7/30/2020

महामारी किसे कहते है?

By:   Last Updated: in: ,

महामारी किसे कहते है (mahamari kise kahate hain)

महामारी को किसी ऐसे रोग अथवा स्वास्थ्य सम्बन्धी अन्य घटना के रूप मे परिभाषित किया जाता है जो असाधारण अथवा अप्रत्याशित रूप से बड़े पैमाने पर फैल जाती है। महामारी अथवा प्रकोप की स्थिति तब होती है जब किसी रोग विशेष से ग्रस्त मामलों की संख्या अनुमाना से बहुत अधिक हो जाती है, इससे आपातकालीन नियंत्रण उपाय करना जरूरी हो जाता है। कोई भी महामारी तेजी के साथ अथवा अचानक फैल सकती है। किसी रोग विशेष से ग्रस्त व्यक्तियों की संख्या मे वृद्धि होने से महामारी का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है। कुछ मामलों मे रोगवाहक प्रजनन स्थलों मे वृद्धि अथवा रोग संवाहकों (प्लेग पिस्सुओं द्वारा चूहों तक ले जाया जाता है) की मृत्यु के आधार पर भी महामारी का पूर्वज्ञान या पूर्वानुमान लगाया जा सकता है।

महामारी के कारण व प्रभाव

महामारी या प्रकोप का प्रमुख कारण विषाणु, जीवाणु, प्रोटोजोआ अथवा कवक होते है। खाद्य पदार्थ एवं पेयजल का संदूषण, बारिश के मौसम मे मच्छरों की वृद्धि पर्यटक एवं प्रवासी लोगों की अत्यधिक भीड़ तथा वातावरण पर प्राकृतिक आपदाओं का प्रभाव भी महामारी का प्रकोप लाता है।
महामारियाँ रोग एवं मृत्यु के लिए जिम्मेदार होती है। महामारियों से समाज मे विघटन होता है और आर्थिक नुकसान भी। महामारियों से ऐसे लोग अधिक प्रभावित होते है जो कुपोषित होते है या अस्वच्छकर हालातों मे रहते है, जहाँ जलआपूर्ति घटिया होती है एवं जहाँ पर स्वास्थ्य सेवाओं की सुलभता नही होती, जिन व्यक्तियों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है वे महामारी का ज्यादा शिकार (प्रभावित) होते है। यदि किसी स्थान पर प्राकृतिक आपदा (ज्वालामुखी, बाढ़, चक्रवात, सुनामी) पहले आ चुकी हो तो महामारी का प्रकोप जीवन के लिए भयावह स्थितियाँ उत्पन्न कर देता है।

कोई टिप्पणी नहीं:
Write comment

अपने विचार comment कर बताएं हम आपके comment का इंतजार कर रहें हैं।