन या फिर कहीं भी तो लड़की को अपनी जिम्मेदारी के साथ अपने परिवार वालों को अवगत करवा देना चाहिए। अगर वो अपने माता-पिता को नहीं बता पा रही है तो अपने भाई या बहन की मदद भी ले सकती है। अगर लड़की के परिवार वालों को सबकुछ पता होगा तो वो भविष्य में होने वाली किसी भी घटना से वाकिफ होंगे। साथ ही, उस लड़के के खिलाफ भी कोई कड़ा एक्शन लेने के बारे में सोच विचार करेंगे। अगर लड़की डर-डर कर ही सबकुछ सहती रहती है तो हो सकता है कि उस लड़के को ओर हवा मिल जाए और उसकी हरकतें दिन प्रतिदिन बढ़ जाएं। ऐसी परिस्थिति ही पैदा ना हो तो इसके लिए जरूरी है कि लड़की के परिवार वालों को सबकुछ पता होना चाहिए।

7. किसी संस्था की भी ली जा सकती है मदद

आज महिलाओं की लड़ाई के लिए समाज में कई संस्थाएं काम कर रही हैं उनका एक ही मकसद होता है महिलाओं को समाज में रहने का पूर्ण रूप से अधिकार मिले और किसी महिला के साथ अगर गलत होता है तो उसके साथ गलत करने वालों को सजा मिल सके। ऐसे में अगर कोई लड़की उस लड़के से अपना पीछा छुड़वाना चाहती हैं जो उसे परेशान करता है या फिर छेड़छाड़ करता है। तो वह लड़की ऐसी संस्थाओं की मदद भी ले सकती है इन संस्थाओं के सदस्य आपकी जरूर मदद करेंगे। इन संस्थाओं के लिंक काफी ऊपर तक होते हैं जो किसी भी हद तक जाकर आपको इंसाफ दिलवाने का काम करेंगे। ये संस्थाएं दिन रात ऐसे कई केसों को निपटारा कर आरोपियों को सजा दिलवाती हैं। ये संस्थाएं सुरक्षा की जिम्मा भी लेती हैं और अगर कोई लड़की ऐसा सोचती है कि इसके लिए काफी पैसा खर्च करना पड़ता है तो आपको बता दें कि, ऐसी कई संस्थाएं हैं जो बिना किसी पैसे के काम करके महिलाओं की हक की लड़ाई लड़ रही हैं।

8. नियम कायदों की जानकारी होना जरूरी

आज अधिकतर मामले ऐसे भी सामने आते हैं जहां महिलाओं को अपने नियम कायदों के बारे में पता ही नहीं। जिससे वो अपराध सहती रहती हैं और एक दिन ऐसा आता है कि उनके पास पछताने के अलावा कुछ ओर नहीं रहता। आज महिलाओं का जागरूक होना बेहद जरूरी है। महिला सश्क्तिकरण को बढ़ावा मिल रहा है और सरकार, प्रशासन भी महिलाओं की सुरक्षा को लेकर लगातार कड़े कदम उठा रही हैं।

9. लड़कियों को पुलिस की लेनी चाहिए मदद

जब कोई लड़की अपने स्तर पर सभी कोशिशें कर ले तो उसके बाद आखिर में लड़की को पुलिस की मदद जरूर लेनी चाहिए। कई बार ऐसा भी देखा जाता है कि लड़की के माता-पिता ही समाज के डर के कारण पुलिस को सूचित नहीं करते उन्हें ऐसा लगता है कि अगर वो पुलिस को ऐसी शिकायत देंगे तो उनकी समाज में छवि खराब हो जाएगी। लेकिन वो भूल जाते हैं कि गलती उनकी बेटी की नहीं बल्कि उस लड़के की है जो उनकी परिवार की लड़की से छेड़छाड़ जैसा घिनौना अपराध कर रहा है। यहां तक भारत में तो महिला सुरक्षा को लेकर एक आपातकालीन नंबर तक जारी है जिसपर चाहे कोई भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। वहीं पुलिस इस बात का भी ध्यान रखती है कि लड़की या फिर उसके परिवार की छवि पर कोई प्रभाव ना पड़े।

10. हर समस्या का करे मुकाबला

इसमें कोई दोहराए नहीं कि लड़कियों को इस दौरान मानसिक रूप से परेशान रहना पड़ता है उनके दीमाग में उस लड़के प्रति खौफ तक पैदा हो जाता है। लेकिन ऐसे में लड़की को डरना बिल्कुल भी नहीं चाहिए बल्कि ऐसे रास्ते खोजने चाहिएं कि जिससे वो उस लड़के को सबक सिखा सके। इसके लिए भी तैयार रहना चाहिए कि वो किसी भी परिस्थिति में अपने कदम पीछे नहीं लेगी। अगर वो डटकर उस लड़के का मुकाबला करती है और उसको उसके किए की सजा दिलावाने में कामयाब हो जाती है तो इससे उसकी कभी भी ऐसा करने की हिम्मत नही होगी। कि वो अपने पूरे जीवन में किसी लड़की को परेशान करे। साथ ही, समाज में घूम रहे ओर भी ऐसे लड़के जो लड़कियों के साथ छेड़खानी करना अपना शौंक रखते हैं उन्हें भी सबक मिलेगा कि वो किसी लड़की को ना छेड़े और अगर वो ऐसा करते भी हैं तो उनको उनके किए की सजा भुगतनी ही पड़ेगी। वहीं ऐसी कईं लड़कियों का भी हौसला बढ़ेगा जो किसी लड़के के छेड़खानी करने से परेशान हो चुकी हैं। लेकिन डर के कारण किसी को बताती तक नहीं।

11. मानसिक और शारीरिक रूप से रखें मजबूत

अगर किसी भी मुसीबत का सामना करना है तो इसके लिए इंसान का सबसे पहले खूद स्वस्थ होना बेहद जरूरी है। ऐसे में लड़की को अपनी आत्मरक्षा के लिए मानसिक औऱ शारीरिक तौर पर मजबूत होना चाहिए वो इतनी सक्ष्म होनी चाहिए कि अगर कोई लड़का उसके साथ छेड़छाड़ या उसे परेशान करता है तो वो उसको मौके पर ही सबक सिखा सके। जिससे वो लड़का वहां से भाग खड़ा हो और समझ जाए कि वो जिससे पंगा ले रहा है वो उसकी जान पर भारी पड़ सकती है।

तो दोस्तों देखा आपने यह थी कुछ ऐसी बातें, जिससे हमारे समाज में लड़कियां सुरक्षित रह सकती हैं। इस आर्टिकल के माध्यम से हमने यहां जो बातें बताई है, बताई गई इन बातों को ध्यान रखने पर लड़कियां परेशान करने वाले लड़कों से बच सकती है। 

दोस्तों! हमें उम्मीद है कि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी होगी और आपको कुछ सीखने को मिला होगा। इस पोस्ट में हमने कई ऐसी बातें बताई हैं जिसके बारे में आपने शायद कभी नहीं सोचा होगा लेकिन अब आप इस बारे में अच्छी जानकारी प्राप्त कर चुके हैं। अगर आपका इस पोस्ट से संबंधित कोई प्रश्न हों तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं।

इसके अलावा हमें यह भी बताएं कि इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके लिए यह कितनी लाभदायक रही और आप अपने जीवन में इसे किस तरह से प्रयोग करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार, सवाल या सुझाव हमें comment कर बताएं हम आपके comment का बेसब्री इंतजार कर रहें हैं।